ताज़ा खबर
 

सोशल मीडिया पर कैंपेन के बाद धोनी ने तोड़ा Amrapali से नाता, पर पत्‍नी साक्षी अब भी डायरेक्‍टर

धोनी पिछले छह-सात साल से कंपनी के ब्रांड एंबेसडर थे। नोएडा स्थित आम्रपाली के सफायर प्रोजेक्ट में रहने वालों की शिकायतें कुछ दिनों से टि्वटर पर वायरल हो रही थीं। इन ट्वीट्स में धोनी को टैग कर कहा गया था कि वह या तो खुद को बिल्डर से अलग कर लें या लंबित काम पूरा करवाना सुनिश्चित करें।
Author नई दिल्ली | April 16, 2016 10:43 am
भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने रियल एस्टेट कंपनी आम्रपाली से रिश्ता तोड़ लिया है। ( file photo)

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने रियल एस्टेट कंपनी आम्रपाली से रिश्ता तोड़ लिया है। अब वह आम्रपाली के ब्रांड एंबेसडर नहीं रहे। कुछ दिनों से आम्रपाली के नोएडा हाउसिंग प्रोजेक्ट के नाराज लोग सोशल मीडिया पर अभियान चलाकर धोनी से कह रहे थे कि वह इस बिल्डर से अपने संबंध खत्‍म कर लें। आम्रपाली के प्रबंध निदेशक अनिल शर्मा ने कहा, ‘धोनी अब हमारे ब्रांड एंबेसडर नहीं हैं। यह निर्णय हमने और धोनी ने मिलकर लिया है।’ इस बीच CNN-IBN ने दावा किया है कि धोनी भले ही आम्रपाली से अलग हो गए हैं, लेकिन उनकी पत्‍नी साक्षी अब भी इस ग्रुप के साथ जुड़ी हुई हैं। वह कंपनी में डायरेक्‍टर हैं।

धोनी पिछले छह-सात साल से कंपनी के ब्रांड एंबेसडर थे। नोएडा स्थित आम्रपाली के सफायर प्रोजेक्ट में रहने वालों की शिकायतें कुछ दिनों से टि्वटर पर वायरल हो रही थीं। इन ट्वीट्स में धोनी को टैग कर कहा गया था कि वह या तो खुद को बिल्डर से अलग कर लें या लंबित काम पूरा करवाना सुनिश्चित करें। शर्मा ने कहा कि अगले तीन महीने में कंपनी सभी लंबित काम पूरा करवा दे।

इससे पहले धोनी ने मुंबई में इस हफ्ते कहा था कि वर्तमान आर्थिक परिस्थितियों में बिल्डरों को समस्या हो रहा है। हांलाकि, उन्होंने आम्रपाली से जुड़े एक सवाल का जवाब देते हुए कहा था, ‘चाहे स्थिति जो भी हो लेकिन जो वादा उन्होंने किया था मेरे ख्याल से उसे पूरा करने की जरूरत है।’ आम्रपाली के सीएमडी शर्मा ने भी कहा था कि फंड के अभाव और प्रॉपर्टी बाजार में सुस्ती के कारण उनके प्रोजेक्ट विलंबित हुए हैं।

नोएडा के सेक्टर-45 में आम्रपाली के सैफायर प्रोजेक्ट का पहला चरण 2009 में लांच हुआ था और यह पूरा हो गया है। यहां रहने वालों की शिकायत है कि एक हजार फ्लैट में से 800 में लोग रह रहे हैं लेकिन इसके कई टावर में सिविल और बिजली के काम अभी तक पूरे नहीं किए गए है। धोनी के बाद अब यहां रहने वाले सोशल मीडिया पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से इस मामले में हस्तक्षेप करने की मांग कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    santosh
    Apr 16, 2016 at 12:11 pm
    जिम्मेदारी तो अखिलेश यादव की है धोनी तो सिर्फ पैसा बना रहा है
    (0)(0)
    Reply
    सबरंग