ताज़ा खबर
 

कश्मीर में हिजबुल मुजाहिद्दीन के भर्ती माड्यूल का भंडाफोड़, भारतीय लड़कों को पाकिस्तान ले जाकर ट्रेंड करनी की प्लानिंग

पुलिस के अनुसार, हिरासत में लिए गए लोगों में से एक अब्दुल रशीद बट मई में पाकिस्तान गया था और वहां पाकिस्तान नियंत्रित कश्मीर में आतंकवादी संगठन द्वारा संचालित खालिद बिन वलीद शिविर में प्रशिक्षण लिया था।
Author श्रीनगर। | July 17, 2017 17:45 pm
लड़कों को पाकिस्तान में आतंकी कैंपों में ट्रेनिंग देने की थी तैयारी। (Representative Image)

कश्मीर के बारामूला जिले में जम्मू-कश्मीर की पुलिस ने आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन के भर्ती माड्यूल का भंडाफोड़ किया है। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “इस माड्यूल का नेतृत्व कुपवाड़ा जिले का हंदवाड़ा निवासी हिजबुल मुजाहिद्दीन कमांडर परवेज वानी कर रहा था।” बारामुल्ला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक इम्तियाज हुसैन ने हिजबुल मुजाहिद्दीन के मॉड्यूल के बारे में जानकारी देते हुए बताया, “छापेमारी के दौरान तीन लोग गिरफ्तार गए हैं। जिनमें से एक शख्स ने मई में महीने में पाकिस्तान की यात्रा की थी। इस माड्यूल की योजना कुछ लड़कों को पाकिस्तान भेजने और वहां के आतंकवादी शिविरों में प्रशिक्षण दिलाने की थी।”

पुलिस के अनुसार, हिरासत में लिए गए लोगों में से एक अब्दुल रशीद बट मई में पाकिस्तान गया था और वहां पाकिस्तान नियंत्रित कश्मीर में आतंकवादी संगठन द्वारा संचालित खालिद बिन वलीद शिविर में प्रशिक्षण लिया था। पुलिस ने बताया, “उसे एक अलगाववादी संगठन की अनुशंसा पर नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग से वीजा मिला था।” गिरफ्तार व्यक्तियों के कब्जे से हथियार, गोला-बारूद और 1 लाख रुपये नकद बरामद किए गए हैं। पुलिस अधिकारी ने कहा, “यह मॉड्यूल आतंकवादी समूहों को रसद सहायता भी प्रदान करता था।” पुलिस के मुताबिक पकड़े गए लोग बड़े पैमाने पर भर्ती अभियान की योजना बना रहे थे। जिन लड़कों को हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल होने के लिए उकसाया गया था, उन्हें उनके परिवार के सुपुर्द कर दिया गया है।

बता दें कि घाटी में जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना और केंद्रीय बलों ने आतंकियों के खिलाफ बड़े पैमाने पर सर्च ऑपरेशन चला रखा है। सर्च ऑपरेशन के तहत कई आतंकियों को मार गिराया गया है। आंतकियों को लेकर ऑपरेशन अभी भी जारी है। शनिवार को आतंकियों के छिपे होने की सूचना के बाद सेना-पुलिस और सीआरपीएफ ने साझा ऑपरेशन चलाया था। जिसके बाद श्रीनगर से 36 किलोमीटर दूर त्राल के सतूरा में आंतकियों और जवानों के बीच मुठभेड़ हुई। इलाके में 4-5 आतंकियों के छिपे होने की आशंका थी। पुलिस ने तीन आतंकियों को मार गिराया था। 10 जुलाई की शाम को जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों पर हुए हमले के बाद सेना ने चौतरफा सर्च ऑपरेशन चलाया हुआ है। हमले में 6 तीर्थयात्रियों की मौत हो गई थी और 19 लोग घायल हो गए थे।

आतंकी बुरहान वानी को लेकर कांग्रेस नेता ने दिया बड़ा बयान

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग