April 27, 2017

ताज़ा खबर

 

पुलिस का दावा- राहुल गांधी को हमने हिरासत में नहीं लिया, खुद जिप्सी में बैठ गए थे, कहने पर भी नहीं उतरे

राहुल गांधी को पूर्व सैनिक के ओआरओपी की मांग को लेकर सुसाइड करने के बाद दो दिन में तीन बार हिरासत में लिया गया।

Author नई दिल्ली | November 4, 2016 17:19 pm
कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी।

पूर्व सैनिक राम किशन ग्रेवाल के सुसाइड पर पॉलिटिकल ड्रामा गुरुवार को भी जारी रहा और दिल्ली पुलिस के लिए गुरुवार का दिन भी काफी मशक्कत भरा रहा। राहुल गांधी गुरुवार शाम तो 6 से 7 बजे के बीचे जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेने पहुंचे। वहां पहुंचने के कुछ मिनट बाद ही राहुल गांधी ने पुलिस को सूचना दी कि वे इंडिया गेट तक कैंडल लाइट मार्च निकालेंगे। अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने इस पर ऐतराज जताया और कहा कि प्रदर्शन की अनुमति केवल जंतर-मंतर पर ही है। इसके बाद राहुल ने सरेंडर करने की बात कही और पुलिस से कहा कि मुझे अरेस्ट कर लो। पुलिस ने बताया कि जब पुलिस ने गिरफ्तार करने से मना कर दिया तो राहुल खुद पुलिस जिप्सी में जाकर बैठ गए। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुलिस की जिप्सी को घेर लिया और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। कुछ पत्रकारों ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी तक पहुंचने की कोशिश की, लेकिन एसपीजी ने उन्हें वहां से हटा दिया। आखिरकार पुलिस ने इसमें दखल दी और स्थिति को नियंत्रित किया। हालांकि, कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का कहना है कि राहुल गांधी जैसे ही जंतर-मंतर पर पहुंचे, उन्हें जबरन पुलिस जिप्सी में बैठा लिया गया।

वीडियो में देखें- पूर्व सैनिक के अंतिम संस्‍कार में शामिल हुए राहुल गांधी व अरविंद केजरीवाल

साथ ही पुलिस का कहना है कि उन्होंने राहुल को घर पर छोड़ने का फैसला किया था। वे उसे फिरोजशाह रोड़ लेकर गए और वहां पर उतर जाने के लिए कहा। लेकिन राहुल गांधी ने उतरने के लिए मना कर दिया। तभी उन्होंने कुछ कॉल किए और उसके बाद दर्जनों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुलिस जिप्सी को घेर लिया और टायरों की हवा निकाल दी। इस दौरान एसपीजी ने दखल दी और राहुल को दूर ले जाने की कोशिश की। लेकिन कांग्रेस कार्यकर्ताओं का दावा है कि राहुल गांधी को पहले पार्लियामेंट स्ट्रीट थाने ले जाया गया और उसके बाद फिरोजशाह रोड़ और आखिर में तुगलक रोड़ पुलिस स्टेशन ले जाया गया। वहां पर उन्हें 9 बजे छोड़ दिया गया। उन्होंने बताया कि उन्होंने पुलिस की कार का जनपथ मेट्रो स्टेशन तक पीछा किया, लेकिन बाद में कार की स्पीड बढ़ा दी गई।

लेकिन कहानी में रोचक मोड़ तब आया, जब राहुल गांधी के साथी कनिष्क सिंह ने पीसीआर को कॉल की और कहा कि कुछ पुलिसवालों ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का अपहरण कर लिया। इस कॉल के बाद पुलिस में खलबली मच गई और कुछ पीसीआर वैन उन्हें देखने के लिए निकल गई। सिंह ने इस बारे में एफआईआर दर्ज करने की मांग करते हुए शिकायत भी की। बाद में सीनियर अधिकारियों ने पाया कि राहुल गांधी सुरक्षित हैं। पुलिस बयान में कहा गया, ‘राहुल गांधी को टॉलस्टॉय मार्ग पर उस वक्त हिरासत में लिया गया, जब वे बार-बार मना करने के बावजूद भी इंडिया गेट की तरफ कैंडल लाइट मार्च कर रहे थे। उन्हें अन्य नेताओं के साथ तुगलक रोड़ पुलिस स्टेशन लाया गया था।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 4, 2016 12:20 pm

  1. A
    Amlan
    Nov 4, 2016 at 10:54 am
    Why hasn''t Rahul hi gone to meet the family of the dead prison guard in Madhya Pradesh? Rahul is only capable of cheap politics!
    Reply
    1. B
      BollywoodDude
      Nov 4, 2016 at 12:48 pm
      अब हम कभी नही वोट करेंगे भाजपा को .......बाबा हो बाबा इतना गुरपेच पार्टी
      Reply
      1. B
        BollywoodDude
        Nov 4, 2016 at 12:45 pm
        बीजेपी के भैस गइल पानी में ........
        Reply
        1. C
          Chandan
          Nov 4, 2016 at 11:00 am
          if kejriwal starte giving 1 cr to each suicide. parents of ex sarmymen will made all of them to commit suiscide
          Reply
          1. K
            Krishna Chandra
            Nov 4, 2016 at 4:25 pm
            We don't know why politicians and intellectuals are treating Indian Citizen as fools who will never understand their mechanisms.
            Reply
            1. G
              Ganesh
              Nov 4, 2016 at 10:54 am
              Rahul i Pappu is from a C Family. They are fealing uneasy as all avenues to steal are closed
              Reply
              1. अमरेन्द्र चौबे
                Nov 4, 2016 at 12:11 pm
                पप्पू की नौटंकी सब समझ रहे हैं।
                Reply
                1. P
                  Pulak
                  Nov 4, 2016 at 11:01 am
                  They don''t have anything to do so they are just looking for a matter to politicized just to get public attention.
                  Reply
                  1. S
                    Sanjit
                    Nov 4, 2016 at 11:02 am
                    Kejariwal is succeeding in tarnishing the image of Modi and Najib Jung.
                    Reply
                    1. S
                      Shailendra
                      Nov 5, 2016 at 5:04 am
                      अबे क्टटूवे तूने तो कभी बी जे पी को वोट किया ही नहीं था
                      Reply
                      1. S
                        shivshankar
                        Nov 4, 2016 at 12:14 pm
                        पुलिस भी आब सच बोलती है अब तो राम राज्य आ गया है !!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!
                        Reply
                        1. N
                          Nipon Bharali
                          Nov 5, 2016 at 3:48 am
                          में राहुल से ज्यादा पुलिस ट्रस्ट करता हु
                          Reply
                        2. Load More Comments

                        सबरंग