ताज़ा खबर
 

सरकार के खिलाफ संघर्ष की तैयारी में कांग्रेस

राजस्थान में भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ कांग्रेस ने संघर्ष करने का एलान किया है। इसके साथ ही कांग्रेस ने पंचायत चुनाव में एकजुट और पूरी ताकत से मैदान में उतरने का फैसला किया है। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आरोप है कि सरकार आम जनता का कोई काम नहीं कर रही है। […]
राजस्थान में पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव में एक बार फिर भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला होगा

राजस्थान में भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ कांग्रेस ने संघर्ष करने का एलान किया है। इसके साथ ही कांग्रेस ने पंचायत चुनाव में एकजुट और पूरी ताकत से मैदान में उतरने का फैसला किया है। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आरोप है कि सरकार आम जनता का कोई काम नहीं कर रही है।

राज्य में लगातार चुनाव हार रही कांग्रेस को रविवार को राजस्थान विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव के नतीजों से नई ऊर्जा मिली है। छात्र संघ के हुए चुनाव की मतगणना रविवार को हाईकोर्ट के आदेश से हुई। इसमें कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआइ को जीत मिली है। संगठन के अनिल चौपडा को अध्यक्ष पद पर जीत मिली। इसके साथ ही इसके पूरे पैनल ने जीत दर्ज कर भाजपा के विद्यार्थी परिषद के उम्मीदवारों को हराया। इस जीत से उत्साहित कांग्रेस का दावा है कि प्रदेश के युवा वर्ग में भाजपा सरकार के कामकाज से निराशा का माहौल है। कांग्रेस की नई प्रदेश कार्यसमिति ने संगठन को नए सिरे से मजबूत करने का फैसला किया है। कांग्रेस की नई कार्यसमिति की पहली बैठक में निराश कार्यकर्ताओं में जोश भरने की कवायद की गई। इस बैठक में प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट और प्रभारी महासचिव गुरुदास कामत ने पार्टी नेताओं में पनपी मायूसी को दूर करने की कसरत की। पायलट ने कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए कहा कि 2018 में कांग्रेस फिर से राज्य की सत्ता पर काबिज होगी। पायलट ने हाल में ही प्रदेश कार्यसमिति का गठन आलाकमान की मंजूरी के बाद किया था। इसमें युवा तबके के कई नेताओं को अहम पदों की जिम्मेदारी दी गई है।

पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने यहां कहा कि भारी बहुमत से सत्ता में आई भाजपा सरकार जनता से जुड़े मसलों पर कोई काम नहीं कर रही है। इससे जनता में गहरी नाराजगी पनपी हुई है। ऐसी निकम्मी सरकार उन्होंने कभी नहीं देखी। सरकार ने इसका अहसास नहीं किया तो उसे नतीजे भुगतने पड़ेंगे। जनता को दवाइयां और पेंशन नहीं मिल रही है। गरीबों के आधे अधूरे मकान बन कर रह गए हैं उनको किश्तों का भुगतान नहीं हो रहा है। किसानों के लिए ना तो बिजली है और ना ही ब्याज मुक्त कर्ज, पूर्व सरकार की सभी योजनाएं बंद हो रही हैं। सरकार सिर्फ दुर्भावना से काम कर रही है। प्रदेश में हालत खराब है और सरकार सोई हुई है। हालात नहीं सुधरने पर कांग्रेस प्रदेश से लेकर जिला और ब्लाक स्तर तक संघर्ष करेगी। सरकार ने एक साल में कोई काम नहीं किया है सिर्फ खाली बातें ही हो रही है।

प्रदेश कांग्रेस कार्यसमिति की पहली बैठक में पंचायत चुनाव को चुनौती के तौर पर लेने का फैसला किया गया। बैठक में पायलट ने कहा कि विधानसभा उपचुनाव की हार के बाद बौखलाई भाजपा के मंत्रियों को शहरी निकायों के चुनाव में पसीना बहाना पड़ा। उन्होंने पदाधिकारियों से कहा कि पंचायत चुनाव के लिए पूरी तरह से तैयार रहे इसके साथ ही जनता से जुड़ कर जनसमस्याओं को हल करवाने के लिए संघर्ष का रास्ता अपनाएं। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार दुर्भावना से काम कर रही है।

जनता सच और झूठ को पहचानती है। प्रदेश में जनता बिजली, पानी और यूरिया खाद की समस्याओं को लेकर खासी परेशान है। इन मसलों को हल करने में भाजपा सरकार नाकाम साबित हो रही है। पायलट ने कहा कि वे खुद निचले स्तर के पदाधिकारियों से संवाद कायम करेंगे। इसके साथ ही जिला और ब्लाक स्तर की बैठकें नियमित कराई जाएंगी। प्रदेश कार्यकारिणी की बैठकें भी संभाग और जिलों में आयोजित की जाएगी। इससे पार्टी के लोग हर स्तर पर एक दूसरे से जुड़ाव महसूस करेंगे। पंचायत चुनाव को लेकर कांग्रेस के कार्यकर्ता पूरी मेहनत से जुट जाए। भाजपा सरकार अपने वादों को पूरा नहीं कर रही है। पायलट ने सरकार के एक साल का कार्यकाल पूरा होने पर वर्षगांठ आयोजित करने पर कहा कि भाजपा सरकार की इस दौरान कोई उपलब्धि तो है नहीं। चुनाव के दौरान जनता से किए गए वादों को पूरा नहीं कर सरकार वादाखिलाफी कर रही है। प्रदेश की जनता में सरकार के प्रति गहरी नाराजगी पनपी हुई है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग