March 27, 2017

ताज़ा खबर

 

राहुल गांधी के खिलाफ टिप्पणी करने पर कांग्रेस के विधायक बर्खास्त, बोले- गधे को घोड़ा नहीं बता सकता

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के करीबी विधायक को पार्टी से निलंबित कर दिया है।

Author रायपुर | October 19, 2016 08:37 am
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी। (फाइल फोटो)

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के करीबी विधायक को पार्टी से निलंबित कर दिया है। कांग्रेस महासचिव और छत्तीसगढ़ प्रभारी बी. के. हरिप्रसाद ने मंगलवार (18 अक्टूबर) को बताया कि कांग्रेस विधायक आरके राय को समन्वय समिति के सदस्यों की सर्वसम्मति से कांग्रेस पार्टी से निलंबित कर दिया गया है। हरिप्रसाद ने बताया कि आर के राय के निष्कासन की कार्यवाही के लिए अनुशासन समिति को राज भेज दी गयी है। कांग्रेस नेता ने बताया कि राज्य में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल और कांग्रेस विधायक दल के नेता टी.एस. सिंहदेव के नेतृत्व में ही 2018 का चुनाव लड़ा जाएगा। इधर, कांग्रेस से निलंबित होने के बाद विधायक आरके राय ने कांग्रेस पार्टी पर आभार जताया है और कहा है कि उनके खिलाफ इसलिए कार्रवाई की गई क्योंकि उन्होंने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर टिप्पणी की है।

राय ने मंगलवार को बयान जारी कर कहा है कि इस निलंबन से वह स्वतंत्र हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें बताया गया कि उन पर इसलिए कार्यवाही की गयी क्योंकि उन्होंने राहुल गांधी के विरुद्घ टिप्पणी की। विधायक ने कहा कि उन्हें इस बात का कोई दुख नहीं है क्योंकि वह स्वतंत्र विचार वाले सच्चे और बेबाक आदिवासी प्रतिनिधि हैं। उन्होंने कहा कि वह गधे को घोड़ा नहीं बता सकते।

वीडियो: Speed News

राय ने कहा कि छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता के सामने कांग्रेस का आदिवासी विरोधी चेहरा एक बार फिर उजागर हुआ है। उनका निलंबन मील का पत्थर साबित होगा। अब दोनों दलों के कई और आदिवासी और दलित प्रतिनिधि एक मंच पर आकर अपने विचार बेबाकी से रखेंगे और जनता के सामने दोनों राष्ट्रीय दलों की आदिवासी विरोधी सोच का पर्दाफाश करेंगे। छत्तीसगढ़ के गुंडरदेही विधानसभा सीट से विधायक आरके राय पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के करीबी माने जाते हैं। राय को पुलिस सेवा से राजनीति में लाने का श्रेय अजीत जोगी को है। बाद में उनके प्रयास से ही राय कांग्रेस के टिकट से चुनाव लड़ा। कांग्रेस से अलग होने के बाद जब जोगी ने नई पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांगे्रस (जोगी) का गठन किया तब राय और उनके करीबी नेताओं ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

Read Also: राहुल गांधी के ‘खून की दलाली’ वाले बयान का अखिलेश यादव ने समर्थन किया; कहा- ‘कुछ सोच समझकर ही कहा होगा’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 19, 2016 8:37 am

  1. P
    Padmanabhan Jaikumar
    Oct 19, 2016 at 7:44 am
    If congress believe in freedom of speech as VP of congress himself was supporting anti national jihadi terrorist minded Kanhaiya in JUNU,the action taken against the Chattisgargh congress party leader Rai. It indicates congress double standard
    Reply
    1. S
      Sidheswar Misra
      Oct 19, 2016 at 9:52 am
      जब कोई दल नोकरशाह को राजनीत में लाता है उसी दिन उस दल की राजनितिक विचार सिद्धान्त शून्य की तरफ जाने की शुरुवात हो जाती है .कांग्रेश ने जोगी को लेकर अपने दल के उनसदस्यो का अपमान ही किया उसका प्रतिफल कन्ग्रेस को मिल रहा है जो नोकरशाह रहा है वह हमेशा पाने बारे में ही सोचेगा . जोगी ,राय उसी की दें है कांग्रेस को अभी से चेत लेना चाहिए आगे भूल न हो .
      Reply
      1. V
        venkataramana
        Oct 19, 2016 at 9:21 am
        : What Rai said is true a donkey can not be called as horse even if calls it will not become horse. The conis are doing this by calling him a horse but never he will come out from his foolishness. It is abundantly clear from his actions. So why why you take action against rai instead of Rahul. First going JNU and then Hyderabad and now talking about Alu Factory. Can anyone save him. But this sycophants want him to have some benefits from looted money
        Reply
        1. V
          Vijay S
          Oct 19, 2016 at 4:17 am
          There is no democracy in So called political Party Congress. Waha to Raj tantra ahi. Pariwad wad . Pariwar se bada koi nahi ho sakta. Beshak pariwar ka hone wala raja mandbuddhi hi kayo na ho.
          Reply

          सबरंग