ताज़ा खबर
 

अनुपम खेर बोले- खुद को हिंदू कहते लगता है डर, शशि थरूर को बताया कांग्रेसी चमचा

हाल ही में एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में अनुपम खेर ने कहा, 'आज मुझे सार्वजनिक तौर पर यह कहते हुए डर लगता है कि मैं हिंदू हूं।'
Author नई दिल्‍ली | January 31, 2016 16:26 pm
अनुपम खेर ने पाकिस्तान में आयोजित कराची लिटरेचर फेस्टिवल में शामिल होने के लिए वीजा नहीं मिलने पर आपत्ति जाहिर की थी। (फाइल फोटो)

बॉलीवुड एक्‍टर अनुपम खेर एक बार फिर विवादों में घिर गए हैं। यह मामला एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू के बाद शुरू हुआ, जिसमें अनुपम खेर ने कहा, ‘आज मुझे सार्वजनिक तौर पर यह कहते हुए डर लगता है कि मैं हिंदू हूं।’ टीवी चैनल ने अपने टि्वटर अकाउंट पर अनुपम खेर के हवाले से यह बयान ट्वीट किया, जिस पर कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता शशि थरूर की प्रतिक्रिया आ गई। थरूर ने ट्वीट कर लिखा, ‘कम ऑन अनुपम, मैं हमेशा गर्व से कहता हूं कि मैं हिंदू हूं। सिर्फ संघ टाइप का हिंदू नहीं हूं।’ शशि थरूर के इस ट्वीट पर अनुपम खेर ने भी ट्वीट किया। उन्‍होंने लिखा, ‘कम ऑन शशि, मैंने नहीं सोचा था कि तुम मेरे बयान का गलत मतलब निकालोगे और कांग्रेसी चमचे की तरह बर्ताव करोगे।’

Read Also: राहुल गांधी की भूख हड़ताल पर अनुपम खेर बोले- मालदा, जम्‍मू के कैंपों में भी जाएं कांग्रेस उपाध्‍यक्ष

इंटरव्यू के दौरान पत्रकार ने जम्‍मू-कश्‍मीर के कांग्रेस प्रवक्‍ता सलमान के उस ओपन लेटर का भी जिक्र किया, जिसमें उन्‍होंने अनुपम खेर पर पद्म अवॉर्ड पाने के लिए आत्‍मा बेचने का आरोप लगाया है। इस पर अनुपम खेर ने कहा, ‘ये कौन हैं? मैं इन्‍हें नहीं जानता। वह अनुपम खेर पर हमला करके दुनिया की नजरों में आना चाहते हैं।’ इस पर पत्रकार ने बताया कि सलमान के ओपन लेटर पर गुलाम नबी आजाद ने भी कमेंट किया है। इस पर अनुपम खेर ने कहा, ‘गुलाम नबी आजाद डियर फ्रेंड हैं। मैं सरप्राइज हूं कि उन्‍होंने कुछ ऐसा किया। लेकिन कांग्रेस में एक कल्‍चर है कि आपको हाई कमांड को खुश रखना है।’

गुलाम नबी पर चर्चा के बाद पत्रकार ने अनुपम खेर से सीधा सवाल पूछा- ‘क्‍या आपको बीजेपी के लिए स्‍टैंड लेने की वजह से अवॉर्ड दिया गया है, क्‍योंकि आप वही कहते हैं जो प्रधानमंत्री कहते हैं?’ इस पर अनुपम खेर ने कहा, ‘ऐसा पहली बार हुआ है कि प्रधानमंत्री पूरी दुनिया में गए हैं। वह राष्‍ट्रभक्‍त हैं।’ इस बीच पत्रकार ने उन्‍हें फिर टोका तो उन्‍होंने कहा, ‘लोग ऐसा सोच सकते हैं, मुझे इसमें दिक्‍कत नहीं है।’

यह है अनुपम खेर के हवाले से किया गया अंग्रेजी चैनल का ट्वीट anupam kher

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. D
    Dinesh Singh
    Jan 30, 2016 at 1:44 pm
    चमचो को सारे नजर आते है चम्मच. जैसे खेर को थरूर. हा हा हा हा
    Reply
  2. D
    Dinesh Singh
    Jan 31, 2016 at 12:40 pm
    भांड है ये. इसे हिन्दू कहने में दर लगता है . इतनी अिष्णिता नहीं है भारत में. क्या कर रहा है ये नालायक. चचागिरी करके पद्म पा गया है वार्ना इस की क्या औकात.
    Reply
  3. D
    Dinesh Singh
    Jan 30, 2016 at 1:44 pm
    ये खेर तो पूरा भांड निकला. इसके कहने का मतलब है इंडिया इतना अिष्णु हो गया है की हिन्दू बताओ तो जान का खतरा ? इस बेचारे को अपने ही देश में हिन्दू कहते हुए दर लगता है? तो इसमें और आमिर में क्या अंतर है.
    Reply
  4. P
    parvez
    Feb 6, 2016 at 9:06 am
    नेता और अभिनेता इस मुद्दे को अगर न उठाये तो इंसान कभी ये जान ही नहीं पयेगा की वो हिन्दू है या मुस्लमान गरीब जनता बस ये जानती है की वो परेशान है
    Reply
  5. N
    NIRAJ SINGH
    Jan 31, 2016 at 4:49 am
    सच में अब ऐसा लगने लगा है .....
    Reply
  6. N
    nikhil
    Jan 31, 2016 at 7:37 am
    भांड तो तुम लोग हो जो किसी भी मुद्दे को हिन्दू और मुसलमान से जोड़ देतो हो ! भांड वो लोग है जो कहते है उन्हें भारत में रहने से दर लगता है ! भांड वो लोग है जो किसी की आत्महत्या को दलित और कमजोर वर्ग से जोड़ देते है ! भांड वो जो गजेन्द्र को फांसी पे लटकवा देते है और दिल्ली से हैदराबाद किसी की मौत का तमाशा बनाने और दलित राजनीती करने जाते है ! भांड वो लोग है जी सेक्युलर के नाम पे देश को विभाजित करने पे तूले है ! भांड .....
    Reply
  7. P
    Parmatma Rai
    Jan 30, 2016 at 1:14 pm
    अनुपम जी ने ी कहा है. आज अगर कोई खुले-आम अपने को ''हिन्दू'' कह दे तो लोग उसे बी जे पी या आर एस एस से जोड़ देते हैं. और शशि थरूर बताएं की उन्होंने कब गर्व से कहा है की वो हिन्दू हैं ?
    Reply
  8. S
    Sohail mallick
    Jan 30, 2016 at 5:14 pm
    चमचा है बीजेपी का फिल्म में कोई नही पोछ रहा है तो नफरत पैला रहे hi
    Reply
  9. U
    Umrao Singh
    Jan 31, 2016 at 6:23 am
    कैसी विडम्बना है कि मोदी जी के शासनकाल में अनुपम खेर जी डर के मारे अपने आपको हिन्दू नहीं कह पा रहे हैं और ये सरकार उन्हें पद्मश्री देकर सम्मानित कर रही है।
    Reply
  10. Load More Comments
सबरंग