ताज़ा खबर
 

खलासी सुपुर्दें खाक कश्मीर में कर्फ्यू जैसी बंदिशें

कश्मीर घाटी में कुछ इलाकों में बंद के साथ ही प्रदर्शनकारियों तथा पुलिस के बीच झड़पें हुई। इस बीच 9 अक्तूबर को उधमपुर पेट्रोल बम हमले के शिकार खलासी को कड़ी..
Author श्रीनगर | October 19, 2015 21:14 pm
फाइल फोटो।

कश्मीर घाटी में सोमवार को कुछ इलाकों में बंद के साथ ही प्रदर्शनकारियों तथा पुलिस के बीच झड़पें हुई। इस बीच 9 अक्तूबर को उधमपुर पेट्रोल बम हमले के शिकार खलासी को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में सुपुर्दे खाक कर दिया गया।

बिगड़े हालात से सख्ती से निपटते हुए सरकार ने चार और लोगों पर लोक सुरक्षा अधिनियम के कड़े प्रावधान लगा दिए। इसके साथ ही इस कानून के तहत गिरफ्तार लोगों की संख्या बढ़कर नौ हो गई है।

श्रीनगर, जाहिद के गृह जिले अनंतनाग और घाटी के कुछ अन्य इलाकों में कर्फ्यू जैसी बंदिशें लगाई गई हैं और पृथकतावादी नेताओं को नजरबंद रखा गया है क्योंकि खलासी जाहिद अहमद की मौत के बाद हालात तनावपूर्ण हैं।

PHOTOS: हंगामे के बीच सुपुर्द-ए-खाक किया गया कश्मीर में गौहत्या की अफवाह का शिकार हुआ जाहिद

पृथकतावादियों और व्यापार संगठनों के आह्वान पर हड़ताल के चलते कश्मीर घाटी में सामान्य जनजीवन पर असर पड़ा। अधिकारियों ने बताया कि अधिकतर दुकानें, व्यापारिक प्रतिष्ठान, पेट्रोल पंप और निजी शैक्षणिक संस्थान बंद रहे जबकि सरकारी कार्यालयों और बैंकों में हाजिरी कम रही।

कश्मीर में बनिहाल बेल्ट से रेल सेवाएं रूकी रहीं और जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर भी प्रदर्शनों के कारण यातायात बाधित रहा। तनावपूर्ण हालात के बीच केबिनेट ने 9 अक्तूबर के उधमपुर पेट्रोल बम हमले की निंदा की और राज्य के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि जाहिद का शव रविवार को शाम सरकारी विमान से दिल्ली से यहां लाया गया और अनंतनाग जिले में उसके गांव बातेंगू में उसके पुश्तैनी कब्रिस्तान में दफना दिया गया। इस दौरान वहां मौजूद लोगों ने नारेबाजी की।

जाहिद के जनाजे के जुलूस में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। इनमें एक युवक को पाकिस्तानी झंडा उठाए देखा गया। अधिकारी ने कहा कि लोग जाहिद के जनाजे में शिरकत कर सकें इसके लिए अनंतनाग थाना क्षेत्र में लागू बंदिशों में ढील दी गई थी।

पुलिस ने बताया कि जाहिद के अंतिम संस्कार के बाद प्रदर्शनकारियों और पुलिसकर्मियों के बीच अनंतनाग और कुछ निकटवर्ती इलाकों में संघर्ष हुए। पुलिस के अनुसार युवकों के समूहों ने अंतिम संस्कार के बाद वापस लौटते हुए बटेंगू और अनंतनाग के कुछ अन्य इलाकों में पुलिसकर्मियों पर पत्थर फेंके।

प्रदर्शनकारियों ने सोमवार को बंद के दौरान रामबन जिले के बनिहाल कस्बे में भी उत्पात मचाया। लोगों ने नारे लगाते हुए टायर जलाए और तकरीबन एक घंटे तक राजमार्ग रोक दिया। चेनाब घाटी के किश्तवार और गंदोह बेल्ट में भी प्रदर्शन हुए। कश्मीर विश्वविद्यालय और स्कूली शिक्षा बोर्ड ने सोमवार को होने वाली सभी परीक्षाएं स्थगित कर दीं।

हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों धड़ों सहित घाटी के तकरीबन सभी अलगाववादी संगठनों और पंडितों के संगठन कश्मीरी पंडित संघर्ष समिति की ओर से हड़ताल का आह्वान किया गया था। एक अधिकारी ने कहा कि पुलिस और अर्धसैनिक बल के जवानों को कानून-व्यवस्था की स्थिति मजबूत करने के लिए तैनात किया गया है।

जनाजे से पहले अनंतनाग और बिजबेहरा थानाक्षेत्रों में लोगों की आवाजाही रोक दी गई थी। इसी तरह की सख्ती श्रीनगर के छह थानाक्षेत्रों में की गई थी। श्रीनगर में भी रविवार को प्रदर्शन हुए थे। एम आर गंज, नवहटा, सफा कदल, मैसुमा, रैनावारी तथा खनयार इलाके प्रभावित रहे। उन्होंने कहा कि यह कदम ऐहतियातन उठाया गया।

कैबिनेट की अध्यक्षता कर रहे मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद ने उधमपुर जिले के शिवनगर में बीते नौ अक्तूबर को हुई घटना की निंदा करते हुए एक प्रस्ताव पेश किया। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘कैबिनेट ने एक मत से प्रस्ताव को स्वीकार किया। बाद में मारे गए व्यक्ति की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा गया।’’

कैबिनेट ने मारे गए युवक के परिवार के लिए पांच लाख रुपये की सहायता राशि तथा एक परिजन को सरकारी नौकरी देने का फैसला किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग