ताज़ा खबर
 

हिमाचल प्रदेश विधान सभा चुनाव 2017: 9 नवंबर को चुनाव, 18 दिसंबर को नतीजे, गुजरात के लिए नहीं हुआ ऐलान

Himachal Pradesh Election/Chunav 2017 Date (हिमाचल प्रदेश विधान सभा चुनाव 2017): चुनाव आयोग ने कहा कि गुजरात विधानसभा के चुनाव 18 दिसंबर से पहले होंगे।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

चुनाव आयोग ने गुरुवार को नई दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया। उम्मीद जताई जा रही थी कि गुजरात विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान भी आज ही हो जाएगा। लेकिन चुनाव आयोग ने गुजरात की तारीखों का ऐलान नहीं किया है। अब गुजरात चुनाव की तारीखों का ऐलान किसी और दिन होगा। हालांकि, चुनाव आयोग ने कहा कि गुजरात विधानसभा के चुनाव 18 दिसंबर से पहले होंगे।

हिमाचल प्रदेश में एक ही चरण में चुनाव होंगे। चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही प्रदेश में आचार-संहिता लागू हो गई है। 16 से 23 अक्टूबर तक नामांकन भरने की तारीख है। 9 नवंबर को हिमाचल प्रदेश में चुनाव होंगे। वहीं चुनाव के नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे। हिमाचल प्रदेश में सभी पोलिंग स्टेशनो पर वीवीपीएटी का इस्तेमाल होगा। ऐसा देश में पहली बार किसी चुनाव में हो रहा है।

मुख्य चुनाव आयुक्त अचल कुमार ज्योति ने बताया कि हिमाचल प्रदेश में 12वीं विधानसभा का कार्यकाल अगले साल सात जनवरी को पूरा हो रहा है। संवैधानिक प्रावधानों के तहत इस समय सीमा से पहले 13वीं विधानसभा के गठन के लिये चुनाव की तैयारियां मुकम्मल कर ली गयी हैं। इस बाबत 15 सितंबर तक संशोधित मतदाता सूचियों के मुताबिक राज्य के 49.05 लाख मतदाता विधानसभा चुनाव में मतदान कर सकेंगे। राज्य की 68 सीटों में से 17 अनुसूचित जाति और तीन अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित है। उन्होंने बताया कि सभी मतदाताओं को फोटोयुक्त मतदाता पर्ची दी जायेगी। साथ ही मतदाता सूची में मतदाताओं और इवीएम पर उम्मीदवारों की फोटो होगी।

ज्योति ने बताया कि पूरे राज्य में पहली बार वीवीपेट युक्त ईवीएम से मतदान होने के कारण मतदाताओं को सभी जरूरी जानकारियां मुहैया कराने के लिये हर घर में एक पुस्तिका भेजी जायेगी। राज्य में पिछले चुनाव की तुलना में मतदान केन्द्रों की संख्या 7252 से बढ़कर 7479 हो गयी है। सभी मतदान केन्द्रों को मतदान संबंधी जरूरी सुविधाओं से लैस किया गया है। खासकर महिला और दिव्यांग मतदाताओं के लिये जरूरी सुविधाओं के विशेष इंतजाम किये गये हैं।

ज्योति ने बताया कि चुनाव में उम्मीदवारों के लिये प्रचार अभियान हेतु खर्च की 28 लाख रुपये की सीमा का पालन सुनिश्चित कराने के लिये आयोग ने पुख्ता इंतजाम किये हैं। इसमें सोशल मीडिया से लेकर मीडिया रिपोर्टों पर निगरानी के उपाय भी शामिल किये गये हैं। संवाददाता सम्मेलन में चुनाव आयुक्त ओ पी रावत और सुनील अरोड़ा भी मौजूद थे। सैनिकों और अप्रवासी भारतीयों के परिजनों के लिये डाक और इलेक्ट्रॉनिक मतदान की तैयारियों के सवाल पर जोती ने बताया कि र्सिवस वोटर्स की पंजीकरण प्रक्रिया चल रही है। इस श्रेणी के तहत इच्छुक मतदाता 18 अक्टूबर तक पंजीकरण करा सकेंगे।

बता दें, गुजरात में 182 सदस्यीय विधानसभा का कार्यकाल 22 जनवरी को समाप्त होने वाला है जबकि 68 सदस्यीय हिमाचल प्रदेश विधानसभा का कार्यकाल सात जनवरी को समाप्त होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग