December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

विमुद्रीकरण मामला: सुप्रीम कोर्ट में केन्द्र की स्थानांतरण याचिका पर सुनवाई 23 नवंबर को

कोर्ट ने यह टिप्पणी उस वक्त की थी जब अटार्नी जनरल ने कहा था कि विमुद्रीकरण को चुनौती देने संबंधी सभी मामलों पर सिर्फ शीर्ष अदालत को ही सुनवाई करनी चाहिए।

Author नई दिल्ली | November 21, 2016 18:51 pm
उच्चतम न्यायालय (सुप्रीम कोर्ट)

उच्चतम न्यायालय पांच सौ और हजार रुपए के नोट बंद करने के मामले में उच्च न्यायालयों में दायर सभी याचिकाओं के शीर्ष अदालत में स्थानांतरण के लिये केन्द्र की याचिका पर 23 नवंबर को सुनवाई के लिए सोमवार (21 नवंबर) को सहमत हो गया। प्रधान न्यायाधीश तीरथ सिंह ठाकुर और न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड की पीठ के समक्ष अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने केन्द्र की स्थानांतरण याचिका का उल्लेख करते हुये इस पर शीघ्र सुनवाई का अनुरोध किया। इसके बाद न्यायालय ने इसे 23 नवंबर को सूचीबद्ध कर दिया। रोहतगी ने कहा कि शीर्ष अदालत के निर्देशानुसार केन्द्र ने स्थानांतरण याचिका दायर की है। शीर्ष अदालत ने 18 नवंबर को इस मामले की सुनवाई के दौरान कहा था कि बैंकों और डाकघरों के बाहर जनता की लंबी कतारें ‘गंभीर मामला’ है। न्यायालय ने केन्द्र के इस अनुरोध से असहमति व्यक्त की थी जिसमें यह निर्देश देने का अनुरोध किया गया था कि पांच सौ और एक हजार रुपए के नोटों को बंद करने संबंधी आठ नवंबर की अधिसूचना को चुनौती देने वाली किसी भी याचिका पर देश में किसी भी अदालत को विचार नहीं करना चाहिए।

न्यायालय ने यह टिप्पणी उस वक्त की थी जब अटार्नी जनरल ने कहा था कि विमुद्रीकरण को चुनौती देने संबंधी सभी मामलों पर सिर्फ शीर्ष अदालत को ही सुनवाई करनी चाहिए। इस पर पीठ ने जनता की परेशानियों का संज्ञान लेते हुये टिप्पणी की थी, ‘लोग प्रभावित हो रहे हैं। जनता परेशान है। लोगों को अदालतों में जाने का अधिकार है।’ न्यायालय ने जनता को राहत प्रदान करने के लिये किये जा रहे केन्द्र के उपायों पर भी सवाल किये थे और जानना चाहा था कि रुपए बदलने की सीमा घटाकर दो हजार रुपए क्यों की गयी। अटार्नी जनरल ने स्थिति स्पष्ट करते हुये कहा था कि नये नोटों की छपाई के बाद उसे देश में हजारों केन्द्रों पर पहुंचाना होता है और एटीएम मश्रीनों को भी नयी मुद्रा के अनुरूप ढालना होगा। उन्होंने यह भी कहा था कि एक सौ रुपए के नोट चलन में हैं और एटीएम मशीनों को पांच सौ तथा दो हजार रूपए की नई मुद्रा के अनुरूप तैयार करना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 21, 2016 6:51 pm

सबरंग