December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

चुनाव आयोग को हुई चुनावी स्याही की चिंता, वित्त मंत्रालय से कहा नोटबंदी में ना करें इस्तेमाल

पुराने नोट बदलने के लिए बैंक जा रहे लोगों के उंगुली पर अमिट स्याही लगाने का फैसला वित्तमंत्रालय ने लिया था।

नोएडा में आईसीआईसीआई बैंक के बाहर नए नोट के लिए खड़े लोग। (AP Photo/File)

चुनाव आयोग ने गुरुवार को वित्तमंत्रालय को एक पत्र लिखकर बैंकों में नोट बदलने जा रहे लोगों की उंगुली पर अमित स्याही नहीं लगाने के लिए कहा है। चुनाव आयोग ने चिंता जाहिर की है कि कुछ राज्यों में मतदान होने हैं। यह अमित स्याही उन नागरिकों की अंगुली पर लगाई जाती है, जिन्होंने एक बार वोट डाल दिया हो। ऐसे में यह एक बड़ी समस्या बन सकती है। बता दें, वित्तमंत्रालय ने फैसला किया था, जो लोग बैंकों में पुराने नोटों को नए नोटों से बदलने जाएंगे, उनकी उंगुली पर अमिट स्याही लगाई जाएगी।

यह फैसला इसलिए लिया गया था, क्योंकि पुराने नोट केवल एक बार ही बदलने की सीमा लगाई गई थी। बाकी के पुराने नोट खाते में जमा कराने थे। कई लोग बार-बार अपने पुराने नोट नए नोटों के साथ बदलवा रहे थे। ऐसे में कई लोगों के तो नोट एक बार भी नहीं बदल पाए। पहले पुराने नोट बदलने की सीमा 4000 रुपए थे, जिसे बढ़ाकर 4500 रुपए कर दी गई थी। इसके बाद गुरुवार को घोषणा की गई कि शुक्रवार से केवल 2000 रुपए के पुराने नोट ही बदल पाएंगे। आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने कहा था कि बैंक में काउंटर पर पुराने नोट बदलने वालों की उंगुली पर अमिट स्याही लगाई जाएगी, ताकि लोग दोबारा से आकर भीड़ ना बढ़ाएं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान किया था। इसके बाद लोगों को 31 दिसंबर तक पुराने नोट बदलने या अपने अकाउंट में जमा कराने का समय दिया गया था। फैसले के बाद से ही बैंकों के बाहर काफी बड़ी-बड़ी लाइनें देखने को मिल रही हैं। बैंकों के बाहर लगी लंबी लाइनों को लेकर विपक्षी दलों ने मोदी सरकार के इस फैसले पर निशाना भी साधा है। विरोध करने वालों में कांग्रेस पार्टी, बसपा प्रमुख मायावती, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल सहित कई विपक्षी दल शामिल हैं।

मोदी सरकार के इस फैसले को लेकर संसद में भी हंगामा हो रहा है। इस फैसले को लेकर संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही सुचारू रूप से नहीं चल पा रही है। राज्यसभा में विपक्षी दलों के नेता पीएम मोदी को सदन में बुलाने की मांग कर रहे हैं। विपक्षी नेताओं को कहना है कि जब तक पीएम मोदी राज्यसभा में आकर अपना पक्ष नहीं रखेंगे, वे सदन की कार्यवाही को नहीं चलने देंगे।

वीडियो में देखें-चुनाव आयोग ने वित्त मंत्रालय को लिखा- “बैंकों में अमिट स्याही का इस्तेमाल न करें”

वीडियो में देखें- 2000 का नया नोट असली है या नकली? कलर टेस्ट करके ऐसे पहचानें

वीडियो में देखें- शीतकालीन सत्र: सीताराम येचुरी ने कहा- “2000 रुपए के नोट से भ्रष्टाचार दोगुना हो जाएगा”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 18, 2016 10:29 am

सबरंग