December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी: जेब में कैश रखे बिना भी चला सकते हैं रोजमर्रा का काम, जानिए कैसे

कई आर्थिक जानकार मानते हैं कि जिस देश में जितना कम नकद लेन-देन होता है वहां कालेधन इकट्ठा करना उतना ही मुश्किल होता है।

एक एटीएम के बाहर पैसे निकालने के लिए लगी कतार (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 500 और 1000 के नोट बंद किए जाने के बाद देश में नकदी की काफी किल्लत महसूस की जा रही है। नोटबंदी की घोषणा के करीब दो हफ्ते बाद भी बैंकों और एटीएम के सामने लोगों की कतारें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। पीएम मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी को नकद-मुक्त अर्थव्यवस्था की तरफ बढ़ाया गया कदम बताया है। ज्यादातर आर्थिक जानकार मानते हैं कि जिस जिस देश में जितना कम नकद लेन-देन होता है वहां कालेधन इकट्ठा करना उतना ही मुश्किल होता है। नकद-मुक्त अर्थव्यवस्था उसे कहते हैं जिसमें ज्यादातर वित्तीय लेन-देन बैंक खाते के जरिए हो और नकद लेन-देन कम से कम हो। अगर आप भी नकदी की कमी से परेशान हैं तो हम आपको बताते हैं कि आप कैसे न्यूनतम नकदी के साथ अपनी रोजमर्रा की जरूरतें बगैर किसी परेशानी के पूरी कर सकते हैं।

अपने सभी घरेलू काम करने वालों नौकरों, दूधवाले, अखबार वालों से उनके बैंक खातों लेकर उनके खातों में ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर कर दें। हो सकता है कि आपको इसमें थोड़ी मुश्किल का सामना करना पड़े लेकिन आपको उन लोगों को समझाना होगा कि इसमें उनकी भी भलाई है। और बैंक खाते में पैसे लेने से उन्हें कोई नुकसान नहीं होता। अगर किसी के पास बैंक खाता नहीं है तो उसके पति या पत्नी या बेटे-बेटी की अकाउंट की जानकारी लेकर पैसा ट्रांसफर कर दें।

ऑनलाइन लेन-देन को आसान बनाने के लिए आप मोबाइल बैंकिंग का चुनाव कर सकते हैं। मोबाइल बैंकिंग के लिए आपको स्मार्टफोन और इंटरनेट कनेक्शन की जरूरत होगी। लेकिन अगर आप के स्मार्टफोन में इंटरनेट है तो ये बेहद आसान है। चूँकि ज्यादातर बैंक ग्राहकों को पैसे जमा करने या निकालने के बारे में मोबाइल मैसेज से जानकारी देते हैं तो आप द्वारा किए गए भुगतान की कुछ ही देर में सामने वाला पुष्टि भी कर सकता है। इसके अलावा लगभग सभी प्रमुख मोबाइल सेवा प्रदाता पानी और बिजली के बिल भुगतान के साथ ही इंटरनेट, केबल टीवी और मोबाइल रिचार्ज सुविधा उपलब्ध कराते हैं। यानी आप अपने मोबाइल से दैनिक जीवन के कई बिल बगैर किसी नकदी के भुगतान कर सकते हैं।

अगर आपके पास इंटरनेट वाला स्मार्टफोन है तो आपके लिए नकदी के बिना जीवन जीना और आसान रहेगा। कई कंपनियों के ऐप से खाने-पीने की दुकानों, ऑटो वाले, टैक्सी कैब इत्यादि का भुगतान पलक झपकते ही किया जा सकता है। अगर आप चाहते हैं कि नकद लेने-देन कम हो तो आप किसी एक ही सब्जी वाले या किराना वाले या दूधवाले से नियमित तौर पर सामान लेते हैं तो उसे रोज भुगतान करने के बजाय एकमुश्त चेक या ऑनलाइन कैश ट्रांसफर से भुगतान करें।

वीडियोः कई फिल्मी सितारों ने किया है नोटबंदी का समर्थन-

वीडियोः जानिए कब-कब हुआ है भारत में विमुद्रीकरण?-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 22, 2016 12:01 pm

सबरंग