ताज़ा खबर
 

मोदी को परखने के लिए महाराष्ट्र-हरियाणा में भाजपा को मिला फायदा: मायावती

लखनऊ। महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों में बसपा के अत्यंत खराब प्रदर्शन पर अपनी पहली प्रतिक्रिया में मायावती ने मंगलवार को कहा कि जनता केंद्र की मोदी सरकार को और समय देकर जांचना परखना चाहती है, जिसका सीधा फायदा भाजपा को दोनों राज्यों के चुनावों में मिला। बसपा प्रमुख ने कहा, इन चुनाव परिणामों को […]
Author October 22, 2014 11:52 am
मोदी जी, खिचड़ी नहीं दिलाएगी दलित वोट: मायावती

लखनऊ। महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों में बसपा के अत्यंत खराब प्रदर्शन पर अपनी पहली प्रतिक्रिया में मायावती ने मंगलवार को कहा कि जनता केंद्र की मोदी सरकार को और समय देकर जांचना परखना चाहती है, जिसका सीधा फायदा भाजपा को दोनों राज्यों के चुनावों में मिला।
बसपा प्रमुख ने कहा, इन चुनाव परिणामों को केंद्र की सफलता के रूप में नहीं माना जाना चाहिए क्योंकि देश की जनता ने केंद्र में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार को हटाकर भाजपा के नेतृत्व वाली राजग सरकार को बैठाया और अब यह सोचकर उसी भाजपा-राजग को वोट दिया कि नई केंद्र सरकार को अभी छह महीने का समय भी नहीं हुआ है।

 

उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री मोदी भी बार-बार इस बारे में समय की मांग कर रहे हैं, इसलिए जनता ने सोचा कि इस सरकार को थोड़ा और समय देकर जांचा परखा जाए। इसी का सीधा फायदा भाजपा को इन विधानसभा चुनावों में हुआ और बसपा को खास सफलता नहीं मिल पाई।

 

मायावती ने बसपा की उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड प्रदेश इकाइयों के पदाधिकारियों की बैठक में कहा कि हरियाणा और महाराष्ट्र के लोग मोदी के इस बहकावे में आ गए कि कांग्रेस के मुकाबले उनके प्रदर्शन को इतने कम समय में नहीं आंका जाए। इसका भाजपा को फायदा मिला और संभव है कि आने वाले समय में जिन राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं, वहां भी भाजपा अपने इस तर्क से लोगों को बरगलाने में थोड़ा सफल हो जाए।

 

मायावती ने कहा कि यह वास्तविकता जगजाहिर है कि भाजपा ने चुनाव के दौरान जितने भी जनहित से जुडेÞ वायदे देश की जनता से किए थे, उन्हें पूरा करने के लिए अब तक कोई ठोस और सही कदम नहीं उठाया गया है।

 

उन्होंने कहा, इतना ही नहीं काला धन वापस लाने के मामले में मोदी सरकार ने शुतुरमुर्ग की तरह अपना मुंह रेत में छिपा लिया है और अपने चुनावी वायदे से एकदम उलट वही गलत रवैया अपना लिया है, जो रवैया इस मामले में कांग्रेस पार्टी का रहा था कि काला धन रखने वालों के नाम तक जनता को नहीं बताए जा सकते हैं, विदेश से काला धन वापस लाना तो दूर की बात है। बसपा प्रमुख ने कहा कि देश के गरीबों को सरकारी खर्च पर पक्का मकान बनाकर देने का वायदा किया गया था। परंतु ऐसा नहीं करके इस मामले को भी ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है। अब इस सरकार ने सांसद निधि से गांव के विकास की नयी पैंतरेबाजी शुरू कर दी है जबकि इस कार्य के लिए सांसद निधि की बजाय अलग से सरकारी धन का इंतजाम किया जाना चाहिए था।

 

 

उन्होंने कहा, भाजपा व्यापारी वर्ग की पार्टी है और उसी वर्ग को लाभ पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार ने एक और यू टर्न लेते हुए डीजल की कीमत को सरकारी नियंत्रण से मुक्त कर दिया है। यह विशुद्ध रूप से महंगाई को और बढ़ाने वाला फैसला है और पूर्ण रूप से जन विरोधी और किसान विरोधी है। यही कारण है कि मोदी सरकार ने यह फैसला हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद लिया है।

 

मायावती ने कहा कि स्वच्छ भारत के नाम पर तरह-तरह की नाटकबाजी की जा रही है। आज भी सार्वजनिक सफाई के लिए वही सदियों पुरानी झाड़ू का ही सहारा लिया जा रहा है जबकि बेहतर होता कि इसके लिए समुचित धन की व्यवस्था कर नई मशीनों का इस्तेमाल सुनिश्चित किया जाता। उन्होंने कहा कि इतना ही नहीं, देश की करोड़ों गरीब जनता के हित और कल्याण के लिए अब तक कोई ठोस कदम नहीं उठाकर केंद्र की भाजपा सरकार केवल पूंजीपतियों की उम्मीदों के मुताबिक कार्य करने में व्यस्त नजर आती है।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग