December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

ये स्पा और मसाज सेंटर है केवल हाथियों के लिए, जानिए भारत के बारे में 5 अलबेली बातें

दूध उत्पादन के मामले में भारत अमेरिका, चीन, पाकिस्तान, ब्राजील जैसे देशों से आगे है। 2015 में भारत में 14 करोड़ टन से ज्यादा दूध उत्पादन किया था।

बांद्रा वर्ली सी लिंक (तस्वीर- विकीकॉमंस से साभार)

दिवाली खुशियों का पर्व है। दिये, मिठाई और पटाखे दिवाली की पहचान हैं। दिवाली पर अपने घर और पास-पड़ोस की सफाई करके उसे रोशनी से हम सब सजाते हैं। लेकिन आज हम आपको अपने देश के बारे में पांच ऐसे तथ्य बताएंगे जिनसे आपकी दिवाली की खुशी दोगुनी हो जाएगी। निर्माण क्षेत्र में आम तौर पर भारत को दुनिया के विकसित देशों से पीछे समझा जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में निर्माण और उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए “मेक इन इंडिया” मिशन की शुरुआत की है। लेकिन अगर आप महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई जाएं तो बांद्रा वर्ली सी लिंक का सफर करना न भूलें।

अरब सागर से बंटे मुंबई के दो हिस्सों को जोड़ने वाले इस सी लिंक को बनाने में लगे स्टील के तारों की कुल लंबाई पृथ्वी की परिधि के बराबर है। इसका आधिकारिक नाम राजीव गांधी सी लिंक है।  इसे बनाने में 16 अरब रुपये लगा था। 5.6 किलोमीटर लंबे इस सी लिंक को महाराष्ट्र स्टेट रोड डेवलपमेंट कार्पोरेशन (एमएसआरडीसी) ने बनवाया है। इसका निर्माण हिंदुस्तान कंस्ट्रक्शन कंपनी ने किया है। आठ लेन वाले इस पुल की पहली चार लेन जनता के लिए जून, 2009 में खोल दी गई थी। जबकि बाकी चार लेन मार्च 2010 में आम लोगों के लिए खोली गईं। इसे बनाने में 2,57,00,000 घंटे का मानवीय श्रम लगा। इसका वजन 50 हजार अफ्रीकी हाथियों के वजन के बराबर होगा। इस सी लिंक को देखकर आपको भारतीयों की निर्माण क्षमता पर आपको भी यकीन हो जाएगा।

वीडियो: दिवाली पर जनसत्ता टीम की तरफ से हार्दिक शुभकामना-

सभी जानते हैं कि भारत क्रिकेट का दीवाना मुल्क है। लेकिन शायद कम ही लोग जानते होंगे कि दुनिया की सबसे ऊंचा क्रिकेट मैदान भारत में है। 2,444 मीटर ऊंचाई पर स्थित चैल क्रिकेट ग्राउंड हिमाचल प्रदेश में स्थित है। इस क्रिकेट ग्राउंड का निर्माण 1893 में चैल मिलिट्री स्कूल के हिस्से के तौर पर किया गया था।

भारत को हाथियों का देश कहा जाता है। हाथी को महत्वपूर्ण हिंदू देवता गणेश के प्रतीक भी माने जाते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार गणेश के पिता शिव ने नवजात हाथी का सिर काटकर नवजात गणेश के सिर पर लगा दिया था। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार ऐरावत नाम का सफेद हाथी देवताओं के राजा इंद्र का वाहन था। जिस देश में हाथी का इतना महत्व अगर उस देश में हाथियों के लिए दुनिया का अपनी तरह का पहला स्पा और मसाज सेंटर खोला जाना कोई बड़ी बात नहीं। जी हां, आपने सही सुना। केरल के पुन्नाथूर कोट्टा एलीफैंड यार्ड रिजुवेनेशन सेंटर में केवल हाथियों के लिए स्पा और मसाज सेंटर खोला गया है।  यहां हाथी न केवल स्पा और मसाज का आनंद लेते हैं बल्कि उन्हें मनपसंद खाना भी परोसा जाता है।

आपने बचपन में किस्से-कहानियों में पढ़ा-सुना होगा कि एक वक्त था कि भारत में दूध-दही की नदियां बहती थीं। हो सकता है कि आपको ये बातें तब हैरत भरी और अभ अतिश्योक्ति लगती हों लेकिन ये पूरी तरह कपोल-कल्पना भर नहीं है। आपको बता दें कि आज भी भारत में दूध का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। यानी दूध-दही की नदियों की बात भले ही किसी कवि की कल्पना की उड़ान हो लेकिन हमारे देश में इन अवयवों की प्रचुरता निर्विवाद है। दूध उत्पादन के मामले में भारत अमेरिका, चीन, पाकिस्तान, ब्राजील जैसे देशों से आगे है। 2015 में भारत में 14 करोड़ टन से ज्यादा दूध उत्पादन किया था। इस मामले में दूसरे नंबर पर अमेरिका (करीब नौ करोड़ टन) रहा। जाहिर है इस मामले में भारत अमेरिका से काफी आगे है। बाकी देशों की तो बात ही क्या।

त्योहार का मौका है इसलिए भारत के बारे में पांचवी अलेबेली बात में मिठास न हो तो ये बहुत नाइंसाफी होगी। जी हां, हम अब आपको जो बताने जा रहे हैं उससे आपके मुंह में मिठास जरूर आ जाएगी। शायद आप नहीं जानते होंगे कि दुनिया में चीनी बनाने की शुरुआत सबसे पहले भारत में हुई थी। कई विदेशी सैलानियों ने भारत आकर ये तकनीकी  सीखी और चीनी पूरी दुनिया में फैल गई।

वीडियो: इस एटीएम से निकलते हैं सोने के सिक्के- 

Read Also: दिवाली 2016: एसएमएस, व्हाट्सएप मैसेज में क्या लिखें? ये संदेश पढ़कर दूर हो सकती है आपकी उलझन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 30, 2016 7:45 am

सबरंग