January 16, 2017

ताज़ा खबर

 

जम्मू कश्मीर के शरणार्थियों के अधिकारों पर बोले RSS प्रमुख मोहन भागवत

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने आज कहा कि जम्मू कश्मीर में हिन्दू शरणार्थियों को राज्य के नागरिकता अधिकार दिए जाने चाहिए तथा आतंकवाद के चलते घाटी छोड़ने को मजबूर हुए कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास किया जाना चाहिए ।

Author नागपुर | October 11, 2016 17:20 pm

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने आज कहा कि जम्मू कश्मीर में हिन्दू शरणार्थियों को राज्य के नागरिकता अधिकार दिए जाने चाहिए तथा आतंकवाद के चलते घाटी छोड़ने को मजबूर हुए कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास किया जाना चाहिए । उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को एक दिशा और एक नीति पर आगे बढ़ने के लिए केंद्र के साथ काम करना चाहिए तथा राष्ट्रवादी शक्तियों को मजबूत किया जाना चाहिए और ‘‘अवांछित’’ गतिविधियों का खात्मा किया जाना चाहिए । भागवत ने कहा कि राज्य की स्थिति चिंता का विषय है । उन्होंने कहा, ‘‘बहुत से मुद्दे अभी भी अटके पड़े हैं । विभाजन के दौरान और उसके बाद बहुत से हिन्दू पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से विस्थापित हो गए तथा वहां पहुंचे । शेख अब्दुल्ला ने उन्हें आश्वासन दिया था कि उन्हेें उनके अधिकार दिए जाएंगे ।

उनकी तीसरी पीढ़ी वहां रह रही है । उनके पास राज्य के नागरिकता अधिकार नहीं हैं । उनके पास राशन कार्ड और रोजगार नहीं हैं, वे कब तक इंतजार करेंगे ?’ आरएसएस प्रमुख ने अपने दशहरा संबोधन में कहा, ‘‘दशकों से कश्मीरी पंडित बाहर रह रहे हैं । उन्हें वहां रहना चाहिए जहां वे रहा करते थे और देशभक्तों तथा हिन्दुओं के रूप में उनका संरक्षण सुनिश्चित किया जाना चाहिए ।

इस तरह की परिस्थितियां पैदा की जानी चाहिए और उन्हें न्याय दिया जाना चाहिए ।’ भागवत ने कहा कि उन लोगों के सपनों को पूरा करना होगा और तभी लोग विश्वास करेंगे कि उनका ध्यान भी उसी तरह रखा जा रहा है जिस तरह अन्य राज्य अपने लोगों के लिए कर रहे हैं । राज्य में हिन्दू शरणार्थियों को नागरिकता देने का मुद्दा विवादास्पद रहा है क्योंकि नेशनल कान्फ्रेंस और पीडीपी जैसे दल इस पर आपत्ति व्यक्त करते रहे हैं ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 11, 2016 5:13 pm

सबरंग