June 24, 2017

ताज़ा खबर
 

गुलाम नबी आजाद बोले- उरी हमले में उतने लोग नहीं मारे गए, जितने सरकार की गलत नीति से मर गए

भाजपा के वरिष्ठ नेता वैंकया नायडू ने गुलाम नबी आजाद के बयान की निंदा करते हुए माफी की मांग की है।

Author नई दिल्ली | November 17, 2016 16:59 pm
कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद। (File Photo)

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाब नबी आजाद ने राज्यसभा में नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। गुलाब नबी आजाद ने कहा, ‘सरकार की गलत नीति से जितने लोग मर गए हैं, उससे आधे तो पाकिस्तानी आतंकियों ने उरी हमले में नहीं मारे थे। जब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्यसभा में चर्चा के लिए नहीं आएंगे, हम लोग सदन की कार्यवाही को नहीं चलने देंगे।’ आजाद ने कहा कि नोटबंदी के फैसले की वजह से 40 लोग मारे गए हैं। बता दें, 18 सितंबर को कश्मीर के उरी सेक्टर में आतंकियों ने एक सेना कैम्प पर हमला कर दिया था। इसमें भारतीय सेना के कुल 20 जवान शहीद हो गए थे। भाजपा के वरिष्ठ नेता वैंकया नायडू ने कहा कि विपक्ष के नेता इस तरह के बयान देकर और इसकी तुलना पाकिस्तानी आतंकी हमलों से करके राष्ट्र का अपमान कर रहे हैं। उन्हें माफी मांगनी चाहिए।

वहीं दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने भी इस फैसले को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। इसके साथ ही दोनों ने मांग की है कि सरकार तीन दिन के भीतर इस फैसले को वापस ले। अरविंद केजरीवाल ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था, ‘देशभक्ति की आड़ में घोटाले हो रहे हैं। लेकिन ये घोटाले होने नहीं देंगे, देश के लिए जान की बाजी लगाने को तैयार हैं। मोदी सरकार यह आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला कर रही है। 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करके 2000 रुपए लॉन्च करके कैसे भ्रष्टाचार खत्म करेंगे। पीएम मोदी ने विजय माल्या को रात में हवाई जहाज में बैठाकर लंदन भेज दिया। माल्या ने बैंकों के करोड़ो रुपए खा लिए हैं। सरकार ने भी उनके अरबों रुपए का लोन माफ कर दिया है। लेकिन यहां पर लोग लाइनों में खड़े हैं।’ वहीं ममता बनर्जी ने कहा, ‘ऐसा संकट तो आपातकाल के दौरान भी नहीं देखा था। यह फैसला भारत को 100 साल पीछे ले जा सकता है। आगे को छोड़ो, देश को पीछे कर दिया। अगर आपमें हिम्मत है तो हमें जेल भेजो और गोली मारो। लेकिन हम हमारी लड़ाई जारी रखेंगे। हम गरीब लोगों को भूखा नहीं मरने देंगे।’

Demonetisation, Arvind Kejriwal, Mamata Banerjee, Delhi Rally, Kejriwal Mamata rally, Narendra Modi, bank, ATM, Rs 500 and 1000 Notes, India, Jansatta रैली के लिए जाते ममता बनर्जी व अरविंद केजरीवाल। (Source: Twitter)

बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने का ऐलान आठ नवंबर को किया था। इसके साथ ही लोगों को अपने पुराने नोट चेंज करने के लिए 31 दिसंबर का समय दिया था। साथ ही में ही बैंक या एटीएम से पैसे निकालने के लिए एक सीमा तय की गई थी। पीएम के ऐलान के बाद से ही बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी लाइनें देखने को मिल रही हैं। इस दौरान कईयों की मौत भी हो गई। एटीएम से एक दिन में एक व्यक्ति केवल 2400 रुपए निकाल सकता है, वहीं बैंक से वह सप्ताह में एक बार में 24 हजार रुपए में निकाल सकते हैं।

वीडियो में देखें- नोटबंदी: किसानों और शादी वाले परिवारों को बड़ी राहत; पुराने नोट बदलवाने वालों के लिए मायूसी

वीडियो में देखें- शीतकालीन सत्र: सीताराम येचुरी ने कहा- “2000 रुपए के नोट से भ्रष्टाचार दोगुना हो जाएगा”

वीडियो में देखें- नोटबंदी पर सियासी जंग; ममता, केजरीवाल ने सरकार से तीन दिन में फैसला वापस लेने को कहा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 17, 2016 4:37 pm

  1. I
    Irfan ahmad
    Nov 18, 2016 at 10:08 am
    Ye kya ghotala ho Raha hai modi Sarkar me ..janradhan Reddi Apni beti ki shadi 5 Arab me kare aor ham aam Insan 2,5 me Apni beti ki shadi Karen ye Kahan ka insaf hai modi ham logun ko jawab den Canara bank manager loog ameeron se settings kar ke 15% ₹ leke karorun ₹ Badal rahe hai aor gareeb logun ko kisano ko 40 ya 50 logun ke not chenj kar hai aor 11am se 02pm tak bank khol rahe hai 02 bajne ke Baad kah deten hai ki paese khatam ho e hai
    Reply
    1. i
      indian(ncr)
      Nov 17, 2016 at 12:38 pm
      केजरीवाल ममता बेनर्जी के मुस्कराते चेहरों को देखो यह आम आदमी की परेशानियों को इनके मुस्कराते चेहरे बयान कर रहे हैं की यह नेता भर्स्ट राजनीती कर रहे हैं | हैरान करने की बात हैं की पिछले ढाई साल के कार्यकाल में Kendra ने कई बार मुख्यमंत्रियों की बैठाके बुलाई और किसी भी बैठ में ममता बनर्जी शामिल होने नहीं आयी लेकिन जब ममता बनर्जी केजरीवाल जैसे नेताओं की ब्लैक मनी की कमाई रद्दी हो गयी तो देखो कैसे यह नेता साले सड़क पर आ गए जो भी नोटबंदी का विरोध कर रहा है यह साले सभी भ्रस्ट हैं
      Reply
      1. S
        suresh k
        Nov 17, 2016 at 5:04 pm
        मैडम का गुलाम देशद्रोही बात ही बोलेगा।
        Reply
        सबरंग