ताज़ा खबर
 

मालेगांव ब्लास्ट केस: दिग्विजय सिंह बोले- प्रमुख आरोपियों को बचाना चाहती है केंद्र सरकार

दिग्विजय सिंह ने कहा- हम जानते हैं कि केंद्र मालेगांव के प्रमुख आरोपियों को बचाना चाहता है क्योंकि दोनों का आपस में संबंध है। पर, इसके लिए शहीद हेमंत करकरे का नाम खराब नहीं किया जाना चाहिए।
Author नई दिल्ली | May 13, 2016 17:15 pm
साध्वी प्रज्ञा सिंह, जिनके खिलाफ एनआईए ने चार्जशीट में कोई आरोप नहीं लगाया है

2008 मालेगांव धमाकों में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का नाम एनआईए की तरफ से चार्जशीट में शामिल ना करने की बात पर कांग्रेस की तरफ से कड़ी प्रतिक्रिया आई है। इसपर कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को पीएम मोदी समेत पूरी केंद्र सरकार पर निशाना साधा।

दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘हम जानते हैं कि केंद्र मालेगांव के प्रमुख आरोपियों को बचाना चाहता है क्योंकि दोनों का आपस में संबंध है। पर, इसके लिए शहीद हेमंत करकरे का नाम खराब नहीं किया जाना चाहिए। पीएम समेत पूरी केंद्र सरकार आंतकी गतिविधियों में शामिल लोगों को बचाना चाहती है।’

Clean chit to Sadhvi, MCOCA dropped, Karkare probe was fudged: NIA’s new Malegaon script http://t.co/1pDR8mJI2q via @sharethis

— digvijaya singh (@digvijaya_28) 13 May 2016

क्या था मामला: 29 सितंबर 2008 को महाराष्ट्र और गुजरात में तीन बम धमाके हुए जिनमें 8 लोगों की मौत हो गई और 80 घायल हो गए। इनमें से दो बम नासिक के मालेगांव में फटे थे जिनमें 7 लागों की मौत हो गई थी। इस मामले में साध्वी प्रज्ञा समेत 14 लोगों पर आरोप लगे थे।

वहीं अब दाखिल की गई चार्जशीट में साध्वी प्रज्ञा के साथ ही कर्नल प्रसाद पुरोहित को भी क्लीन चिट दे दी गई है। इसके साथ ही इस चार्जशीट में एटीएस के पूर्व चीफ हेमंत करकरे की भूमिका पर भी सवाल उठाए गए हैं। साथ ही, कहा गया है कि साध्‍वी प्रज्ञा के खिलाफ कमजोर सबूत हैं जिसकी वजह से उनपर लगा ‘मकोका’ भी हटाया जा चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग