December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

मंदिर में मुंडन करवाने के बाद लंदन के सैलून पहुंच जाते हैं आपके बाल, इस बीच क्‍या होता है, जानिए

अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय बालों की अधिक कीमत मिलती हैं क्योंकि इन्हें "वर्जिन हेयर" (अछूते बाल) कहा जाता है।

तिरुपति बालाजी में चढ़ाे गए बाल (फाइल फोटो)

बच्चों के संस्कार से लेकर अंतिम संस्कार तक भारतीय सृंस्कृति में बाल मुंडवाने की प्रथा का काफी महत्व है।  देश के कई मंदिरों में बाल चढ़ाने की प्रथा है। दक्षिण भारत के तिरुपति बालाजी मंदिर ,समेत कई मंदिरों में तो मन्नतें पूरी होने पर बाल चढ़ाने वालों का तांता लगा रहता है। इन मंदिरों में हर रोज सैकड़ों टन बाल चढ़ाये जाते हैं। आपने सुना होगा कि मंदिरों को बाल बेचकर लाखों-करोड़ों का मुनाफा हुआ।  लेकिन आप ने कभी यो सोचा है कि इन कटे हुए बालों का क्या होता है? इनका इस्तेमाल कौन करता है और इन्हें इस्तेमाल लायक कैसे बनाया जाता है? और ये लंदन या किसी दूसरे पश्चिमी शहर के बाजार तक कैसे पहुंचते हैं?

इन बालों की लंदन यात्रा का पहला सफर उस मंदिर से शुरू होता है जहां ये चढ़ाए जाते हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय बालों की अधिक कीमत मिलती हैं क्योंकि इन्हें “वर्जिन हेयर” (अछूते बाल) कहा जाता है। इन्हें वर्जिन कहने के पीछे भी ठोस वजह है। ज्यादातर भारतीय बालों को रंगने या ड्राइ करने से दूर रहते हैं। मंदिरों में बाल चढ़ाने वाले निम्न वर्गीय, मध्यम वर्गीय तो हेयर स्टाइलिंग भी नहीं कराते इसलिए उनके बाल लगभग नैसर्गिक अवस्था में ही होते हैं। इसके अलावा बचपन से बढ़ाए गए बालों में केराटीन की मात्रा अधिक होती है। इस प्रोटीन की वजह से बाल स्वस्थ रहते हैं। इसीलिए इन्हें “वर्जिन हेयर” कहा जाता है।

वीडियो: आमिर खान ने रिलीज किया अपनी फिल्म दंगल का ट्रेलर-

मंदिर में चढ़ाए गए बालों को प्रोसेसिंग के लिए कारखाने में ले जाया जाता है। प्रोसेसिंग के पहले चरण में इन्हें हाथों से सुलझाया जाता है। हाथों से लाखों टन बालों को सुलझाना काफी कष्टकारी और समयसाध्य प्रक्रिया होती है। कारखाने में कामगार पतली सूइयों की मदद से इन्हें सुलझाते हैं तब ये बाल प्रोसेसिंग के अगले चरण के लिए तैयार हो पाते हैं।

Read Also: प्लेन में मुस्लिम महिला का बुर्का हटाने पर आरोपी को हुई एक साल की जेल और 66 हजार रुपये जुर्माना

सुलझाए जाने के बाद इन बालों को लोहे के एक कंघे से झाड़कर साफ किया जाता है। इसके बाद इन बालों को उनकी लंबाई के अनुसार अलग-अलग बंडल में बांधा जाता है। उसके बाद बालों के बंडलों कीटाणुरहित बनाने के लिए  तनु अम्ल के घोल में डुबोया जाता है। साफ किए गए बालों सबसे अच्छी गुणवत्ता वाले बालों को ऑस्मोसिस बाथ कराया जाता है ताकि उनके क्यूटिकल्स नष्ट हुए बिना उनपर लगे दाग-धब्बे छूट जाएं। इन साफ और स्वस्थ बालों से महिलाओं और पुरुषों के लिए रंग-बिरंगे बिग बनाए जाते हैं और उन्हें उन देशों को निर्यात किया जाता है जहां इनकी काफी मांग होती है।

कई बार सस्ती कीमत के लिए मानवीय बालों के साथ घोड़े या बकरी के बालों की मिलावट कर दी जाती है। इसके अलावा असली बाल बताकर सिंथेटिक बाल भी बेच दिए जाते हैं। लेकिन अच्छी गुणवत्ता वाले असली मानवीय बालों से बने बिग अंतरराष्ट्रीय बाजार में बहुत महंगे बिकते हैं। अगर कोई दुकानदार आपसे ठीक-ठाक गुणवत्ता वाले एक बिग की कीमत 10 हजार रुपये मांगे तो समझिए ये ज्यादा नहीं है। इनकी कीमत की वजह से ही अंतरराष्ट्रीय बाजार में कई बार इन्हें “काला सोना” भी कहा जाता है।

Read Also: ट्विंकल खन्ना ने महिलाओं को दी करवा चौथ का व्रत नहीं रखने की सलाह, वजह भी बताई

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 20, 2016 4:47 pm

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग