ताज़ा खबर
 

इंटरनेशनल कोर्ट की परवाह नहीं, कुलभूषण जाधव को फांसी पर लटकाएंगे: पाकिस्तानी सुरक्षा विशेषज्ञ

सैयद तारिक पीरजादा पाकिस्तान के सुरक्षा विशेषज्ञ हैं और अक्सर भारत के खिलाफ बयानबाजी करते रहते हैं।
पूर्व भारतीय नेवी ऑफीसर कुलभूषण जाधव

कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर इंटरनेशनल कोर्ट द्वारा रोक लगा दिये जाने के बावजूद पाकिस्तान के रवैये के प्रति भारत की चिंता बरकरार है। भारत को इस बात की चिंता सता रही है कि पाकिस्तान में कुलभूषण जाधव के साथ अनहोनी हो सकती है।  भारत को इस बात की भी आशंका है कि पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय कोर्ट के फैसले का सम्मान नहीं भी कर सकता है। भारत की इस आशंका की वजह भारत के खिलाफ जहर उगलने वाले पाकिस्तान के कुछ सुरक्षा विशेषज्ञों का वो बयान है जो उन्होंने इंटरनेशनल कोर्ट के फैसले के बाद दिया है। पाकिस्तान के सुरक्षा विशेषज्ञ ने सैयद तारिक पीरजादा ने कहा है कि  हमें इंटरनेशनल कोर्ट के फैसले की परवाह नहीं है, हम कुलभूषण जाधव को फांसी पर जरूर चढ़ाएंगे। अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाउ से बातचीत में पीरजादा ने कहा, ‘हमें इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस की की परवाह नहीं है, हम जाधव को फांसी पर चढ़ा देंगे।’ बता दें कि सैयद तारिक पीरजादा पाकिस्तान के चैनलों पर आने वाले सुरक्षा विशेषज्ञ हैं और अक्सर भारत के खिलाफ बयानबाजी करते रहते हैं।

हरीश साल्‍वे ने पहला केस दिलीप कुमार का लड़ा था, बिना जिरह ही जीत गए थे केस

बता दें कि कश्मीर के राजनीतिक विश्लेषक सुशील पंडित ने भी कहा है कि हम वैसे देश के साथ डील कर रहे हैं जहां प्रधानमंत्री को भी फांसी दे दी जाती है। लिहाजा भारत को काफी सावधान रहना पड़ेगा। बता दें कि पाकिस्तान के पूर्व पीएम जुल्फिकार अली भुट्टो को पाकिस्तान में फांसी दे दी गई थी। जुल्फिकार अली भुट्टो 1973 में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री थे। जनरल जिया उल हक ने उनका तख्तापलट कर दिया था और उन पर विरोधी नेता की हत्या का आरोप लगाकर मुकदमा चलाया गया और उन्हें मौत की सजा सुनाई गई। पाकिस्तान ने तमाम अंतर्राष्ट्रीय दबावों की परवाह ना करते हुए जुल्फिकार अली भुट्टो को फांसी पर लटका दिया था।
राम जेठमलानी, कपिल सिब्‍बल, पी. च‍िदंबरम, शांति भूषण जैसे नामी वकीलों की क्‍या है फीस, जानिए

कुलभूषण जाधव की मौत की सजा पर ICJ ने अंतिम फैसला आने तक लगाई रोक; जानिए क्या है पूरा मामला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 19, 2017 11:59 am

  1. No Comments.
सबरंग