ताज़ा खबर
 

हम वह इतिहास दिखाएंगे जिसे आपने छिपाया है, जिन्हें भुला दिया गया

’नकवी ने कहा कि सरकार दुनिया को उन नेताओं की भूमिका, उनका योगदान बताएगी जिन्हें भुला दिया गया।
Author नई दिल्ली | April 7, 2017 02:56 am
केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी (PTI File Photo)

राज्यसभा में गुरुवार को कांग्रेस ने सरकार पर स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास एवं विरासत से छेड़छाड़ करने का आरोप लगाते हुए कहा कि यहां स्थित नेहरू स्मारक संग्रहालय एवं ग्रंथालय (एनएमएमएल) में ऐसे नेताओं के नामों को जगह दी जा रही है जिनका आजादी की लड़ाई में कोई योगदान नहीं रहा है। सरकार की ओर से इन आरोपों को खारिज करते हुए कहा गया कि आजादी की लड़ाई में केवल नेहरू और गांधी परिवार ने ही योगदान नहीं दिया बल्कि लाखों अन्य नेताओं ने भी कुर्बानियां दी थीं और उनके बलिदान को भुला दिया गया।
शून्यकाल में संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, ‘हम उन नेताओं को सम्मान दे रहे हैं जिनके आजादी की लड़ाई में योगदान को वह स्थान नहीं दिया गया जो दिया जाना चाहिए था। हम वह इतिहास दिखाएंगे जिसे आपने छिपाया है। हम उसे भी आगे ले जाएंगे जिसे आपने दिखाया है।’नकवी ने कहा कि सरकार दुनिया को उन नेताओं की भूमिका, उनका योगदान बताएगी जिन्हें भुला दिया गया। उन्होंने कहा, ‘हमारा इरादा देश के महान नेताओं का अपमान करने का नहीं है।’

इससे पहले कांग्रेस के आनंद शर्मा ने कहा कि नेहरू स्मारक संग्रहालय एवं ग्रंथालय की स्थापना का एकमात्र उद्देश्य आधुनिक भारत के इतिहास के अध्ययन को और देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के जीवन एवं इतिहास के अध्ययन को बढ़ावा देना था। नेहरू ने अपने जीवन के 14 साल आजादी की लड़ाई के दौरान जेल में बिताए थे।
शर्मा ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि नेहरू स्मारक संग्रहालय एवं ग्रंथालय की मूल भावना में अवांछित तत्वों को शामिल करना स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों की विरासत का घोर अपमान होगा। उन्होंने कहा कि एनएमएमएल में अब उन नेताओं के नामों को जोड़ा जा रहा है जिनका आजादी की लड़ाई में कोई योगदान नहीं था।

उन्होंने आरोप लगाया कि नेहरू और गांधी ने जिन मूल्यों और सिद्धांतों को महत्व दिया था, उन्हें वर्तमान सरकार नजरअंदाज कर रही है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के पास श्यामा प्रसाद मुखर्जी सहित अपने नेताओं के संग्रहालय बनाने का पूरा अधिकार है, लेकिन वह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की विरासत और इतिहास से छेड़छाड़ नहीं कर सकती।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.