December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

अगर शिवसेना ने भाजपा की मदद नहीं की होती तो गोवा में हमारा आदमी मुख्यमंत्री होता: उद्धव

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि जब भाजपा का गोवा में एक भी ध्वज नहीं था तो शिवसेना संस्थापक बालासाहब ठाकरे ने उन्हें यहां बढ़ने दिया।

Author पणजी | October 22, 2016 20:01 pm
गोवा के पोरवोरिम विधानसभा क्षेत्र में पहले कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। (PTI Photo/22 Oct, 2016)

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने शनिवार (21 अक्टूबर) को कहा कि पार्टी ने गोवा में भाजपा को बढ़ने देकर गलती की, अन्यथा काफी समय पहले राज्य में उसका नेता मुख्यमंत्री होता। ठाकरे ने यहां निकटवर्ती पोरवोरिम में कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में कहा, ‘जब भाजपा का गोवा में एक भी ध्वज नहीं था तो शिवसेना संस्थापक बालासाहब ठाकरे ने उन्हें यहां बढ़ने दिया। हमने सोचा कि भाजपा और एमजीपी विचारधाराओं वाली पार्टियां हैं और इसलिए शिवसेना गोवा में हस्तक्षेप नहीं करेगी।’ उन्होंने कहा, ‘शिवसेना ने हमेशा सोचा कि वह खुद को महाराष्ट्र तक सीमित रखेगी। उसने भाजपा को देश और यहां तक कि दिल्ली में अपने पांव पसारने दिया। हमने सोचा कि हम अन्य राज्यों में हस्तक्षेप नहीं करेंगे।’

उन्होंने कहा कि गोवा के राजनैतिक परिदृश्य पर ध्यान केंद्रित नहीं करके और भाजपा-एमजीपी को शासन करने देकर शिवसेना ने गलती की। उन्होंने कहा, ‘अगर शिवसेना भाजपा और एमजीपी को बढ़ने का मौका दिए बिना गोवा चुनाव के लिए तैयारी करती तो अब तक राज्य में हमारा मुख्यमंत्री होता।’ इस बीच, भाजपा पर जोरदार हमला करते हुए शिवसेना नेता संजय राउत ने शनिवार को गोवा में लक्ष्मीकांत पार्सेकर नीत गोवा सरकार को पुर्तगाली सरकार से भी बदतर बताया। राउत ने कहा, ‘गोवा में मौजूदा भाजपा नीत सरकार पुर्तगाली सरकार से भी बुरी है। हम (शिवसेना) 2017 के राज्य विधानसभा चुनाव में इस सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए यहां हैं।’ उन्होंने कहा, ‘हम गोवा के लोगों से वादा करना चाहते हैं कि 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में शिवसेना की सरकार होगी।’

शिवसेना ने घोषणा की है कि वह आगामी गोवा विधानसभा चुनाव लड़ेगी। वह 20 सीटों पर चुनाव लड़ेगी जिनमें से ज्यादातर पर आरएसएस के बागी नेता सुभाष वेलिंगकर नीत पार्टी के साथ गठबंधन में वह चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा, ‘हम यहां घूमने नहीं आए हैं कि आएंगे और वापस चले जाएंगे। हम यहां लोगों को सुशासन देने के लिए आए हैं।’ गोवा में विधानसभा चुनावों से पहले पार्टी कार्यकर्ताओं में उत्साह भरने के लिए पहुंचे शिवसेना प्रमुख ने ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान मोदी के दिए बयान पर भी चुटकी ली। मोदी ने कहा था कि ‘दो नए दोस्तों से एक पुराना दोस्त बेहतर होता है।’ ठाकरे ने कहा, ‘हाल में हुए ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि दो नए दोस्तों से एक पुराना दोस्त अच्छा होता है। हम कहते हैं कि धूर्त दोस्त की तुलना में ईमानदार दुश्मन बेहतर होता है।’

Read Also: सर्जिकल स्ट्राइक के लिए संघ को श्रेय देने पर उद्धव ठाकरे ने मनोहर पर्रिकर को फटकारा

ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के इतर रूस के राष्ट्रपति ब्लादीमिर पुतिन के साथ मुलाकात के बाद मोदी ने कहा था, ‘दो नए दोस्तों की तुलना में एक पुराना दोस्त अच्छा होता है।’ उद्धव ने कहा कि विदेशों के पुराने दोस्तों की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री को देश के अंदर भी पुराने दोस्तों का ख्याल रखना चाहिए। शिवसेना प्रमुख ने कहा, ‘देखिए कि उन्होंने देश के अंदर पुराने दोस्तों के साथ क्या किया है, विदेश के पुराने दोस्त उनसे रिश्ता जोड़ते वक्त दो बार सोचेंगे।’ उन्होंने गोवा में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि उन्हें नहीं पता कि देश को इससे क्या प्राप्त हुआ। उन्होंने कहा, ‘मैंने कई देशों के प्रमुखों को जैकेट पहने हुए और हाथ मिलाते हुए देखा। मैं महज विरोध करने के लिए इस आयोजन की आलोचना नहीं करना चाहता। मेरा मानना है कि इस तरह के सम्मेलन भारत में होने चाहिएं।’

उन्होंने कहा, ‘लेकिन गोवा के लोगों को ब्रिक्स से क्या मिला? ब्रिक्स से भारत को क्या मिला? मुझे नहीं पता।’ उद्धव ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार में शिवसेना का भाजपा के साथ गठबंधन है लेकिन सत्ता में रहने के बावजूद विधानसभा में ‘अच्छा’ विपक्ष नहीं होने के कारण हम सरकार पर नियंत्रण रख रहे हैं। उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव में शिवसेना गोवा में भाजपा सरकार का भंडाफोड़ करेगी। उद्धव ने कहा, ‘मुझे गोवा में भाजपा नीत सरकार की विफलताओं की सूची दी गई। मैं उस सूची की अभी बात नहीं कर रहा हूं। चुनाव के दौरान हम एक-एक कर उनका भंडाफोड़ करेंगे।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 22, 2016 8:01 pm

सबरंग