ताज़ा खबर
 

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम का मोदी सरकार पर हमला- नोटबंदी सबसे बड़ा घोटाला, खोदा पहाड़-निकली चुहिया

उन्होंने कहा कि नोटबंदी की जांच होनी चाहिए और इससे गरीबों और किसानों को सबसे ज्यादा परेशानी हुई है।
पी चिदंबरम ( फाइल फोटो)

केंद्र सरकार के नोटबंदी फैसले पर पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी सबसे बड़ा घोटाला है और इससे गरीबों और किसानों को सबसे ज्यादा परेशानी हुई है। नागपुर में हुई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने सरकार पर जमकर सवाल दागे। उन्होंने कहा कि यह इस साल का सबसे बड़ा घोटाला है जिसकी जांच होनी चाहिए। 15 लाख आ जाएंगे तो कालाधन कहां जाएगा। सबकुछ ठीक होने में 7 महीने लगेंगे। नोटबंदी का फैसला “खोदा पहाड़, निकली चुहिया” के समान है।

बैंकों में नहीं है कैश:

पी चिदंबरम ने कहा, “मुझे कोशिश करने के बाद भी 2000 रुपए का नोट नहीं मिला। देशभर में हो रही इनकम टैक्स की रेड में कैसे लोगों के पास से बड़ी संख्या में नोट पकड़े जा रहे हैं। सरकार ने किस हिसाब से यह कहा था कि बैंक से 24000 रुपए तक निकाले जा सकते हैं, जबकि बैंकों में इतना कैश है ही नहीं। हर बैंक का कहना है कि उनके पास कैश नहीं है। फिर सरकार कैसे कह रही है कि पर्याप्त कैश है। इसलिए मनमोहन सिंह ने कहा था कि नोटबंदी का फैसला प्रबंधन की बड़ी असफलता’ बताया था।”

किसान और गरीब परेशान:

पूर्व वित्त मंत्री ने कहा, “इस फैसले की वजह से किसान और गरीब परेशान है। किसानों के पास बीज खरीदने, मजदूरों को देने और खाद खरीदने के लिए भी पैसे नहीं है। 45 करोड़ लोग दैनिक मज़दूरी पर निर्भर करते हैं, जो नोटबंदी से प्रभावित हुए हैं। उनकी क्षति पूर्ति कौन करेगा।”

उन्होंने सरकार पर कई अन्य सवाल भी दागे। उन्होंन पूछा- “15 लाख आ जाएंगे तो कालाधन कहां जाएगा?  नोटबंदी से कालाधन खत्म हुआ क्या? नोटबंदी से भ्रष्टाचार रुका क्या? आतंकियों की फंडिग रुकी क्या?” उन्होने कहा कि महीने में 3000 करोड़ के नोटों की ही छपाई संभव है और पूरा देश कैशलेस होना संभव नहीं है। उन्होंने 2000 के नोट बंद होने पर सरकार से रुख साफ करने की मांग की।

राहुल गांधी का पीएम मोदी पर आरोप- चर्चा से भाग रहे हैं; नोटबंदी को बताया सबसे बड़ा घोटाला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    bhagat
    Dec 13, 2016 at 9:22 am
    हताश निराश कांग्रेश करे तो क्या करे ६० सालो में १ चवन्नी बंद की इसके अलावा घोटाला पे घोटाला
    (1)(1)
    Reply
    1. S
      sanjay
      Dec 13, 2016 at 10:41 am
      कांग्रेस कह रही है की नोटबंदी का फैसला तो ठीक है,लेकिन तैयारी ठीक नहीं है,जैसे लोगो के पास खाता नहीं है लोग शिक्षित नहीं है गांव में ठीक से व्यवस्था नहीं है,अर्थात भारत नोटबंदी के लिए/ केशलेस व्यवस्था के लिए तैयार नहीं है! भरस्टाचार और कालेधन और आतंकवाद से लड़ने के लिए एक राम बाण था और वह नोटबंदी और कैशलेश था,यदि इसकी तैयारी भी ७० साल तक कांग्रेस नहीं कर पाई वह आज इस नोटबंदी को ही भरस्टाचार बता रही है! जो बुद्दिजीवी लोग पत्रकार इसकी तैयारी की आलोचना कर रहे है वे लोग कांग्रेस को सबक सिखाये !
      (1)(1)
      Reply
      1. Vinay Totla
        Dec 13, 2016 at 11:15 am
        ी की हद होती है भाई पहले लोगो को शिक्षित करना जरूरी था की कैशलेस| और रही भरष्टाचार की बात तो भाजपा की भी सरकार ६ साल राज करके गयी थी उसने क्या उखाड़ लिया| यह सिर्फ जनता को बनाने और आप जैसे भक्तो को रिझाने के लिए है|
        (1)(1)
        Reply
      2. S
        sanjay
        Dec 13, 2016 at 10:26 am
        घोटालो से लड़ने वाले लोगो पर कांग्रेस ऐसे प्रहार कर रही है जैसे उसकी दुखती नश पर हाथ रख दिया हो ! जनता को सच पता है वह जानती है की केंद्र में जब भी घोटाले शब्द का उच्चारण होगा उसके तार कांग्रेस से जुड़े होंगे,क्योकि नरेंद्र मोदीजी के नाम के आगे ईमानदार लोह पुरुष सन्यासी राष्ट्र भक्त विकास पुरुष जैसे नाम जुड़े है उसके नाम आगे कांग्रेस घोटाले जैसे शब्द का प्रयोग कर स्वम को गिरा रही है !
        (1)(1)
        Reply