December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

रेल हादसा : पांच वरिष्ठ अधिकारी किए गए निलंबित

झांसी के डीआरएम का तबादला, हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 150 हुई।

Author कानपुर | November 23, 2016 04:26 am
ट्रन हादसे के दौरान की तस्वीर। (file photo)

, 22 नवंबर (भाषा)।
रेलवे ने इंदौर पटना एक्सप्रेस ट्रेन हादसे की जांच के गति पकड़ने के साथ ही मंगलवार को पांच वरिष्ठ अधिकारियों को निलंबित कर दिया और झांसी के संभागीय प्रबंधक का तबादला कर दिया और दोनों ड्राइवरों के खून के नमूने शराब की जांच के लिए भेज दिए ।
बारह साल के एक बच्चे समेत चार और घायलों के दम तोड़ने के साथ ही रविवार के इस ट्रेन हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 150 हो गई। यह हादसा पिछले 17 सालों में सबसे भीषण रेल हादसा है।
वरिष्ठ संभागीय मेकेनिकल इंजीनियर (कैरेज एवं वेगन) नवेद तालिब, संभागीय इंजीनियर एमके मिश्रा, वरिष्ठ सेक्शन इंजीनियर अंबिका ओझा, सेक्शन इंजीनियर ईश्वर दास और वरिष्ठ सेक्शन इंजीनियर सुशील कुमार गुप्ता कर्तव्य के प्रति लापरवाही को लेकर निलंबित कर दिए गए जबकि झांसी संभाग के डीआरएम एस के अग्रवाल का तबादला कर दिया गया। झांसी के डीआरएम का रांची तबादला कर दिया गया और पांच अधिकारी जांच जारी रहने तक के लिए निलंबित कर दिए गए।
रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, जिम्मेदारी तय करने के लिए कार्रवाई करना बहुत जरूरी था। निलंबन और स्थानांतरण आदेश रेल सुरक्षा आयुक्त की जांच चलने तक के लिए जारी किया गया। रेल सुरक्षा आयुक्त पीके आचार्य ने शाम पत्रकारों को बताया कि यह पता करने के लिए ट्रेन के दोनों ड्राइवरों के रक्त नमूने प्रयोगशाला में भेजे गए हैं कि कहीं वे तो नशे की हालत में तो नहीं थे जो भीषण हादसा की वजह रही हो।
उन्होंने कहा, ड्राइवरों के खून के नमूने जांच के लिये प्रयोगशाला में भेजे गए हंै। प्रयोगशाला से रिपोर्ट आने के बाद ही वे आगे कोई टिप्पणी कर पाएंगे।
आचार्य इन सवालों का जवाब दे रहे थे कि क्या ड्राइवर नशे की हालत में थे। आचार्य ने सोमवार को दुर्घटनास्थल का दौरा किया था। उन्होंने कहा कि जांच पूरी होने में दो तीन लग सकते हैं और वह एक महीने के अंदर सरकार को रिपोर्ट सौंप देंगे।
उन्होंने बताया कि ड्राइवर, सहायक ड्राइवर, एक पुलिस निरीक्षक और कुछ अन्य लोगों के बयान दर्ज कर लिए गए हैं। यह पूछताछ का पहला दौर है और आगे भी पूछताछ होगी।
आचार्य ने बताया कि टूटी रेल पटरियों के नमूने कानपुर लाए गए हैं और उन्हें परीक्षण के लिए रिसर्च डिजायन एंड स्टैंडर्ड आॅर्गनाइजेशन में भेजा जा रहा है। सरकारी रेल पुलिस की 12 सदस्यीय टीम टेÑन के पटरी से उतर जाने की जांच के लिए बनाई गई है। अस्पतालों से और घायल ट्रेन यात्रियों की मौत की खबरें आने के साथ ही इस हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 150 हो गयी।
इसी बीच पुखरायां और मलासा स्टेशनों के बीच क्षतिग्रस्त रेल पटरियां बदले जाने के बाद झांसी कानपुर खंड पर रेल सेवाएं बहाल कर दी गई हैं।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ रामायण प्रसाद ने कहा, यहां मेडिकल कॉलेज के रेजेंसी एंड हालेट अस्पताल में इलाज के दौरान राम सिंह (52) और अभय श्रीवास्तव (12) चल बसे। बाकी दो अन्य मृतकों की पहचान नहीं हो पाई है।

 

 

वीडियो: नोट बदलने के लिए शादी के जोड़े में ही बैंक पहुंची दुल्‍हन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 23, 2016 4:26 am

सबरंग