ताज़ा खबर
 

जामा मस्जिद के शाही इमाम बोले- हिन्दू धर्म का करते हैं सम्मान लेकिन गोरक्षा के नाम पर मुस्लिमों को मारा गया तो होंगे गंभीर परिणाम

बुखारी ने लिखा है कि बकरीद के मौके पर जानवरों की कुर्बानी देना इस्लामिक परंपरा रही है और इसमें किसी तरह का व्यवधान नहीं आना चाहिए।
दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी। (फाइल फोटो)

दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर ईद-उल-अजहा यानी बकरीद पर मुस्लिमों की सुरक्षा सुनिश्चित कराने की मांग की है। अपने पत्र में शाही इमाम ने लिखा है कि सरकार यह सुनिश्चित कराए कि बकरीद के मौके पर भैंसों और बकरियों को ढोने वाले लोगों पर कोई जुल्म ना हो। उन्होंने लिखा है, “हमलोग गौकशी के समर्थक नहीं हैं। गाय के साथ किसी धर्म विशेष के लोगों की भावनाएं जुड़ी हैं। इसलिए हम भी उनकी भावनाओं का सम्मान करते हैं लेकिन जो लोग बकरियों या भैंसों की ढुलाई में लगे हैं और उन्हें जानवरों की रक्षा के नाम पर मारी-पीटा गया तो देश में शांति-सद्भाव का माहौल बिगड़ सकता है।”

बुखारी ने लिखा है कि बकरीद के मौके पर जानवरों की कुर्बानी देना मुस्लिम धर्म की परंपरा रही है और इसमें किसी तरह का व्यवधान नहीं आना चाहिए। बुखारी ने लिखा है कि जब हमलोग किसी के धार्मिक आयोजन में व्यवधान नहीं खड़ा करते तो मुस्लिमों को भी उनकी धार्मिक परंपराओं या रीति-रिवाजों के निर्वहन में किसी को बाधा नहीं डालना चाहिए। बुखारी ने गृह मंत्री को 12 जुलाई को पत्र लिखा है। एक सितंबर को बकरीद मनाया जाना है।

शाही इमाम ने सरकार को ऐसे समय में पत्र लिखा है, जब हाल के दिनों में गौरक्षकों द्वारा देशभर में कई जगह बीफ के शक में मुसलमानों की पिटाई या हत्या की जा चुकी है। पिछले दिनों चलती ट्रेन में जुनैद नाम के एक किशोर की भीड़ ने बीफ के शक में पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। इसके अलावा करीब साल भर पहले बीजेपी के प्रवक्ता और मौजूदा यूपी सरकार में मंत्री श्रीकांत शर्मा ने मुस्लिमों से इको फ्रेंडली ईद मनाने का आह्वान किया था। शर्मा की मुहिम को मुस्लिमों ने बिना कुर्बानी के बकरीद मनाने के तौर पर लिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Aditya Agniveer
    Jul 16, 2017 at 5:15 pm
    सीट के लिए हुए विवाद को बीफ का मुद्दा साबित करके तुम खब बताना क्या चाहते हो? भारत दुनिया का एकलौता देश है जहाँ मुसलमानों को लोकतांत्रिक अधिकार के बेहतर सुरक्षा उपलब्ध है। कभी पाकिस्तान वाले रिश्तेदारो से पुछना की बाजार से घर लौटने के वजाए सीधे जहन्नुम निकल लेते हैं और पता भी नही चलता।
    (0)(0)
    Reply
    1. D
      dharmvir prasad
      Jul 15, 2017 at 4:24 pm
      जुनैद को भीफ नहीं शीट के लिये लड़ाई में मारा था - ी खबर देने में शर्मा आती है क्या , ज़ी news के अनुसूार २०० से जाडा मौत ट्रैन में हुई है उसकी खबर देते कोई नहीं हो , ो सब हिन्दू है इसलिए क्या ,
      (0)(0)
      Reply
      1. R
        ram
        Jul 15, 2017 at 12:56 pm
        रिया को दिल्ली में एक मुल्ले ने सरेआम चाकू मार दिया सायद आपको ये न्यूज़ पता भी न हो क्यों की मरने वाले हिन्दू था खूब चलो वह मुस्लिम को मारा वह मारा हिन्दू सब समझ रहा है जैसे इस देश में हिन्दू को कोई करोच तक नहीं आ रही है मुस्लिम रोज कटे जा रहे है बंगाल में हिन्दू का कत्लेआम कश्मीर में कत्लेआम अमरनाथ यात्री पर ह ा केरला में हिन्दू का कत्लेआम ये सब मत दिखा हिन्दू बे यूनाइटेड सपोर्ट मोदी
        (0)(0)
        Reply
        सबरंग