March 27, 2017

ताज़ा खबर

 

सीजेआई ने बताईं 1965 के युद्ध की खौफनाक यादें- फौजी बूट पहने पैर खा रहे थे कुत्ते, कब्र खोदने तक का नहीं था वक्त, ऐसे ही दफना दी गई थी लाशें

भारत और पाकिस्तान के जारी तनाव के मध्य सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर ने 1965 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध का गहराई से जिक्र किया है। बता दें कि भारत पाकिस्तान के बीच युद्ध के कयास लगा जा रहे हैं।

Author नई दिल्ली | October 5, 2016 08:15 am
सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर (FILE PHOTO)

भारत और पाकिस्तान के जारी तनाव के मध्य सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर ने 1965 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध का गहराई से जिक्र किया है। ठाकुर ने 1965 में हुए वॉर को याद करते हुए कहा कि उस समय वह लड़के थे और जम्मू में रहते थे। युद्ध के 18-20 दिन बाद कर्नल रूप सिहं हमे उस इलाके में ले गए जो पाकिस्तान से युद्ध में पूरी तरह से तबाह हो गया था और हमारे द्वारा कब्जा किया गया था। जब मुझे युद्ध का कब्रिस्तान देखने को मिला। सतह पर लोगों की जली हुई लाशें पड़ी थीं, जिस पर मिट्टी की एक परत सी थी। क्योंकि किसी पास इतना समय नहीं था कि वह लाशों को विधिवत दफना सके। मैंने देखा आर्मी के जूते पहने पैर को कुत्तों द्वारा खाया जा रहा था। ठाकुर ने यह बात एक एक कार्यक्रम के दौरान कही। कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व उप-प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व गृह मंत्री शिवराज पाटिस और पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

वीडियो: जनसत्ता न्यूज़ बुलेटिन


चीफ जस्टिस ने कहा कि कार्यक्रम में मौजूद ऑडियंस ने कभी युद्ध नहीं देखा है। यह बहुत ही हतोत्साहित करने वाला अनुभव था। हर तरफ अफवाह थी कि पाकिस्तानी ट्रुपर्स आए और भारतीयों की हत्या करके चले गए। शहर पूरी तरह से बर्बाद हो गए थे क्योंकि लोग पलायन करने लगे थे। सिर्फ दो ही दुकानें अच्छा बिजनेस कर रही थी। एक ट्रंक रिपेयर शॉप (बक्सा बनाने वाली दुकानें), जहां लोग अपना ट्रंक ठीक करवाने आ रहे थे, जिसमें वह अपना कीमती समान रखकर यहां से जा सके और दूसरा पोल्ट्री की दुकानें जहां लोग कुछ खाना होने की आशा लिए जाते थे। यहां तक सूरज डूबने के बाद लैंप और सिगरेट जलाना भी एक समस्या थी। पड़ोसी विरोध करने लगते थे कि कहीं दुश्मन लाइट देखकर निशाना न लगा ले।

READ ALSO:  सर्जिकल स्ट्राइक: पहली बार एलओसी के प्रत्यक्षदर्शियों ने बताई आंखों देखी, तड़के ट्रकों में भर कर ले जाई गई थी लाशें

गौरतलब है कि 18 सितंबर को जम्मू-कश्मीर के उरी सेना मुख्यालय पर हुए आतंकी हमले के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच के रिश्तों में कड़वाहट बढ़ गई है। भारत ने आतंकी हमले का बदला लेने के लिए 28-29 सितंबर को नियंत्रण रेखा (LoC) पार करके सर्जिकल स्‍ट्राइक को अंजाम दिया और कई आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया। इस सर्जिकल स्‍ट्राइक में पाकिस्‍तानी मिलिट्री द्वारा सुरक्षित सात आतंकी लॉन्‍च पैड्स पर हमला कर भारी मात्रा में नुकसान पहुंचाया गया था।

READ ALSO:  पाकिस्तानी लड़की की FB पोस्ट हुई वायरल, भारत-पाकिस्तान को बताया तलाकशुदा कपल

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 5, 2016 7:58 am

  1. No Comments.

सबरंग