ताज़ा खबर
 

CM की कुर्सी गंवाने के बाद अब अखिलेश यादव से छिन सकता है समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद

अखिलेश ने बताया कि समाजवादी पार्टी पूरे उत्तर प्रदेश में 15 अप्रैल से सदस्यता अभियान चलाएगी। इसके बाद 30 सितंबर तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा।
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव। ( Photo Source: REUTERS)

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की करारी हार के बाद यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष पद से हटने का अनुमान लगाया जा रहा है। विधानसभा चुनाव में हुई हार की समीक्षा के लिए आयोजित बैठक के बाद अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी (सपा) 30 सितंबर से पहले अपने अगले राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव कर लेगी। मैं आश्वस्त करता हूं कि हम अपनी खामियों पर भी काम करेंगे। मैंने और मेरी पार्टी ने हार की समीक्षा की है और जल्द ही इस पर कार्य करेंगे। बता दें कि अखिलेश यादव ने हार के कारणों की समीक्षा के लिए समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई थी। जिसमें सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव और उनके भाई शिवपाल सिंह यादव शामिल नहीं हुए।

एएनआई के मुताबिक अखिलेश ने बताया कि समाजवादी पार्टी पूरे उत्तर प्रदेश में 15 अप्रैल से सदस्यता अभियान चलाएगी। इसके बाद 30 सितंबर तक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव किया जाएगा। इसी महीने संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में सपा ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ा था। सपा-कांग्रेस गठबंधन को बीजेपी के आगे बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा। जिसके बाद से कहा जा रहा था कि सपा को कांग्रेस के साथ गठबंधन करने के कारण भी चुनाव में नुकसान पहुंचा है। सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए यह गठबंधन किया था। हालांकि नतीजों में बीजेपी को भारी बहुमत हासिल हुआ।

गौरतलब है कि चुनाव से पहले यादव परिवार और पार्टी के शीर्ष नेतृत्व में मची कलह खुलकर सामने आ गई थी। पूरी पार्टी अखिलेश और शिवपाल खेमे में बंट गई। मुलायम सिंह यादव अपने भाई शिवपाल यादव के साथ खड़े हुए नजर आए और उन्होंने अखिलेश यादव और रामगोपाल यादव को पार्टी से बाहर कर दिया था। जिसके बाद रामगोपाल यादव ने पार्टी का राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाया, जिसमें अखिलेश यादव को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुन लिया गया। यह लड़ाई चुनाव आयोग की चौखट पर पहुंची। चुनाव आयोग ने भी पार्टी और चुनाव चिन्ह को लेकर अखिलेश यादव के पक्ष में फैसला दिया था।

 

मुलायम सिंह यादव की पत्नी साधना गुप्ता ने तोड़ी चुप्पी; कहा- "मेरा बहुत अपमान हुआ, नेता जी ने राजनीति में आने नहीं दिया"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.