December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

अब सोना जमा करने वालों पर निशाना साधेंगे नरेंद्र मोदी, ऐसी अफवाहों से उड़ी व्‍यापारियों की नींद

केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसला के बाद अब सोना जमाखोरों को यह बात डरा रही है कि कहीं सरकार सोना आयात को कम करने की कोशिश न करे।

Author नई दिल्ली | November 17, 2016 20:35 pm
प्रतिकात्मक फोटो।

भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ लड़ाई बताते हुए केंद्र सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया था। वहीं अब सोना व्यापारियों के बीच एक नई अफवाह ने जोर पकड़ लिया है जिसकी  वजह से वह सोना आयत करने की फिराक में लगे हैं। समाचार एजंसी रॉइटर्स के अनुसार इन अफवाहों के मुताबिक सोना व्यापारियों को यह डर सता रहा है कि नोटबंदी के फैसले के बाद सरकार विदोशों से आयात  किए जाने वाले धातुओं जिनमें सोना में पहले नंबर पर है, के आयात को कम करने की कोशिश करेगी।

सोना आयात करने में भारत दुनियाभर के देशों के मुकाबले में दूसरे नंबर पर है और एक अनुमान के मुताबिक सालाना 1000 टन तक के सोने की एक-तिहाई रकम का भुगतान काले धन के जरिए किया जाता है। इसके अलावा कई एक्सपर्ट्स का भी अनुमान है कि सोने की खरीद-फरोख्त में बड़े पैमाने पर काले धन का इस्तेमाल होता है।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के फैसले के बाद काला धन रखने वालों को चेताया था कि आगे और भी बड़ी कार्रवाई होंगी। इसी चेतावनी के डर से बड़े व्यापारी सोने की खरीद में लग गए हैं जिससे कि जरूरत पड़ने पर काम ले सके। सोना व्यापारियों के बीच यह अफवाह आम है कि मोदी सरकार अगले साल की शुरुआत से घरेलू इस्तेमाल वाले सोने के आयात पर बैन लगा दे।

ऐसी कोई अफवाह अगर सच निकली तो शादियो के सीजन में यह सोना व्यापारियों को काफी नुकसान पहुंचा सकता है। सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक कई सोना व्यापारियों का यह दावा है कि उनके पास सोने की खरीद के लिए लगातार फोन आ रहे हैं। नोटबंदी की घोषणा होने के बाद ही सोने के दामों में अचानक बड़ा उछाल आया था। उस दौरान सोने की कीमत सर्राफा बाजार में 45 हजार रुपये प्रति तोले तक पहुंच गई थी।

वीडियो: नोटबंदी पर सियासी जंग; ममता, केजरीवाल ने सरकार से तीन दिन में फैसला वापस लेने को कहा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 17, 2016 5:48 pm

सबरंग