ताज़ा खबर
 

मनोहर पर्रिकर ने कहा- पहले नहीं हुई कभी सर्जिकल स्ट्राइक, इस बार सरकार ने लिया फैसला

भारतीय सेना ने 29 सितंबर को एलओसी पार कर पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किया था।
इंटीग्रेटेड नेशनल सिक्योरिटी फॉरम में रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर। (ANI)

रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पिछले महीने नियंत्रण रेखा के पार सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक की कार्रवाई का ‘बड़ा श्रेय’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को देते हुए बुधवार को इन दावों को खारिज कर दिया कि संप्रग सरकार के शासनकाल में भी इसी तरह की कार्रवाई हुई थी। दो अलग-अलग कार्यक्रमों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि ‘कार्रवाई पर संदेह’ कर रहे लोगों समेत भारत के 127 करोड़ लोग और सेना अभियान के श्रेय की हकदार है क्योंकि यह सशस्त्र बलों ने किया, न कि किसी राजनैतिक दल ने। साथ ही उन्होंने कहा कि फैसला करने और योजना बनाने के लिए इसका बड़ा श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सरकार को जाता है। उन्होंने यह भी साफ कर दिया कि इस तरह के हमले पहले भी होने के संबंध में किए गए दावे गलत हैं क्योंकि इस तरह की कार्रवाई स्थानीय स्तर पर सीमा कार्रवाई दल ने सरकार की जानकारी के बिना की।

वीडियो में देखें-रक्षामंत्री ने क्या कहा?

उन्होंने यहां एक कार्यक्रम में कहा, ‘मुझे सर्जिकल स्ट्राइक के श्रेय को हर देशवासी के साथ साझा करने में कोई दिक्कत नहीं है क्योंकि इसे हमारे सशस्त्र बलों ने किया और किसी राजनैतिक दल ने नहीं किया। इसलिए कार्रवाई पर संदेह करने वालों समेत सभी भारतीय श्रेय साझा कर सकते हैं।’ उन्होंने कहा कि इससे कई लोगों के कलेजे को ठंडक मिलेगी। वह उन लोगों की भावनाओं को समझते हैं, जो हमलों के बाद संतुष्ट हैं। कई राजनैतिक दलों ने लक्षित हमलों पर सवाल उठाए हैं और कुछ ने सबूत मांगे हैं। कांग्रेस ने हमलों पर आधिकारिक तौर पर सरकार का समर्थन करते हुए यह भी कहा है कि इसी तरह के अभियान उसके कार्यकाल के दौरान भी चलाए गए थे।

Read Also: रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर बोले- मुझे कम, पीएम मोदी को ज्यादा जाता है सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय

पर्रिकर ने कहा, ‘मैं पिछले दो वर्षों से रक्षा मंत्री हूं। जो कुछ भी जानकारी है, उससे यह पता चलता है कि पूर्व के वर्षों में कोई लक्षित हमला नहीं हुआ। जिसका वो हवाला दे रहे हैं वो सीमा कार्रवाई दल द्वारा की गई कार्रवाई है। यह समूचे विश्व में की जाने वाली और भारतीय सेना द्वारा की गई एक सामान्य कार्रवाई है।’ अवधारणा को स्पष्ट करते हुए मंत्री ने कहा कि इस तरह के अभियान आधिकारिक आदेश के बिना अथवा सरकार की पूर्व अनुमति के बिना किए जाते हैं। उन्होंने कहा, ‘यह बिना किसी जानकारी के किया जाता है। रिपोर्ट बाद में दी जाती है।’ उन्होंने कहा कि स्थानीय कमांडर हिसाब बराबर करने के लिए ऐसी कार्रवाई करते हैं।

Read Also: सर्जिकल स्‍ट्राइक के सबूत मांगने वालों पर बिफरे भाजपा महासचिव, कहा- सेना पर उंगली उठाना देशद्रोह के बराबर

पर्रिकर ने साफ कर दिया कि पहले के विपरीत इस बार यह लक्षित हमला था क्योंकि ‘फैसला किया गया था और जानकारी’ दी गई और सेना ने अच्छा काम किया।उन्होंने कहा, ‘‘यह एक अभियान था, जो सरकार और राष्ट्र की मंशा का साफ तौर पर संकेत देता है। अगर सरकार इसका राजनैतिक लाभ लेना चाहती है तो सैन्य अभियान महानिदेशक (डीजीएमओ) की बजाय उन्होंने खुद इसकी घोषणा की होती।’

Read Also: भारत सरकार का बड़ा फैसला, नहीं दिखाए जाएंगे सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 12, 2016 4:26 pm

  1. D
    Dev Verma
    Oct 12, 2016 at 12:36 pm
    यह राहुल गाँधी और पूरी फॅमिली इस फुल ऑफ़ लाइज एंड कोर्रुप्त इनको पब्लिक लाइफ से धूर रखना चाहिए.
    Reply
  2. S
    Subham Sharma
    Oct 12, 2016 at 3:30 pm
    ई नेवर सीन सुच होर्रिब्ले गोवेर्नमेंट अबाउट डिफेन्स सर्विसेज.. स्टिल पाय कमीशन फॉर देफेंकय गाइस न वेट व्हेरीस सिविलियन एंजोएद आईटीवेल
    Reply
  3. S
    Subham Sharma
    Oct 12, 2016 at 3:29 pm
    देर मर. मनोहर यू सीम्स एज्ड बूत इन रियल लाइफ आईटी अपीर्स तहत योर एक्सपीरेंस इन पोलटिक्स नॉट गुड अबाउट मिलिट्री. इंस्टेड टॉकिंग न सुच टॉपिक ऑफ़ व्हिच आल एक्शन मस्ट बे केपट साइलेंट यू अरे टेकिंग ओनली पोलटिकल बेनिफिट राथेर तो डिसकस एक्चुअल इश्यूज. यू नीड तो स्पीक अबाउट सोल्डिएर्स सैलरी ऑफ़ व्हिच नॉट येत सेटल्ड एंड सिविलियन्स गोत आईटी एंड स्पेंड विथ थेइर फॅमिली. व्हाट यू थिंक अबाउट डिफेन्स वे दो नॉट अंडरस्टैंड .ई इवन सेर्वेड डिफेन्स फॉर २२ इयर्स बूत नेवर सीन सुच पाय कमीशन वेयर डिफेन्स गाइस अरे वेटिंग
    Reply
  4. S
    suresh chandra
    Oct 13, 2016 at 11:16 am
    कांग्रेश पार्टी के नेताओ को सच से मुह नहीं मोड़ना चाहिए । इसमे कोई संदेह नहीं है की भारतीय सेना विश्व की महानतम सेनाओ मे है लेकिन उनके मार्ग दर्शक भी आज मोदी जी ही है । अगर मोदी जी को भी नेतृत्व का श्रेय जा रहा है तो इसमे कांग्रेश को परेशान होने की आवश्यकता नहीं है । यदि उनके कार्यकाल मे ऐसा होता तो उन्हे श्रेय मिलता । अभद्र भाषा का प्रयोग करने से 44 सीटो से भी नीचे आने का खतरा है । शांति रखे उनका समय अभी नहीं आ सकता देश हित मे मोदी जी का साथ दे अच्छा विपक्ष बने । भगवान इन्हे सद्बुद्धि दे ।
    Reply
सबरंग