April 23, 2017

ताज़ा खबर

 

9/11 जब भी आता है हिलाकर रख देता है, जानिय सरकार के फैसले पर बड़ी हस्तियों की क्या रही राय

वीरेंद्र सहवाग ने एक के बाद एक इस बारे में कई ट्वीट किए। उन्होंने लिखा कि जब अमेरिका में वोट गिने जा रहे होंगे भारत में नोट गिने जा रहे होंगे।

Author नई दिल्ली | November 9, 2016 03:28 am
सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा कार्टून। (picture source twitter)

केंद्र सरकार के 500 और 1000 रुपए के नोटों को बंद करने के फैसले की सराहना करते हुए कई केंद्रीय मंत्रियों ने इसे भ्रष्टाचार और काले धन पर सर्जिकल स्ट्राइक की संज्ञा दी है। वीरेंद्र सहवाग ने एक के बाद एक इस बारे में कई ट्वीट किए। उन्होंने लिखा कि जब अमेरिका में वोट गिने जा रहे होंगे भारत में नोट गिने जा रहे होंगे। इसके अतिरिक्त पाकिस्तान मूल के लेखक तारिक फतह ने पीएम के इस फैसले की तारीफ की। सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू ने ट्वीट किया, ‘‘भ्रष्टाचार और कालेधन पर श्री नरेंद्र मोदी जी की सर्जिकल स्ट्राइक। भ्रष्टाचार के खिलाफ भारत की लड़ाई में साथ दें।’’

उनके मंत्रालय के राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने भी प्रधानमंत्री के फैसले की सराहना की। मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि यह आम आदमी के लिए वास्तविक आजादी है। संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने ट्वीट किया, ‘‘भ्रष्टाचार, कालेधन और आतंकवाद से लड़ने के लिए ऐतिहासिक कदम।’’
इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस पर तत्काल प्रतिक्रिया नहीं दी लेकिन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के ट्वीट को रीट्वीट कर दिया जिसमें ममता ने केंद्र के फैसले को कठोर कहा था।

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास ने फैसले की तारीफ करते हुए कहा कि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए बड़े कदम उठाना जरूरी था।उधर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस कदम को राष्ट्र की प्रगति में मील का पत्थर बताते हुए साहसिक कदम बताया। उन्होंने कहा कि काले धन के खिलाफ इस लड़ाई में भारत की जनता सच्चे सैनिकों की तरह सहभागी होगी। हालांकि केरल की माकपा नीत एलडीएफ सरकार ने सरकार के आकस्मिक ऐलान की आलोचना करते हुए कहा कि इस कदम से देश से काला धन खत्म नहीं होगा। केरल के वित्त मंत्री टी एम थोमस इसाक ने कहा कि 1000 और 500 के नोटों को बंद करना काले धन की समस्या का निवारण नहीं है। पूरा काला धन इस रूप में नहीं होता। बहुत सारा धन विदेशों में जमा है और हवाले के रास्ते से आता है।

 

आप अपने 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों के साथ क्या करें, जानने के लिए वीडियो देखें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 9, 2016 3:26 am

  1. A
    asrar
    Nov 8, 2016 at 10:27 pm
    65000 crore rupees jo UPA government ke time pta chla tha jis paisa ka koi pooch ne wala nhi hai aur ye paise is sector me hai, Post office, Life insurance, Bank me jama hai, in paiso ka malik kown hai government acha se janti hai, surgical strike in paiso pe howa hai black money ke name, surgical strike howa desh ke under black money ke name pe, Swiss Bank pe surgical strike kb hoga 100 din 900 din ho geya
    Reply
    1. K
      ks
      Nov 9, 2016 at 10:27 am
      रोते ही रहना आतंक वादियो को भी मरना पडेगा वेट एंड वाच
      Reply
      1. A
        ashish negi
        Nov 9, 2016 at 9:54 am
        ye hai asli SINGAM
        Reply
        1. N
          neeraj awasthi
          Nov 9, 2016 at 12:23 pm
          असली परिछा तो आने वाले चुनाव में प्रत्यासियो की होगी | हम आपके द्वारा लिए गए इस कठोर कदम का स्वागत करते है
          Reply
          1. A
            Arvind
            Nov 9, 2016 at 12:54 am
            It is very very hard step for Modiji but he did.
            Reply
            1. Load More Comments

            सबरंग