December 02, 2016

ताज़ा खबर

 

शहीद BSF जवान गुरनाम सिंह की बहन की पीएम मोदी से अपील- मेरे भाई के नाम से बने ‘स्पेशल’ हॉस्पिटल

बीएसएफ के जवान गुरनाम सिंह की मौत के बाद उनकी बहन गुरजीत कौर ने कहा कि सरकार को उनके भाई के नाम से एक हॉस्पिटल बनवाना चाहिए।

बीएसएफ के जवान गुरनाम सिंह की बहन गुरजीत कौर।

बीएसएफ के जवान गुरनाम सिंह की मौत के बाद उनकी बहन गुरजीत कौर ने कहा कि सरकार को उनके भाई के नाम से एक हॉस्पिटल बनवाना चाहिए। जिसमें सिर्फ बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (बीएसएफ) के जवानों का इलाज हो। गुरजीत सिंह ने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी निवेदिन किया। गुरजीत कौर ने कहा, ‘हमारी दुआ कबूल नहीं हुई और मेरा भाई देश के लिए कुर्बान हो गया। हमें बहुत गर्व है कि मेरा भाई देश के लिए शहीद हुआ है। मोदी से सिर्फ एक ही रिक्वेस्ट है कि बीएसएफ जवानों की केयर की जाए। जिस तरह से मेरा भाई वहां पड़ा हुआ था किसी ने कोई केयर नहीं की। किसी और जवान की हालत मेरे भाई जैसी ना हो। मोदी सरकार से एक ही विनती है कि बीएसएफ के लिए स्पशलिस्ट हॉस्पिटल बनाया जाए। जवानों के लिए स्पेशलिस्ट बनाया जाए। मेरे वीरे के नाम का हॉस्पिटल बनवाया जाए। ‘

गौरतलब है कि 24 साल के गुरनाम पाकिस्तान की तरफ से हुई फायरिंग में घायल हुए थे। उनका इलाज जम्मू के अर्निया में चल रहा था जहां रविवार आधी रात को उन्होंने दम तोड़ दिया। 19-20 अक्टूबर की रात को जम्मू के हीरानगर सेक्टर के बोबिया पोस्ट पर गुरनाम की अपने कुछ साथियों के साथ आतंकियों से मुठभेड़ हुई थी। गुरनाम के मुस्तैदी के चलते ही आतंकी सीमा पारकर भारत में नहीं घुस पाए थे। इसके बाद 21 अक्टूबर को सुबह नौ बजकर पैंतीस मिनट पर पाकिस्तानी रेंजर्स ने बदला लेने के ख्याल से स्नाइपर रायफल्स से गुरनाम को निशाना बनाया। इसके बाद से उसकी हालत काफी गंभीर बनी हुई थी। गुरनाम पांच साल पहले बीएसएफ में भर्ती हुए थे सिख परिवार में जन्मे गुरनाम जम्मू के रणवीरसिंह पुरा इलाके के रहने वाले हैं।

Read Also: BSF जवान गुरनाम सिंह शहीद, पाकिस्तानी रेंजर्स ने स्नाइपर रायफल्स से बनाया था निशाना

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 23, 2016 11:10 am

सबसे ज्‍यादा पढ़ी गईंं खबरें

सबरंग