ताज़ा खबर
 

देश की सुरक्षा के लिए हथियार खरीदने में दुनिया में सबसे आगे निकली नरेंद्र मोदी सरकार

पूरी दुनिया में हथियार खरीदने के मामले में भारत के बाद सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, चीन और अल्जीरिया का स्थान है।
सीमा पर जवानों के साथ भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

एक अंतरराष्ट्रीय संस्था की रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में हथियारों की होड़ पिछले पांच सालों में पिछले 27 सालों के सर्वाधिक स्तर पर पहुंच चुकी है। स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के अनुसार साल 2012 से 2016 के बीच पूरी दुनिया में खरीदे गए कुल हथियारों का 13 प्रतिशत भारत ने खरीदा। पूरी दुनिया में हथियार खरीदने के मामले में भारत के बाद सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, चीन और अल्जीरिया का स्थान है।

साल 2007 से 2011 के बीच भारत ने दुनिया के कुल हथियारों की बिक्री के 9.7 प्रतिशत हथियार खरीदे थे जो किसी भी देश द्वारा इस दौरान खरीदे गए हथियारों से ज्यादा थे। सऊदी अरब ने साल 2012 से 2016 के बीच उसके पांच साल पहले की तुलना में 212 प्रतिशत ज्यादा हथियारों का आयात किया। सऊदी अरब ने इस दौरान हथियारों की कुल बिक्री का 8.2 प्रतिशत खरीदा। हालांकि कुछ रक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि पीएम मोदी द्वारा रक्षा क्षेत्रों में प्राइवेट कंपनियों पर भरोसा जताने का नतीजा सकारात्मक हो सकता है। हालांकि मोदी सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम के बावजूद देसी हथियार कंपनियां भारत की रक्षा जरूरतों को पूरा करने में सक्षम नहीं हैं।

ब्लूमबर्ग के रक्षा सौदों के विशेषज्ञ इयान मॉर्लो के अनुसार भारत सऊदी अरब और वियतनाम जैसे देशों से रक्षा सहयोग भी तेजी से बढ़ा रहा है। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना को आधुनिक बनाने के लिए 250 अरब डॉलर (करीब 167 लाख करोड़ रुपये) खर्च करने का इरादा जताया है। इयान मॉर्लो के अनुसार भारत सरकार लोकहीड मार्टिन कॉर्प और एसएएबी एबी जैसी कंपनियों को भारत में हथियार बनाने का ठेका देना चाहती है लेकिन ये कंपनियां देश की लालफीताशाही के डर से हिचक रही हैं।

मॉर्लो के अनुसार आयातित हथियारों पर भारत की निर्भरता चिंताजनक है। भारत सबसे ज्यादा रूस, अमेरिका और इसराइल से हथियार खरीदता है। वहीं भारत का पड़ोसी और प्रतिद्वंद्वी चीन हथियारों के मामले में आत्मनिर्भर होता जा रहा है। हथियारों की खरीदारी के मामले में चीन की हिस्सेदारी पिछले पांच सालों में घटी है। साल 2007 से 2011 के बीच पूरी दुनिया में हथियारों की कुल खरीद में चीन का हिस्सा 5.5 प्रतिशत था। वहीं साल 2012 से 2016 के बीच चीन का हिस्सा घटकर 4.5 प्रतिशत हो गया।

वीडियो:  CBI के पूर्व निदेशक एपी सिंह पर FIR दर्ज; CBI करेगी जांच

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. चक्रपाणि पांडेय
    Feb 21, 2017 at 5:26 pm
    तारिक फ़तह ने ी कहा है.
    (0)(0)
    Reply