ताज़ा खबर
 

16 दिसंबर गैंगरेप: बर्बर बलात्कारी के साक्षात्कार पर सख्त हुई सरकार

ब्रिटेन की एक फिल्म निर्माता के 16 दिसंबर सामूहिक बलात्कार मामले के दोषी के साक्षात्कार को लेकर मंगलवार को विवाद पैदा हो गया। इसके साथ ही सरकार ने मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए तिहाड़ जेल के अधिकारियों से जवाब तलब किया है। वहीं दिल्ली पुलिस ने साक्षात्कार के सिलसिले में मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज […]
भारत के ‘बैन’ के बावजूद निर्भया गैंगरेप पर बनी डॉक्यूमेंट्री बीबीसी ने की प्रसारित

ब्रिटेन की एक फिल्म निर्माता के 16 दिसंबर सामूहिक बलात्कार मामले के दोषी के साक्षात्कार को लेकर मंगलवार को विवाद पैदा हो गया। इसके साथ ही सरकार ने मामले में कड़ा रुख अपनाते हुए तिहाड़ जेल के अधिकारियों से जवाब तलब किया है। वहीं दिल्ली पुलिस ने साक्षात्कार के सिलसिले में मंगलवार को प्राथमिकी दर्ज की।

इसके साथ ही दिल्ली पुलिस ने इस साक्षात्कार को प्रसारित व प्रकाशित करने से मीडिया को रोकने का आदेश हासिल किया। सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने सभी समाचार चैनलों से मुजरिम के साक्षात्कार से जुड़ी खबरें प्रसारित नहीं करने के लिए परामर्श जारी किया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सभी समाचार चैनलों को इस संबंध में परामर्श जारी किया गया है।

दिल्ली पुलिस के आयुक्त बीएस बस्सी ने कहा कि प्राथमिकी में किसी को नामित नहीं किया गया है। ‘मुख्य व्यक्ति’ वह है जिसने ये बयान दिए हैं। उन्होंने पत्रकारों से कहा-यह जघन्य अपराध था। हर किसी को ध्यान रखना चाहिए कि एक अपराध की रिपोर्टिंग से कानून की सीमा का अतिलंघन नहीं हो और अगर ऐसा होता है तो कानून को अपना काम करना पड़ेगा। प्राथमिकी भादंसं की धारा 505 (सार्वजनिक शरारत के लिए दिया गया बयान), 504 (शांति भंग करने के लिए जानबूझकर अपमान करना), 505 (एक) (बी) (लोगों के बीच भय फैलाने या फैलाने की संभावना के उद्देश्य), 509 (शब्द, भाव भंगिमा या कृत्य जिससे महिला के चरित्र का हनन हो) और आइटी एक्ट की धारा 66-ए के तहत दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा में मामला दर्ज किया गया है।

यह पूछने पर कि किसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है, बस्सी ने कहा कि हमने मीडिया की खबरों के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की है और हम जांच करेंगे और जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। कोई भी बयान जिससे दिवंगत पीड़िता की छवि धूमिल होती है या जो आम तौर पर महिलाओं के लिए धमकी है तो यह कानून की सीमा का उल्लंघन है। तिहाड़ जेल की तत्कालीन महानिदेशक विमला मेहरा की इजाजत के बारे में बस्सी ने कहा कि किसी अनुमति के बारे में मुझे जानकारी नहीं है। अगर इसे दिया गया तो इसे कानून की हद में रहने के लिए दिया गया।

अगर कोई कृत्य कानून की सीमा और खासकर भारतीय दंड संहिता की सीमा को लांघता है तो कार्रवाई करना मेरा कर्तव्य है और हमने मामला दर्ज कर लिया है।

वहीं सामूहिक बलात्कार की पीड़िता के अभिभावकों ने मुकेश सिंह के साक्षात्कार में की गई टिप्पणी पर तीखी प्रतिक्रिया जताई है जिसमें दोषी ने भयावह घटना के लिए उनकी बेटी को जिम्मेदार बताया है। अभिभावकों ने इसे शर्मनाक बताया और उसे फांसी पर लटकाने की मांग की। फिल्म निर्माता लेस्ली उडविन ने कहा कि फिल्म में उन्होंने महिलाओं के प्रति पुरुषों के नजरिए का रुख देखने का प्रयास किया है और इसमें कुछ भी सनसनीखेज नहीं है। उडविन ने दावा किया कि बीबीसी के लिए जेल में मुकेश का साक्षात्कार करने से पहले उन्होंने तिहाड़ जेल की तत्कालीन निदेशक विमला मेहरा से इजाजत ली थी।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि हिरासत में दोषी के साक्षात्कार की घटना को काफी गंभीर मानते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने तिहाड़ जेल के निदेशक आलोक कुमार वर्मा से बात की और इस पर तुरंत विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा। सूत्रों ने कहा कि टेलीफोन पर हुई वार्ता के दौरान जेल महानिदेशक ने गृह मंत्री को घटना और अब तक की गई कार्रवाई के बारे में बताया।

तेईस साल की लड़की से जघन्य बलात्कार और हत्या मामले में मौत की सजा पाए मुकेश ने साक्षात्कार में कहा कि रात में बाहर निकलने वालीं महिलाएं अगर दुराचारी पुरुषों के गिरोह का ध्यान आकर्षित करती हैं तो इसके लिए वे खुद ही जिम्मेदार हैं। उसने कहा कि बलात्कार के लिए लड़के से कहीं ज्यादा लड़की जिम्मेदार है। मुकेश ने यह भी कहा कि अगर लड़की और उसके दोस्त ने प्रतिरोध नहीं किया होता तो गिरोह ने उसे गहरे जख्म नहीं दिए होते, जिस कारण बाद में उसकी मौत हो गई।

