ताज़ा खबर
 

एनडीटीवी पर आयकर का शिकंजा, स्वामित्व वाली कंपनी के 1.88 करोड़ शेयर जब्त

एनडीटीवी ने किसी भी तरह के विवाद की जानकारी नहीं दी है कि आखिर किस विवाद की वजह से आय कर विभाग ने यह कार्रवाई की है।
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने एनडीटीवी के स्वामित्व वाली कंपनी आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के सभी शेयर औपबंधिक रूप से जब्त कर लिए हैं।

आय कर विभाग ने एनडीटीवी पर शिकंजा कस दिया है। एनडीटीवी के स्वामित्व वाली कंपनी आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के सभी शेयर औपबंधिक रूप से जब्त कर लिए हैं। कंपनी के पास कुल 1 करोड़ 88 लाख 13 हजार 928 शेयर हैं जो कुल शेयर का 29.12 फीसदी हिस्सा है। कंपनी की तरफ से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज को बताया गया है कि कंपनी को 25 अक्टूबर, 2017 को आय कर विभाग के उप आयुक्त की तरफ से आयकर अधिनियम 1961 की धारा 281बी के हवाले से इस आशय का पत्र प्राप्त हुआ है कि आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड के सभी 1.88 करोड़ शेयर औपबंधिक रूप से जब्त किए जाते हैं।

फिलहाल, एनडीटीवी ने किसी भी तरह के विवाद की जानकारी नहीं दी है कि आखिर किस विवाद की वजह से आय कर विभाग ने यह कार्रवाई की है। स्टॉक एक्सचेंज को लिखे पत्र में एनडीटीवी ने कहा है कि प्रोमोटर कंपनी कानूनी कार्रवाई और सहायता प्राप्त करने की कोशिशों में जुटी है।

हालाांकि, जिस धारा के तहत आय कर विभाग ने एनडीटीवी के सभी शेयर जब्त किए हैं, उस धारा के प्रावधान के मुताबिक इनकम टैक्स डिपार्टमेंट किसी भी व्यक्ति या कंपनी की आय के निर्धारण के लिए किसी भी कार्यवाही के दौरान या आकलन या किसी भी आय के मूल्यांकन के लिए, जो आकलन से बच गया है, के दौरान राजस्व के हितों की सुरक्षा के लिए निर्धारिती से संबंधित किसी भी संपत्ति को तत्काल जब्त कर सकता है।

गौरतलब है कि यह खबर तब आई, जब सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) ने एनडीटीवी के प्रोमोटर प्रणय रॉय, राधिका रॉय और आरआरपीआर होल्डिंग्स के खिलाफ एनडीटीवी में अपने कुल शेयरधारक के बारे में खुलासा करने के मामले में कथित देरी से जुड़े एक मामले का निपटान कर लिया। इससे पहले इसी साल जून के पहले हफ्ते में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने शेयरों का लेन-देन सेबी से जानकारी छिपाने और एक निजी बैंक को नुकसान पहुंचाने के आरोप में प्रणय रॉय के घर पर छापेमारी की थी। सीबीआई के मुताबिक छापे दिल्ली के दो, देहरादून के एक और मसूरी के एक परिसर में ली गई थी। तब एनडीटीवी ने अपने स्वामियों के परिसरों में सीबीआई के छापों को राजनीतिक हमला बताया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.