ताज़ा खबर
 

हार पर पाकिस्‍तानी अखबारों का वार, लिखा- बिहार वाले ले गए मोदी के पटाखे

पाकिस्‍तान के सभी प्रमुख अखबारों में बिहार चुनाव में एनडीए की हार लीड खबर है। इन सबमें मोदी पर ही निशाना साधा गया है।
Author नई दिल्ली | November 9, 2015 13:17 pm
‘डॉन’ ने बिहार चुनाव परिणाम को लीड खबर के तौर पर लालू-नीतीश की तस्‍वीर के साथ छापा है। अखबार की हेडिंग है- Bihar steals Modi’s firecrackers.

बिहार में भाजपा की अगुआई वाले एनडीए की हार पर पाकिस्‍तानी अखबारों ने भाजपा, नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर निशाना साधा है। ‘डॉन’ ने बिहार चुनाव परिणाम को लीड खबर के तौर पर लालू-नीतीश की तस्‍वीर के साथ छापा है। अखबार की हेडिंग है- Bihar steals Modi’s firecrackers. यह हेडिंग चुनाव प्रचार के दौरान दिए गए अमित शाह के एक बयान पर तंज है। शाह ने कहा था कि अगर भाजपा हारी तो पाकिस्‍तान में पटाखे फूटेंगे। अखबार ने भाजपा की हार को ‘नरेंद्र मोदी की गाय पर की गई राजनीति की नाकामी’ बताया है। यह भी लिखा है कि बीफ खाने को लेकर मुसलमानों के खिलाफ हिंदुओं के बीच प्रचार किए जाने की नीति नाकाम रही।

Also Read- काउंटिंग डे की Inside Story: हार के बाद मां की तस्‍वीर के आगे 2 मिनट खड़े रहे अमित शाह 

 

m3

‘द नेशन’ अखबार ने भी इसे लीड खबर बनाते हुए हेडिंग दिया है- Modi suffers blow in key state election. अखबार ने लिखा है कि हिंदू राष्‍ट्रवादी पार्टी के नेता मोदी ने बिहार चुनाव को अपनी लोकप्रियता का पैमाना बना लिया था।

Also Read- इखलाक का बेटा बोला- बिहार चुनाव में BJP की हार मेरे पिता को देश की श्रद्धांजलि

 

m1

‘डेली टाइम्‍स’ ने बिहार चुनाव परिणाम की खबर को ‘बैनर’ बनाया है। इसमें भी मोदी को ही निशाना बनाया गया है और कहा गया है कि अब प्रधानमंत्री के लिए अहम आर्थिक सुधारों के एजेंडे को आगे बढ़ाना मुश्किल हो जाएगा। अखबार ने मोदी को हिंदू राष्‍ट्रवादी कहा है और लिखा है कि बिहार के चुनाव प्रचार में धार्मिक तनाव फैल गया था। इसकी वजह यह थी कि हिंदू कट्टरपंथियों ने कई जगह अनेक मुसलमानों की हत्‍या सिर्फ इसलिए कर दी थी कि क्‍योंकि उन्‍हें शक था कि वे गाय चुराते और खाते हैं।

Also Read- मजाक उड़ा तो एग्जिट पोल में NDA को 155 सीटें देने वाले Chanakya ने मांगी माफी

m4

‘द एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून’ ने लिखा है कि विधानसभा चुनावों में मोदी की लगातार दूसरी बड़ी हार से विपक्षी पार्टियों को एकजुट होने और खुद उनकी पार्टी में विरोधियों के सिर उठाने का खतरा बढ़ गया है। साथ ही, विदेशी नेताओं के बीच भी यह डर घर कर सकता है कि मोदी शायद दूसरी बार प्रधानमंत्री नहीं बन सकें।

Also Read- बिहार के नतीजों का केरल, असम, यूपी, तमिलनाडु, प. बंगाल चुनावों पर क्‍या होगा असर, जानिए 
a1

बांग्‍लादेशी अखबारों ने बिहार चुनाव के नतीजों की खबर को उतनी प्रमुखता नहीं दी है। पाकिस्‍तान से उलट, यहां ज्‍यादातर अखबारों ने तो पहले पन्‍ने पर इसे जगह भी नहीं दी है। ‘डेली स्‍टार’ ने पहले पन्‍ने पर खबर छापी है तो सबसे नीचे। और, केवल सूचना भर दी है। कोई टिप्‍पणी नहीं की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. S
    sh
    Nov 9, 2015 at 3:06 pm
    कॉंग्राटूलटिओन्स् तो देना पड़ेगा देश को बदनाम करनेवालो को
    Reply
    सबरंग