ताज़ा खबर
 

रॉ के सुरक्षा घेरे में रहेंगे मौलाना सैयद कल्बे सादिक़, जानिए क्या होती है Z+ और बाकी सिक्योरिटी कैटेगरी

केंद्र सरकार ने सिक्योरिटी रिव्यू के बाद 42 वीआईपी की सुरक्षा में कमी कर दी है।
वीआईपी की सुरक्षा की समय-समय पर खुफिया एजेंसियां और अन्य सुरक्षा एजेंसियां समीक्षा करती हैं। (Photo: Youtube)

केंद्र सरकार ने नेताओं और कुछ पूर्व मंत्रियों की सुरक्षा का रिव्यू किया। इसके बाद कुछ नेताओं की सुरक्षा को कम कर दिया गया है। भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष मौलाना सैयद कल्बे सादिक़ को आर एंड एडब्ल्यू सुरक्षा के तहत रखा गया है। सूत्रों के मुताबिक मौलाना सैयद कल्बे सादिक़ ने इस सुरक्षा के लिए मना कर दिया है। इसके साथ ही करीब 42 नेताओं की सुरक्षा में कमी की गई है। वहीं कांग्रेस में वाई प्लस कैटेगरी की सुरक्षा रखने पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी, अजय माकन, गुजरात में विपक्ष के नेता अर्जुन मोधवाडिया, लोकसभा सांसद शशि थरूर, पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल की सुरक्षा को वाई कैटेगरी में बदल दिया गया है।

विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी), नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (एनएसजी), इंडो-तिब्बती बॉर्डर पुलिस और सीआरपीएफ वीवीआईपी, वीआईपी, कुछ केंद्रीय अधिकारियों, मशहूर हस्तियों और खिलाड़ियों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए जिम्मेदार एजेंसियां ​​हैं। सुरक्षा कैटेगरी को बदलने का फैसला हाल ही में लिया गया था जब खुफिया एजेंसियों ने सभी 42 व्यक्तियों की सुरक्षा का आकलन किया था। वीआईपी की सुरक्षा की समय-समय पर खुफिया एजेंसियों और अन्य सुरक्षा एजेंसियों द्वारा समीक्षा की जाती है। उनकी सिफारिशों के आधार पर, सुरक्षा कैटेगरी को अपग्रेड करने या डाउनग्रेड करने के लिए निर्णय लिया जाता है।

जानिए क्या होती है सिक्योरिटी: जिस वीआईपी को जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा मिलती है उसके साथ 36 सुरक्षाकर्मी और 10 एनएसजी कमांडो हर वक्त तैनात रहते हैं। जेड श्रेणी की सुरक्षा में 22 सुरक्षाकर्मी और 5 एनएसजी कमांडो हर वक्त वीआईपी के साथ रहते हैं। वाई प्लस सिक्योरिटी में 11 सुरक्षाबलों के साथ तीन कमांडो हर वक्त साथ रहते हैं। वाई श्रेणी में 11 सुरक्षाबलों के साथ 2 कमांडो सुरक्षा में तैनात रहते हैं। वाई श्रेणी में कमांडो केवल 12 घंटे ही साथ रहते हैं। एक्स श्रेणी में पांच या दो सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    Mithilesh Kumar
    Jun 23, 2017 at 6:39 pm
    नेताओं को z या y सब सुरक्षा से मुक्त कर देना चाहिये इनसे देश का भला ही होगा......
    (0)(0)
    Reply
    1. J
      jameel shafakhana
      Jun 23, 2017 at 12:56 pm
      LING CHHOTA, DHEELA OR TEDHA HA TO AAJMAIYE YE NUSKHA NILL SHUKRANUO KA GUARANTEE KE SATH SAFAL AYURVEDIC TREATMENT LING ME UTTEJNA ATE HI NIKAL JATA HAI TO KHAYEN YE NUSKHA : jameelshafakhana
      (0)(0)
      Reply
      1. S
        sidheswar misra
        Jun 23, 2017 at 10:48 am
        अपने किये कामो पर विश्वाश जिनको नहीं होता उन्हें सुरच्छ की जरुरत पड़ती है। जार्ज फर्नाडीज को कभी किसी प्रकार की सुरच्छा की जरुरत नहीं पड़ी। कथनी करनी में अंतर का भय।
        (0)(0)
        Reply
        सबरंग