ताज़ा खबर
 

उपचुनावों में भाजपा को कहीं फायदा नहीं, त्रिपुरा में गठजोड़ के बाद भी रही पीछे

सात राज्‍यों की चार लोकसभा और आठ विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव से भाजपा के लिए अच्‍छी खबर नहीं आई।
बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (बाएं) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (File Photo)

सात राज्‍यों की चार लोकसभा और आठ विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव से भाजपा के लिए अच्‍छी खबर नहीं आई। केंद्र में सत्‍तारूढ़ भाजपा के लिए सबसे निराशाजनक बात विधानसभा उपचुनावों में पिछड़ना रहा है। आठ विधानसभा सीटों में से उसे केवल एक नेपानगर (मध्‍य प्रदेश) में जीत मिलती दिख रही है। इसके अलावा बाकी सभी सीटों पर भाजपा के विरोधी दलों ने बाजी मारी है। बंगाल की एकमात्र सीट पर तृणमूल कांग्रेस, तमिलनाडु में अन्‍नाद्रमुक, पुदुचेरी में कांग्रेस और त्रिपुरा में सीपीएम के हाथ बाजी लगी। सीपीएम ने खरजला और खोवाई दोनों सीटें जीत ली। भाजपा को उम्‍मीद थी कि बंगाल और त्रिपुरा में उसे फायदा हो सकता है। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। त्रिपुरा में हालांकि भाजपा दूसरे पायदान पर रही है। लेकिन लेफ्ट के गढ़ में सेंध लगाना उसके लिए अभी भी बड़ी चुनौती है। यहां कई साल से सीपीएम सत्‍ता में है। त्रिपुरा में भाजपा ने कई क्षेत्रीय दलों से गठजोड़ भी किया था।

वहीं बंगाल में ममता बनर्जी का जादू चल रहा है। उनकी पार्टी दोनों लोकसभा सीटों (कूचबिहार, तामलुक) पर बड़ी बढ़त बनाए हुए है। यहां पर एक विधानसभा सीट पर भी तृणमूल कांग्रेस आगे है। दक्षिण भारत में दो राज्‍यों तमिलनाडु व पुदुचेरी में विधानसभा सीटों पर उपचुनाव है। पुदुचेरी की नेलीथोपु सीट कांग्रेस ने जीत ली है। यहां पर कांग्रेस और द्रमुक गठबंधन सत्‍ता में है। तमिलनाडु की अरवाकुरुचि और तिरुपरनकुंद्रम विधानसभा सीट जयललिता के खाते में है। हालांकि असम की लखीमपुर सीट पर भाजपा ने बढ़त बना रखी है। मध्‍य प्रदेश की शहडोल लोकसभा व नेपानगर विधानसभा सीट पर भी भाजपा आगे है। लखीमपुर और शहडोल सीटें पहले भी भाजपा के पास थी। इन उपचुनावों के नतीजों को केंद्र सरकार के नोटबंदी के कदम पर जनता की राय के रूप में भी देखा जा रहा है। अगले साल देश के पांच राज्‍यों उत्‍तर प्रदेश, गुजरात, पंजाब, उत्‍तराखंड और गोवा में चुनाव होने हैं। इनमें से तीन गुजरात, गोवा और पंजाब में भाजपा सत्‍ता में है।

सैनिकों को बैंककर्मियों ने दिए नए नोट, देखें वीडियो:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Ashwini Kumar
    Nov 22, 2016 at 1:56 pm
    ममता की दो लोकसभा सीट जीतने का बता दिया | लेकिन भाजपा ने भी तो दो लोकसभा सीट जीतीं हैं | उसका क्यों नहीं बताया ?इसी से पता चलता है कि कितनी घटिया पत्रकारिता करने वाला अख़बार है जनसत्ता
    Reply
  2. G
    Gaurav Naithani
    Nov 22, 2016 at 7:13 am
    हद है,,,,, त्रिपुरा में बीजेपी नोबडी से दूसरे नंबर पर आ गई,,, और हमारे पत्रकारों के लिए , ये कोई फायदा नहीं ,,,,इसीलिए मीडिया पर थूकने का मन होता है
    Reply
  3. K
    kk
    Nov 23, 2016 at 9:39 am
    #रोतडू_मोदी के अगले चुनावी उम्मीद पर एक एक कर किले ठुक रहे हैं! जुों का अंत नजदीक है! ्जुआ वर्ग अब नया चेहरा ढून्ढ रहा है! व्यक्ति नहीं व्यवस्था बदलो! समाजवादी भगत सिंह से सीखो!
    Reply
  4. i
    indian(ncr)
    Nov 22, 2016 at 8:56 am
    पोखरा तो पहले से ही थूका हुआ है इतना पिछवाड़े में दर्द हो रहा है
    Reply
  5. O
    om
    Nov 22, 2016 at 11:49 am
    ...new
    Reply
  6. O
    om
    Nov 22, 2016 at 11:48 am
    jhothi khabar per dhyan na de ye bhi dekhe
    Reply
  7. P
    pokhra
    Nov 22, 2016 at 7:31 am
    भाई गौरव पहले तू अपने मुंह पे थूक ले एहि बहूत है
    Reply
  8. R
    raj kumar
    Nov 22, 2016 at 2:34 pm
    बड़ा जल्दी विश्लेषण कर लिया आपने की भाजपा पिछड़ गई भाई दो मध्यप्रदेश और एक असम की जित कोई मने नहीं रखती क्या अगर यहासे भाजपा हर जाती तो पता नहीं आप क्या लिखते बड़ी जल्बाजी हे आपको
    Reply
  9. S
    satyampateriya
    Nov 22, 2016 at 8:59 am
    कांग्रेसी अखवार..MP में दोनों सीटें जीती, असम में जीत, बंगाल में कांग्रेस और बाम को पीछे कर दूसरे नंबर पर, त्रिपुरा में दूसरे पर...और क्या चाहिए भाई तुझे...कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ हो गया, वो नहीं लिखा...पेड मीडिया
    Reply
  10. Load More Comments
सबरंग