ताज़ा खबर
 

तमिलनाडु में भारी बारिश, मृतकों की संख्या हुई 71

पूर्वोत्तर मॉनसून ने तमिलनाडु के उत्तरी तटीय जिलों में तबाही मचा रखी है तथा आने वाले दिनों में और बारिश के पूर्वानुमान के साथ राज्य में वर्षा जनित घटनाओं में मृतकों..
Author चेन्नई | November 17, 2015 01:23 am
तमिलनाडु में भारी बारिश के बाद सड़क पर फंसी बस। (पीटीआई फोटो)

पूर्वोत्तर मॉनसून ने तमिलनाडु के उत्तरी तटीय जिलों में तबाही मचा रखी है तथा आने वाले दिनों में और बारिश के पूर्वानुमान के साथ राज्य में वर्षा जनित घटनाओं में मृतकों की संख्या 71 हो गयी है। मुख्यमंत्री जे जयललिता ने अपने कैबिनेट सहयोगियों और अधिकारियों के साथ हालात की समीक्षा बैठक में कहा कि 11 और 15 नवंबर के बीच दीवार धंसने और डूबने की घटनाओं में 12 और लोगों की जान चली गयी। इन दुखद घटनाओं पर शोक व्यक्त करते हुए उन्होंने मरने वालों के परिजन को चार-चार लाख रुपये देने की घोषणा की। इस तरह हाल की वर्षा जनित घटनाओं में 71 लोगों की मौत हो चुकी है।

मॉनसून संकट से निपटने को लेकर विपक्ष की आलोचना का सामना कर रहीं जयललिता ने सोमवार को कहा कि हालात जल्द ही सामान्य हो जाएंगे क्योंकि सरकारी तंत्र लोगों के कल्याण के लिए दिन रात काम में जुटा है। उन्होंने हालात की समीक्षा के लिए अपने निर्वाचन क्षेत्र डॉ राधाकृष्णन नगर का दौरा किया और लोगों को भरोसा दिया कि चिकित्सा शिविर लगाने सहित राहत के सभी उपाए किये जा रहे हैं।

मूसलाधार बारिश से तमिलनाडु में आम जनजीवन प्रभावित हुआ है और कई क्षेत्रों में पानी भर जाने के कारण प्रशासन को शैक्षिक संस्थान बंद करने का आदेश देना पड़ा। मौसम विभाग ने तमिलनाडु के साथ ही पुडुचेरी और तटीय आंध्रप्रदेश में अगले तीन दिन में भारी बारिश का अनुमान जताया है।

पूरी रात बारिश होने से चेन्नई और उसके उपनगरों में पानी भर गया। कई जगहों पर सबवे पानी में डूबा रहा। जिला प्रशासन ने भारी बारिश को देखते हुए स्कूलों और कॉलेजों में छुट्टी घोषित कर दी। मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिण पश्चिम बंगाल की खाड़ी में तमिलनाडु तट पर बने कम दबाव के क्षेत्र की वजह से भारी बारिश हुयी और इसके उत्तर पश्चिम से उत्तर तमिलनाडु तट की ओर बढ़ने का अनुमान है और अगले 24 घंटे में दबाव का क्षेत्र और गहरा सकता है।

भारी बारिश और खराब मौसम के कारण 10,000 से ज्यादा मछुआरे पिछले चार दिन से समुद्र की ओर नहीं जा पा रहे हैं। मूसलाधार बारिश के कारण पड़ोस के पुडुचेरी और कराईकल में शैक्षिक संस्थान सोमवार को भी बंद रहे। हालांकि केंद्रशासित प्रदेश में सुबह नौ बजे के बाद से बारिश नहीं हुयी है।

पुडुचेरी के मुख्यमंत्री एन रंगासामी ने कृषि निदेशालय से बारिश के कारण बागवानी फसलों को हुए नुकसान का आकलन करने का निर्देश दिया है। पुडुचेरी के जिलाधिकारी डी मणिकनंदन ने बताया कि बेघर लोगों की सहायता के लिए 173 विशेष राहत केंद्र बनाए गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग