ताज़ा खबर
 

फर्जी डिग्री मामला: अदालत ने किया तोमर को अंतरिम राहत देने इनकार

आप नेता जितेन्द्र सिंह तोमर को झटका देते हुए दिल्ली की एक अदालत ने पुलिस रिमांड के खिलाफ उनकी याचिका को आज खारिज कर दिया । अदालत ने कथित फर्जी डिग्री मामले में आप नेता को राहत देने से इंकार करते हुए कहा कि उन्हें अंतरिम राहत प्रदान करने से मामला और ‘जटिल’ हो जायेगा।
Author June 12, 2015 10:37 am
इससे पहले 22 जून को अदालत ने जमानत याचिका खारिज करते हुए तोमर को आज तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेजा था। (फोटो: विशाल श्रीवास्तव)

आप नेता जितेन्द्र सिंह तोमर को झटका देते हुए दिल्ली की एक अदालत ने पुलिस रिमांड के खिलाफ उनकी याचिका को आज खारिज कर दिया । अदालत ने कथित फर्जी डिग्री मामले में आप नेता को राहत देने से इंकार करते हुए कहा कि उन्हें अंतरिम राहत प्रदान करने से मामला और ‘जटिल’ हो जायेगा।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश संजीव जैन ने दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री तोमर की अंतरिम जमानत की याचिका को स्वीकार करने से तब तक के लिए इंकार किया जब तक कि उनकी नियमित याचिका पर सुनवाई नहीं होती है। उनकी नियमित जमानत की याचिका पर 16 जून को सुनवाई होगी।

अदालत ने कहा, ‘‘ अंतरिम जमानत का आदेश देने से मामला और जटिल हो जायेगा और यह न तो उपयुक्त और न ही आवश्यक है। इस मामले में तथ्यों और परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए रिकार्ड को देखने के बाद व्यवहारिक ढंग से विचार करने की जरूरत है।’’

अदालत के अनुसार, ‘‘ यह सभी पक्षों के हित में है कि जमानत याचिका पर निर्णय पुलिस रिमांड की अवधि समाप्त होने पर रिकार्ड पर विचार करने के बाद किया जाए। जमानत की याचिका उपयुक्त अधिकार क्षेत्र वाली अदालत में 16 जून को पेश करें।’’

अदालत ने इस मामले के जांच अधिकारी (आईओ) को अगली सुनवाई के दौरान अदालत में उपस्थित होने का निर्देश दिया।

अदालत ने तोमर की ओर से दायर उस समीक्षा याचिका को भी खारिज कर दिया, जिसमें नौ जून को मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट द्वारा उन्हें चार दिन की पुलिस रिमांड में भेजने के आदेश को चुनौती दी गई थी।

Read- तोमर फर्जी डिग्री विवाद: राजनीति का दामन

बहरहाल, अदालत ने कहा कि तोमर अपनी पुलिस हिरासत के खिलाफ नये सिरे से याचिका दायर करने के लिए स्वतंत्र हैं।
कल सत्र अदालत के समक्ष दायर याचिका में इस मामले में अपनी गिरफ्तारी को चुनौती देते हुए तोमर ने आरोप लगाया था कि पुलिस ने कानून के तहत निर्धारित प्रक्रिया का उल्लंघन कर उन्हें गिरफ्तार किया था।

उल्लेखनीय है कि 49 वर्षीय तोमर को दिल्ली पुलिस ने दिल्ली बार काउंसिल की शिकायत के आधार पर दर्ज एफआईआर के तहत नौ जून को गिरफ्तार किसा था जिसमें अधिवक्ता के रूप में पंजीकरण कराने के लिए शैक्षणिक डिग्री समेत कथित फर्जी दस्तावेज पेश करने की बात कही गई थी।

मजिस्ट्रेट की अदालत ने तोमर को 13 जून तक चार दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया था।

पुलिस ने उनकी डिग्री को फर्जी बताते हुए पांच दिन की पुलिस हिरासत मांगी थी क्योंकि शैक्षणिक योग्यता की पुष्टि के लिए उन्हें उत्तरप्रदेश के फैजाबाद और बिहार के भागलपुर ले जाने की जरूरत थी।

आईओ ने अदालत को बताया था कि दिल्ली बार काउंसिल की शिकायत के आधार पर एक प्रारंभिक जांच की गई और संबंधित विश्वविद्यालयों से रिपोर्ट मिलने के बाद एफआईआर दर्ज की गई।

दूसरी ओर, तोमर की ओर से उपस्थित होने वाले वकील ने दलील दी कि पुलिस ने उन्हें कानून के प्रावधानों का अनुपालन किये बिना गिरफ्तार किया और सीआरपीसी की धारा 160 के तहत उन्हें गिरफ्तार करने से पूर्व नोटिस जारी नहीं किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    suman sharma
    Jun 11, 2015 at 9:06 pm
    तोमर डिग्री विवाद में दिल्ली पुलिस की जल्दबाजी / तत्परता पहली नज़र में नाइंसाफी है चुने हुए व्यक्ति, एक नेता, जिसके पीछे अपार जनता है, संगठन काम कर रहा है, यदि शिकार हो गया है तो आम जन का क्या हो सकता है , सोच कर भय लगता है ! इस तरह का व्यव्हार बेशक बीजेपी इसमें शामिल है या नहीं परन्तु जिम्मेदार अवश्य लगती है - किसी तरह का अपराध हुआ है अथवा नहीं सिद्ध होना बाकि है परन्तु सारा का सारा दृश्य देखने में अच्छा नहीं लगा. ये इस्थिति देश के लिए, जनता के लिए, सभ्य समाज के लिये घातक है. भगवान रक्षा करे
    (0)(0)
    Reply
    1. S
      suman sharma
      Jun 11, 2015 at 9:22 pm
      हिंदुस्तान में बहुत बहुत संगीन अपराध होते हैं परन्तु इतनी हशियारी दिल्ली पुलिस की बहुत कम देखने में मिली है, तोमर की गिरफ़्तारी में तत्परता कुछ ऐसी नहीं लग रही की जैसे क़त्ल हुआ और चंद मिनटों में फर्स्ट इनफार्मेशन रिपोर्ट लिखी गयी, अपराधी पकड़ा गया और जेल हो गयी. सरकारें विचार करें. बेशक बहुत राजनैतिक पार्टिया हैं परन्तु हम सब भारत माता की संतान हैं - हमारा प्रयास एक सभ्य समाज बनाने का होना चाहिए नाकि किसी को खत्म ही कर दें - किसी को लगे या ना लगे में तो भयभीत हूं.
      (0)(0)
      Reply