ताज़ा खबर
 

लोकसभा में गूंजा गोरक्षा के नाम पर परेशान करने का मुद्दा

कांग्रेस ने पंजाब में कुछ लोगों पर ट्रांसपोर्टरों को परेशान करने का आरोप लगाते हुए सरकार से कड़ी कार्रवाई की मांग की।
Author नई दिल्ली | August 11, 2016 20:34 pm
लोकसभा की कार्यवाही। (पीटीआई फाइल फोटो)

लोकसभा में गुरुवार (11 अगस्त) को एक सदस्य ने गोरक्षा के नाम पर पंजाब में कुछ लोगों पर ट्रांसपोर्टरों को परेशान करने का आरोप लगाते हुए सरकार से कड़ी कार्रवाई की मांग की। शून्यकाल में इस विषय को उठाते हुए कांग्रेस के रवनीत सिंह ने कहा कि पंजाब में बड़ी संख्या में किसान डेयरी फार्मिंग करते हैं और दुग्ध उत्पादन करते हैं। इसके अलावा राज्य से अच्छी किस्म की गायों को दूसरे राज्यों में भी लेकर जाया जाता है। उन्होंने आरोप लगाया कि लेकिन अब ट्रांसपोर्टरों को समस्या आती है और गोरक्षा के नाम पर लोग गायों को लेकर जाने वाले ट्रकों को रोकते हैं और उनसे वसूली करते हैं।

सिंह ने कहा कि इससे डेयरी फार्मिंग का उद्योग प्रभावित हो रहा है और सरकार को ऐसे लोगों पर कार्रवाई करनी चाहिए। शून्यकाल में ही शिवसेना की भावना गवली ने कहा कि महाराष्ट्र में कुछ जगहों पर गैर सरकारी संगठनों द्वारा आदिवासी बच्चों के लिए चलाये जा रहे स्कूलों को मिलने वाला अनुदान आदिवासी मामलों के मंत्रालय ने बंद कर दिया है जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। उन्होंने इस राशि को बंद नहीं करने की मांग सरकार से की।

भाजपा के संजय जायसवाल ने अपने संसदीय क्षेत्र पश्चिम चंपारण से गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 28 ए और 28 बी पर सड़क की स्थिति खराब होने की बात कही और निर्माण कार्य जल्द पूरा कराने की मांग की। इसी पार्टी के प्रहलाद पटेल ने सामुदायिक रेडियो केंद्रों की प्रसारण रेंज मौजूदा 15 किलोमीटर से बढ़ाकर 50 किलोमीटर तक करने की मांग की। बीजू जनता दल के रवींद्र कुमार जेना ने दूध में मिलावट के बढ़ते मामलों के मद्देनजर इस संबंध में कोई कठोर कानून लाने की मांग सरकार से की।

भाजपा के मनसुख भाई वसावा ने अपने संसदीय क्षेत्र भरूच के अंकलेश्वर पानोली औद्योगिक क्षेत्र में प्रदूषण के लिहाज से घोषित क्रिटिकल जोन को हटाने की मांग की। अन्नाद्रमुक के पी आर सुंदरम ने अपने संसदीय क्षेत्र नामक्कल में केंद्रीय योग और प्राकृतिक चिकित्सा अनुसंधान केंद्र खोलने की दिशा में केंद्र सरकार से कार्रवाई की मांग की। बीजू जनता दल के कुलमणि सामल ने ओड़िशा में कृषि मशीनरी आदि के लिए दी जाने वाली केंद्रीय सहायता को 12 करोड़ रुपए से बढ़ाकर कम से कम 100 करोड़ रुपए करने की मांग की।

भाजपा की हिना गावित ने कहा कि पंचायत अनुसूचित क्षेत्र विस्तार (पेसा) कानून के तहत कई गांवों के छूट जाने से लोग प्रभावित हो रहे हैं और सरकार को फिर से अनुसूचित क्षेत्रों का सर्वेक्षण कराके ऐसे गांवों को पेसा कानून के दायरे में समाविष्ट कराना चाहिए जो पहले छूट गए हैं। अन्नाद्रमुक के पी वेणुगोपाल ने इंडियन मैरीटाइम यूनिवर्सिटी में कोष के दुरुपयोग का मामला उठाया और प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप की मांग की। इसी पार्टी के के एन थिरू रामचंद्रन ने कुडनकुलम परियोजना के लिए तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन का आभार जताया।

शिवसेना के कृपा बालाजी ने एनटीपीसी परियोजना में स्थानीय किसानों को रोजगार के अवसर मुहैया नहीं कराए जाने का मामला उठाया। वाईएसआर कांग्रेस के वाई वी सुब्बारेड्डी ने आंध्र प्रदेश के तंबाकू उत्पादक किसानों का मामला उठाया और उन्हें उनकी फसल का लाभकारी मूल्य दिए जाने की मांग की। शिवसेना के हेमंत गोडसे ने नासिक में बाढ़ से मची तबाही का मुद्दा उठाया। माकपा के मोहम्मद सलीम ने नारद न्यूज डाट काम मामला उठाते हुए कहा कि आचार समिति की अभी तक इस मामले में बैठक नहीं हुई है। उनकी इस बात का तृणमूल कांग्रेस सदस्यों ने विरोध किया।

भाजपा के जर्नादन मिश्रा ने कहा कि जंगली जानवरों और विशेषकर नील गायों के कारण फसलों को काफी नुकसान हो रहा है और इस समस्या से मुक्ति पाने के लिए केंद्र सरकार को राज्यों के वन मंत्रियों का सम्मेलन बुलाना चाहिए। कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने क्षेत्र में पेयजल का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पानी के लिए त्राहि त्राहि मची हुई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने इस क्षेत्र के अपने दौरे में छह महीने के भीतर समस्या के समाधान का वादा किया था लेकिन क्या उनका वह वादा केवल चुनावी जुमला था?

उन्होंने शहरी विकास मंत्री से इस संबंध में एक उच्च स्तरीय समिति गठित करने की मांग की। भाजपा के हरीशचंद्र चौहान ने नासिक के प्याज उगाने वाले किसानों की बदहाली का जिक्र किया और उसका एमएसपी बढ़ाने की मांग की। भाजपा के ही सुशील सिंह ने मगही भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल किए जाने की मांग की। भाजपा की भारती सियाल ने गुजरात के पालिताणा और सौराष्ट्र से हरिद्वार के बीच सीधी ट्रेन सेवा शुरू करने और इसी पार्टी के अश्विनी कुमार चौबे ने विश्वामित्र की तपोभूमि बक्सर में तीर्थस्थल विकसित करने की मांग की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.