ताज़ा खबर
 

नोटबंदी के बाद 20,000 रुपए से ज्यादा का गिफ्ट लेनदेन किया है तो आयकर विभाग को देनी पड़ेगी जानकारी

पहले आयकर कानून के तहत 50 हजार रुपए या इससे ज्यादा राशि के गिफ्ट देने पर टैक्स भरना पड़ता था ।
Author नई दिल्ली | February 13, 2017 19:25 pm
आयकर भवन (FILE PHOTO)

देश में केंद्र सरकार ने नोटबंदी क्या की लोगों की जान आफत में पड़ गई। लोगों ने सोचा कि 31 दिसम्बर के बाद उनकी आफत खत्म हो जाएगी लेकिन आयकर विभाग ने एक घोषणा और कर दी जिससे लोग फिर परेशान हो गए हैं। आयकर विभाग का कहना है कि अगर कोई किसी को बीस हजार रुपए से ज्यादा का गिफ्ट देगा तो उसे जांच का समाना करना पड़ेगा। आयकर विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि नोटबंदी के बाद बड़े पैमाने पर हुए पैसों की लेनदेन को लेकर चल रही विभाग की पड़ताल को ध्यान में रखते हुए ऐसा किया जा रहा है। जो भी व्यक्ति अपने मित्र या परिजन से 20 हजार रुपए से ज्यादा का गिफ्ट लेता या देता है तो उसे आयकर विभाग को इस मामले में पूरी जानकारी देनी होगी। उन्होंने यह भी बताया कि अगर वह व्यक्ति इसके बारे में पूछे जाने को दौरान सही जानकारी नहीं देता है तो उसके खिलाफ जांच की जाएगी।

जानकारी के अनुसार जिस दिन से नोटबंदी शुरु हुई यानि कि 8 नवंबर से लेकर 31 दिसंबर तक के दौरान जिस किसी भी व्यक्ति ने नकद या गिफ्ट के जरिए 20 हजार से ज्यादा का लेनदेन किया है तो उसपर आयकर विभाग जांच सकता है। आयकर विभाग के अधिकारी का कहना है कि लोगों को गिफ्ट देने वाले का पैन नम्बर भी हमें देना होगा जिससे कि हम पता लगा सकें कि दिए गए गिफ्ट के लिए राशि कहां से जुटाई गई है।

आपको बता दें कि नोटबंदी के दौरान बैंकों में लोगों द्वारा अच्छी-खासी राशि जमा कराने के बाद से ही आयकर विभाग ने स्वच्छ धन अभियान शुरु किया हुआ है। आयकर विभाग ने ऐसा 18 लाख लोगों का पता किया है जिनकी नोटबंदी के दौरान जमा कराई गई राशि उनके द्वारा भरे गए टैक्स में मेल नहीं खाती है।

गौरतलब है कि पहले आयकर कानून के तहत 50 हजार रुपए या इससे ज्यादा राशि के गिफ्ट देने पर टैक्स भरना पड़ता था लेकिन आयकर विभाग के इस नए कानून के बाद ऐसा लग रहा है कहीं अब 20 हजार रुपए के गिफ्ट खरीदने के बाद लोगों को टैक्स न देना पड़ जाए।

देखिए वीडियो - आयकर विभाग ने बेनामी संपत्ति के तहत शुरु की कार्रवाई; 87 को नोटिस जारी किए तो 42 की संपत्ति कुर्क करने का आदेश

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. J
    jaya
    Feb 13, 2017 at 2:46 pm
    earning saving spending every thing is crime
    (0)(0)
    Reply