ताज़ा खबर
 

केवल एक सुनवाई में आने के 15-20 लाख लेते हैं वकील, फि‍र भी कई बार जज के सामने नहीं गलती दाल

सीनियर एडवोकेट राम जेठमलानी सुप्रीम कोर्ट और दिल्ली हाई कोर्ट में एक पेशी के लिए औसतन 25 लाख रुपये लेते हैं।
देश के प्रमुख सीनियर एडवोकेट सुप्रीम कोर्ट या हाई कोर्ट में एक बार पेश होने के लिए औसतन 5015 लाख रुपये तक लेते हैं। (Illustration: C R Sasikumar)

सीनियर एडवोकेट राम जेठमलानी द्वारा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को 3.42 करोड़ रुपये का बिल भेजे जाने के बाद से देश के  शीर्षस्थ वकीलों की फीस जेरे बहस है। जेठमलानी वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा दर्ज कराए गए मानहानि के मुकदमे में केजरीवाल की तरफ से पेश होते हैं। जेठमलानी की फीस की खबर मीडिया में आती ही इस बात पर बहस छिड़ गई कि ये पैसे उन्हें केजरीवाल या आम आदमी पार्टी देंगे या दिल्ली सरकार जनता के खजाने से ये पैसा देगी? अभी ये बहस चालू ही थी कि जेठमलानी ने कह दिया कि वो गरीब मुवक्किलों से पैसे नहीं लेते और वो केजरीवाल को भी गरीब समझकर उनसे पैसा नहीं लेंगे। लेकिन क्या मोटी फीस लेने वाले मुवक्किलों को उनका मनचाहा फैसला दिलवा पाते हैं?

इस सवाल का सीधा जवाब है- कभी हाँ, कभी ना। यानी जरूरी नहीं कि मोटी फीस वाले वाले वकील मुवक्किल को केस जिता ही दें। ये अलग बात है कि बड़े वकीलों से मुवक्किलों को बड़ी उम्मीद होती है। अगर बात राम जेठमलानी ही की करें तो औसतन 25 लाख रुपये प्रति पेशी की फीस लेने वाले जेठमलानी कई चर्चित मामलों में वो अपने मुवक्किलों को राहत दिलवाने में नाकाम रहे। चाहे वो जेसिका लाल हत्याकांड के आरोपी मनु शर्मा हों या नाबालिग लड़की के बलात्कार के आरोपी आसाराम बापू जेठमलानी उन्हें मनचाहा फैसला नहीं दिलवा सके। जेठमलानी इंदिरा गांधी के हत्यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह, और राहुल गांधी की हत्या के दोषी वी श्रीहरन को भी राहत नहीं दिला सके थे।

पूर्व केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री कपिल सिब्बल सुप्रीम कोर्ट में एक पेशी के लिए 5-15 लाख रुपये लेते हैं जबकि दिल्ली हाई कोर्ट में पेश होने के लिए वो 9-16 लाख रुपये लेते हैं। हाल ही में जब सिब्बल सहारा समूह के प्रमुख सुब्रतो रॉय की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए तो वो अपने मुवक्किल को वांछित राहित नहीं दिला सके थे। सहारा को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 14 हजार करोड़ रुपये जमा करने हैं। जब फरवरी में इस मामले की सुनवाई के दौरान सिब्बल ने पैसे जमा करने के लिए जुलाई तक समय मांगा तो सर्वोच्च अदालत ने उन्हें झिड़की देते हुआ कहा कि वो जल्द पैसे जमा कराए नहीं तो उनके मुवक्किल की संपत्तियों को नीलाम करने का आदेश दे देंगे।

पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री अभिषेक मनु सिंघवी सुप्रीम कोर्ट में एक पेश का 6-11 लाख रुपये लेते हैं। वहीं दिल्ली हाई कोर्ट में पेश होने के लिए सिंघवी हर बार का 7-15 लाख रुपये लेते हैं। लेकिन हाल ही में जब सिंघवी सोसाइटी ऑफ ऑटोमोबाइल मैनुफैक्चरर की तरफ से बीएस-3 गाड़ियों पर रोक लगाने के मामले में पेश हुए तो उन्हें अदालत से राहत नहीं मिली। सुप्रीम कोर्ट ने सिंघवी की दलीलों को खारिज करते हुए 31 मार्बीच के बाद एस-3 गाड़ियों पर बिक्री पर रोक लगा दी।

पूर्व कानून मंत्री और सीनियर एडवोकेट शांति भूषण भी देश के नामी-गिरामी वकीलों में गिने जाते हैं। शांति भूषण सुप्रीम कोर्ट और दिल्ली हाई कोर्ट में हर पेशी के लिए 4-6 लाख रुपये लेते हैं। शांति भूषण अभी हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में सहारा-बिरला डायरी मामले में एक एनजीओ की तरफ से पेश हुए थे। भूषण के मुवक्किल की मांग थी कि इन डायरी के आधार पर प्रदानमंत्री नरेंद्र मोदी पर मुकदमा चलाया जाए लेकिन सर्वोच्च अदालत ने उनकी दलीलें खारिज कर दीं।

फाली नरीमन, कपिल सिब्बल, पी चिदंबरम जैसे बड़े वकील कितनी फीस लेते हैं ये जानने के लिए तस्वीर पर क्लिक करें-

Ram jethmalani, Ram jethmalani lawyer, court fees of ram jethmalani, fees of ram jethmalani, lawyers fess, famous lawyers in india, top lawyers in india, lawyers list, kapil sibbal, salman khurshid, shanti bhushan, p chidambaram, fee of kapil sibbal देश के मशहूर वकीलों में से एक राम जेठमलानी अपनी फीस को लेकर सुर्खियों में हैं। लीगली इंडिया की साल 2015 की रिपोर्ट के अनुसार राम जेठमलानी देश के सबसे महंगे वकील हैं और वो हर पेशी के 25 लाख रुपये लेते हैं। जेठमलानी सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट दोनों अदालतों में 25 लाख से अधिक फीस लेते हैं। आइए जानते हैं जेठमलानी के अलावा देश के अन्य वरिष्ठ वकील एक पेशी के लिए कितने रुपये फीस लेते हैं।

वीडियो: RBI ला रहा है 200 रुपए का नोट? सरकार की मंजूरी के बाद जून में शुरु होगी प्रिंटिंग!

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग