ताज़ा खबर
 

एअर इंडिया के विनिवेश को मिली मंजूरी, सरकार बेचेगी हिस्सेदारी

केंद्रीय व‍ित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने कह द‍िया है क‍ि सरकार एअर इंड‍िया का वि‍न‍िवेश करेगी।
सिविल एविएशन मिनिस्टर अशोक गजपति राजू ने कहा कि उनका विभाग जांच में पूरा सहयोग देगा। उन्होंने कहा, हमारे पास जो भी जानकारी होगी, हम उसे एजेंसी के साथ साझा करेंगे।

केंद्रीय व‍ित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है क‍ि सरकार एअर इंड‍िया का वि‍न‍िवेश करेगी। यानी अपना ह‍िस्‍सा बेच देगी। इस पर स‍िद्धांतत: सरकार सहमत है। आगे की प्रक्रि‍या के ल‍िए पैनल बनाया जाएगा। बुधवार को कैब‍िनेट की बैठक के बाद जेटली ने संवाददाताओं को यह जानकारी दी। एअर इंड‍िया का घाटा लगातार बढ़ रहा है और तमाम प्रयासों के बावजूद इस पर काबू नहीं पाया जा सका है। उल्‍टे सरकार इसे लगातार आर्थि‍क मदद देकर जनता के पैसे से कुछ लोगों को हवाई सफर करा रही है। ऐसे में इसके व‍िन‍िवेश की मांग काफी समय से उठ रही है।

बता दें एअर इंडिया की वित्तीय स्थिति 2007 से ही खराब स्थिति में है। दरअसल 2007 में एअर इंडिया और डोमेस्टिक एयरलाइंस कंपनी इंडियन एयरलाइन्स का नेशनल एविएशन कंपनी लिमिटेड (एनएसीआईएल) ने विलय कर दिया था। इस विलय के बाद दोनों कंपनियों की देनदारी एनएसीआईएल पर आ गई। 2010 में एनएसीआईएल का नाम बदलकर एअर इंडिया लिमिटेड कर दिया गया था। वित्त वर्ष 2007 से ही एयरलाइंस की माली हालत नेगेटिव रही। इस स्थिति से निपटने के लिए एक प्लान तैयार किया गया जिसके तहत सरकार को 22 सालों के भीतर 42,182 करोड़ रुपये एयरलाइंस कंपनी में लगाने थे। हालांकि इस निवेश में देरी देखने को भी मिली है।

बीते पांच सालों (वित्त वर्ष 2012-2016) में जहां 22,609 करोड़ रुपये की इक्विटि प्लान की जानी थी वहीं अभी तक यह सिर्फ 22,280 करोड़ रुपये ही हो पाई थी। ऐसे में केंद्र सरकार ने आखिरकार आज कैबिनेट बैठक में कर्ज में चल रही एअर इंडिया की हिस्सेदारी बेचने का फैसला ले लिया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक कंपनी लगभग 52,000 करोड़ रुपये का घाटा झेल रही है। नीति आयोग ने इसके विनिवेश से होने वाली कमाई को शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में लगाने की सिफारिश, पीएमओ को अपनी चौथी रिपोर्ट में दी थी।

सरकार को इस विनिवेश से लगभग 25-27 हजार करोड़ रुपये की कमाई होने का अनुमान है। एअर इंडिया का डोमेस्टिक मार्केट में शेयर लगभग 14 पर्सेंट का है, जो इंडिगो और जेट एयरवेज से काफी कम है। गौरतलब है एअर इंडिया को 1932 में जमशेद टाटा ने शुरू किया था जिसका 1948 में राष्ट्रीयकरण किया गया था।

वीडियो (Source: YouTube/Inside News)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.