ताज़ा खबर
 

दादरी: अखलाक के भाई की गिरफ्तारी की मांग को लेकर अनशन पर बैठीं महिलाएं

जब अदालत तक ने मान लिया है कि अखलाक के घर से गोमांस मिला था तो जान मोहम्मद की गिरफ्तारी क्यों नही हो रही है।
Author ग्रेटर नोएडा | October 5, 2016 05:42 am
मोहम्मद अखलाक़ की कुछ लोगों ने सितंबर 2015 में पीट पीट कर हत्या कर दी थी।

दादरी के बिसाहड़ा गांव मेंं गोमांस को लेकर भीड़ के हाथों मारे गए अखलाक के भाई जान मोहम्मद की गिरफ्तारी की मांग को लेकर यहां की महिलाएं आमरण अनशन पर बैठ गई हैं। हालांकि इस मामले में कोई सबूत न होने के कारण पुलिस कार्रवाई नहीं कर पा रही है। मंगलवार को अनशन पर बैठी कई महिलाओं की तबियत बिगड़ गई। डॉक्टरों ने महिलाओं का चेकअप कर अनशन तोड़ देने की सलाह दी है। मालूम हो कि अदालत के आदेश पर रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद से मामले के आरोपियों के परिजन पुलिस पर अखलाक के भाई की गिरफ्तारी का दबाव बना रहे हैं।

दूसरी ओर गोरक्षा हिंदू दल ने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ दादरी तहसील पहुंचकर सभी अघिकारियों का घेराव किया। वेद नागर ने जिलाधिकारी व एसएसपी से मांग की कि जल्द ही जान मोहम्मद को गिरफ्तार किया जाए। वेद नागर ने सभी अधिकारियों से कहा कि दोषी बाहर घूम रहे हैं और पीड़ित महिलाएं भूख हड़ताल कर जिंदगी और मौत से जूझ रही हैं। नागर ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश सरकार हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का काम कर रही है। सरकार को ऐसा नहीं करना चाहिए। जांच के नाम पर बिसाहड़ा के पीड़ित परिवारों व अन्य लोगों को गुमराह किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि जब अदालत तक ने मान लिया है कि अखलाक के घर से गोमांस मिला था तो जान मोहम्मद की गिरफ्तारी क्यों नही हो रही है। फोरेंसिक रिपोर्ट ने भी साफ कर दिया है कि अखलाक के घर से बरामद मांस गाय का ही था, उसके बाद भी पीड़ित परिवारों की बात कोई नहीं सुन रहा है। भूख हड़ताल पर बैठी महिलाओं की तबियत बिगड़ रही है, अगर कोई अनहोनी होती है तो इसकी जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन की होगी। अगर जान मोहम्मद की गिरफ्तारी पर जल्दी कार्रवाई नहीं होती है तो हम आगे के आंदोलन की रणनीति तैयार करेंगे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 5, 2016 5:42 am

  1. No Comments.
सबरंग