ताज़ा खबर
 

असली वीर छिप-छिप कर वार नहीं करते, वे सीने का बटन खोल, आंख में आंखें डाल लड़ते हैं- राजनाथ सिंह

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आईटीबीपी की राइजिंग डे परेड में पाकिस्तान पर निशाना साधा है।
Author नई दिल्ली | October 28, 2016 13:19 pm
केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह। (Photo Source: ANI)

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि हमारा पड़ोसी देश आतंकवाद का सहारा ले रहा है और प्रॉक्सी वार कर रहा है। सिंह ने आईटीबीपी की राइजिंग डे परेड में कहा, ‘हमारा पड़ोसी देश आंतकवाद का सहारा ले रहा है, प्रॉक्सी वार कर रहा है। लेकिन असली वीर वो नहीं होते जो प्रॉक्सी वार करते हैं, असली वीर वो है जो सीने का बटन खोलकर आंख में आंख डालकर लड़ते हैं।’ साथ ही उन्होंने बताया कि आईटीबीपी की वजह से सीमा उल्लंघन में 7 फीसदी की कमी आई है। बता दें, एलओसी पारकर पीओके में भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक किए जाने के बाद से पाकिस्तान की ओर से सीजफायर के उल्लंघन में इजाफा हुआ है। गुरुवार को पाकिस्तान की ओर से हुई फायरिंग में एक जवान शहीद हो गया था। इसके बाद शाम को आतंकियों की घुसपैठ को रोकने की कोशिश कर रहा एक अन्य जवान भी शहीद हो गया था। सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान ने 40 से ज्यादा बार सीजफायर का उल्लंघन किया है। इसमें भारतीय सेना के 7 जवान शहीद हो चुके हैं और कई अन्य घायल हो गए।

वीडियो में देखें- पाकिस्तानी सेना की फायरिंग में एक जवान शहीद

18 सितंबर को कश्मीर के उरी सेक्टर में सेना के कैंप पर हुए आतंकियों ने हमला कर दिया था। इस हमले में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद भारत ने पाकिस्तान पर आरोप लगाते हुए कहा था कि आतंकी पाकिस्तान से आए थे। लेकिन पाकिस्तान ने भारत के इस दावे को झूठा बताया था। इसके बाद 29 सितंबर को भारतीय सेना ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक कर दिया। भारतीय सेना के डीजीएमओ ले. जनरल रणबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके जानकारी दी थी कि भारतीय सेना ने पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किया है। सर्जिकल स्ट्राइक में भारतीय सेना ने कई आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया। हालांकि, पाकिस्तान ने भारतीय सेना के इस दावे का खंडन किया है। पाकिस्तान का कहना है कि सीमा पर दोनों पक्षों में केवल फायरिंग हुई थी, जिसमें दो पाकिस्तानी जवान मारे गए थे।

Read Also: सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद से शहीद हुए हमारे 7 जवान, 40 से ज्‍यादा बार टूटा संघर्षविराम

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.