December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

सेना के हमले में चार पाक चौकियां हुर्इं नेस्तनाबूद, एलओसी के पार किए हमले में कई हताहत

सुभाष वर्ष 2008 में बीएसएफ में शामिल हुए थे और उनके परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटे हैं।

Author श्रीनगर | October 30, 2016 02:21 am
सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) (पीटीआई फोटो)

सेना ने शनिवार को कहा कि उसने उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के केरन सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार जबरदस्त हमले में चार पाकिस्तानी चौकियों को तबाह कर दिया। सेना के एक अधिकारी ने कहा, ‘केरन सेक्टर में जबरदस्त आग्नेयास्त्र हमले में चार पाकिस्तानी चौकियों को नेस्तनाबूद कर दिया।’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की तरफ भारी नुकसान हुआ है और कई हताहत हुए हैं। हालांकि, उन्होंने ज्यादा ब्योरा नहीं दिया। दिन में केरन सेक्टर में पाकिस्तानी सैनिकों ने संघर्षविराम का फिर उल्लंघन किया। पाकिस्तानी गोलाबारी के जवाब में भारतीय सेना ने यह हमला किया। इससे पहले नियंत्रण रेखा के पास माछिल सेक्टर में पाकिस्तानी सेना की गोलीबारी में बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया। बीएसएफ के एक अधिकारी ने कहा कि महाराष्ट्र के सांगली में रहने वाले 28 वर्षीय कांस्टेबल कोली नितिन सुभाष पाकिस्तानी सुरक्षा बलों की गोलीबारी में शनिवार सुबह शहीद हो गए।

सुभाष वर्ष 2008 में बीएसएफ में शामिल हुए थे और उनके  परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटे हैं। उनके एक बेटे की आयु चार साल है और एक बेटा दो साल का है। यह घटना ऐसे समय में हुई, जब कुछ ही घंटे पहले एक बर्बर घटना में सेक्टर में आतंकवादियों ने पाकिस्तानी सेना की ओर से की जा रही गोलीबारी की आड़ में नियंत्रण रेखा पार की और एक भारतीय जवान मंदीप सिंह की हत्या कर उसके शव को विकृत कर दिया, जिसके बाद भारतीय सेना ने चेतावनी दी थी कि ‘इस घटना का उचित जवाब दिया जाएगा।’ जवान के शव को क्षतविक्षत किए जाने की जघन्य घटना को लेकर कुरुक्षेत्र में जवान के गांव के लोगों में आक्रोश पैदा हो गया। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने जवान के पार्थिव शरीर के साथ हैवानियत का व्यवहार किए जाने की निंदा करते हुए इसे ‘नृशंस’ करार दिया जबकि कांग्र्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा ने इसे ‘विकृत व्यवहार’ बताया।

जवान के परिवार ने मांग की कि आतंकवादियों को संरक्षण देने के लिए पाकिस्तान को सबक सिखाया जाना चाहिए, जबकि सेना के पूर्व अधिकारियों ने दुख प्रकट किया है। जवान के भाई संदीप सिंह ने मांग की है कि परिवार एक सिर के बदले 10 पाकिस्तानी सिर चाहता हैपाकिस्तान सेना की गोलीबारी की मदद से आतंकवादियों ने बीती रात नियंत्रण रेखा पार किया और सिपाही मंदीप सिंह की हत्या कर दी और उनके शरीर को क्षत-विक्षत कर दिया। इस 30 वर्षीय शहीद के परिवार के सदस्यों पर गम का पहाड़ टूट पड़ा। मंदीप की दो साल पहले शादी हुई थी। उनकी पत्नी प्रेरणा हरियाणा पुलिस में हेड कांस्टेबल हैं और कुरूक्षेत्र जिले के शाहबाद मरकांडा में तैनात हैं। मंदीप के पिता ने कहा, ‘यह उसकी ड्यूटी थी, उसने इसे निभाया। उसने अपने जीवन की कुर्बानी दी है। हमें पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए।’

पे्ररणा ने कहा कि पाकिस्तान को आतंकवादियों को संरक्षण देने के लिए सबक सिखाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मंदीप छह महीने पहले छुट्टी पर आए थे और वह दिवाली पर फिर आने वाले थे। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा, ‘इससे नृशंस कुछ नहीं हो सकता। मैंने हमेशा कहा है कि सैनिकों के मानवाधिकार को किसी भी दूसरे व्यक्ति के मानवाधिकार के ऊपर तवज्जो मिलनी चाहिए।’

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 30, 2016 2:21 am

सबरंग