हत्या को ‘दुर्घटना’ करार देते हुए उसने कहा था-जब उससे बलात्कार हो रहा था तो उसे प्रतिरोध नहीं करना चाहिए था। उसे चुप रहना चाहिए था और बलात्कार होने देना चाहिए था। उसके बाद वे उसे कहीं उतार देते और लड़के की केवल पिटाई करते।

उडविन ने दावा किया कि ‘इंडियाज डॉटर’ में दिल्ली सामूहिक बलात्कार घटना की कहानी को दोषियों और पीड़िता के अभिभावकों के नजरिए से पेश किया गया है। फिल्म निर्माता ने लोगों से अपील की कि फिल्म के बारे में कोई पूर्व धारणा नहीं बनाएं जिसका आठ मार्च को भारत में एनडीटीवी पर प्रीमियर प्रस्तावित है। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि फिल्म के अंत में पूरी दुनिया के आंकड़े को एक-एक देश के आंकड़े के मुताबिक पेश किया गया है। बलात्कार भारतीय समस्या नहीं है। यह वैश्विक समस्या है। तिहाड़ जेल में मुकेश के साक्षात्कार को अनुमति देने को लेकर छिड़े विवाद पर उन्होंने कहा-मैंने तिहाड़ के महानिदेशक को पत्र लिखा। तिहाड़ के महानिदेशक को गृह मंत्रालय से सलाह करनी पड़ी। मैंने मई 2013 में अनुमति के लिए आवेदन दिया था और दो हफ्ते में मुझे अनुमति मिल गई।

यह पूछने पर कि उन्होंने दोषी को मंच क्यों दिया तो लेस्ली ने कहा-यह बड़ा शर्मनाक है। भारतीय मीडिया को उसी चीज को उजागर करना चाहिए जो उनके दिमाग में चल रहा है। आपको यह तब तक दोहराते रहना होगा जब तक कि यह बंद नहीं हो जाए और बदलाव नहीं आ जाए। क्या आप चाहते हैं चीजें बदलें। आप क्यों विरोध करते हैं? मैंने लड़की के अभिभावकों को मंच क्यों दिया? फिल्म में मानसिकता और लैंगिक असमानता के मुद्दे पर जोर दिया गया है। फिल्म में महिलाओं के प्रति नजरिए को दिखाया गया है। फिल्म का समापन पूरी दुनिया में हर राष्ट्र के आंकड़े के साथ होता है। बलात्कार भारतीय समस्या नहीं बल्कि वैश्विक समस्या है।

पीड़िता के अभिभावकों ने कहा कि महिलाओं को रात में बाहर नहीं निकलना चाहिए, इस मानसिकता के कारण महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ रहे हैं। फिजियोथेरेपी की छात्रा की मां ने टेलीफोन पर बताया कि उनकी बेटी के गुनहगार मुकेश का बयान बेहद शर्मनाक और कानून का मजाक उड़ाने वाला है। यह कानूनी प्रक्रिया के लचीलेपन का नतीजा है कि जेल में बंद होने के बाद भी मुजरिम अपनी घिनौनी हरकत को उचित ठहराने की कोशिश कर रहा है। अगर आरोपियों को मिली सजा पर जल्द अमल हो जाता तो मुकेश ऐसी बात कहने की हिम्मत नहीं कर पाता। साथ ही, लड़कियों और महिलाओं से होने वाली खौफनाक घटनाओं पर भी रोक लगाने में मदद मिलती।

पीड़िता के पिता ने भी मुकेश के बयान का विरोध किया और कहा कि उसने न केवल उनकी बेटी पर सवाल उठाया है बल्कि पूरे समाज पर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने कहा-हम किसी को दंडित नहीं कर सकते। अगर मुझे दंडित करना होता तो मैं उन्हें वही सजा देता जो उन्होंने मेरी बेटी को दी। लेकिन उनके भाग्य का निर्णय कानून करेगा। यह केवल मेरी बेटी के बारे में नहीं है, अपने बयान से उसने हमारे समाज पर सवाल खड़ा किया है। अगर उसे फांसी नहीं दी जाती है तो कोई भी किसी महिला से बलात्कार करेगा जो देश के भविष्य के लिए खतरा है। मैं सरकार से संपर्क कर उसे फांसी पर लटकाने की अपील करूंगा।

सामूहिक बलात्कार के दोषियों के एक वकील एपी सिंह ने भी एक ऐसा बयान दिया है, जो विवाद खड़ा कर सकता है। उन्होंने कहा कि यह ‘काफी महत्वपूर्ण’ है कि अगर लड़कियां रात में बाहर जाना चाहती हैं तो अपने अभिभावकों के साथ जाएं न कि पुरुष मित्रों के साथ। उन्होंने यह भी कहा कि अगर उनकी बहन या बेटी अवांछित गतिविधियों में संलिप्त मिलतीं तो वह उस पर पेट्रोल डालकर जला देते। बचाव पक्ष के एक अन्य वकील एमएल शर्मा ने कहा कि हमारे समाज में लड़कियों को रात साढ़े आठ बजे के बाद किसी अज्ञात व्यक्ति के साथ बाहर जाने की इजाजत नहीं दी जाती।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग