ताज़ा खबर
 

‘आप’ के ख़िलाफ़ ‘अवाम’ के आरोप के पीछे भाजपा का हाथ: दिग्विजय

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने आज संदेह जताया कि आम आदमी पार्टी से अलग हुए स्वयंसेवियों के समूह के आरोपों के पीछे भाजपा की भूमिका हो सकती है। इस समूह ने आरोप लगाया था कि केजरीवाल ने पिछले साल चार ‘‘फर्जी’’ कंपनियों से कथित रूप से दो करोड़ रूपये लिए थे। दिग्विजय ने एक ट्वीट […]
Author February 3, 2015 18:49 pm
दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘‘अच्छे दिन सिर्फ मोदी और अमित शाह के लिए आए हैं।’’

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने आज संदेह जताया कि आम आदमी पार्टी से अलग हुए स्वयंसेवियों के समूह के आरोपों के पीछे भाजपा की भूमिका हो सकती है। इस समूह ने आरोप लगाया था कि केजरीवाल ने पिछले साल चार ‘‘फर्जी’’ कंपनियों से कथित रूप से दो करोड़ रूपये लिए थे।

दिग्विजय ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘यदि यह आप को शर्मिंदा करने के लिए भाजपा के डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट ने किया है तो मुझे हैरानी नहीं होगी। क्या जेटली चंदा देने वालों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे?’’

यह उल्लेख करते हुए कि वह केजीवाल के ‘‘बड़े प्रशंसक’’ नहीं हैं, वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि हालांकि भाजपा को यह चुनौती देने में केजरीवाल सही हैं कि भाजपा उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करे जिन्होंने चेक के जरिए दो करोड़ रूपये दिए थे।

समूह ‘आप वॉलंटियर एक्शन मंच’ (अवाम) ने दावा किया कि आप को धन पिछले साल 15 अप्रैल की आधी रात चंदे में दिया गया था। अवाम के करन सिंह और गोपाल गोयल ने आरोप लगाया कि चार ‘‘फर्जी कंपनियों’’ से 50-50 लाख रुपये का चंदा आप के खाते में भेजा गया था।

आप ने कहा है कि आरोप दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी की छवि को खराब करने की साजिश का हिस्सा हैं। इसने सरकार को किसी भी एजेंसी से मामले की जांच कराए जाने की चुनौती दी।

अवाम के आरोपों को लेकर भाजपा ने आप पर हमला किया था और दावा किया था कि इसको मिला धन संदिग्ध है। भाजपा ने आप पर यह भी आरोप लगाया था कि वह धनशोधन और कालाधन झोंकने में शामिल है।

भगवा पार्टी ने आप पर ‘‘फर्जी’’ कंपनियों से धन हासिल करने का आरोप लगाते हुए एक नया विज्ञापन भी जारी किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    RAJGUPTA
    Feb 3, 2015 at 10:20 pm
    इन महाशय की कॉमेंट कोई सुनता नहीं समजने को तैयार नहीं है
    (0)(0)
    Reply
    1. R
      RAJGUPTA
      Feb 3, 2015 at 10:20 pm
      इन महाशय की कॉमेंट कोई सुनता नहीं समजने को तैयार नहीं है
      (0)(0)
      Reply
      1. R
        RAJGUPTA
        Feb 3, 2015 at 6:47 pm
        इनकी बात कोई सुनता भी नहीं है ,केवल होता है ,क्यों की जब भी ये बोलते है गलत और बिना सबूत के बोल कर अपने ही पैरो पर कोल्हाड़ी मार ते है ,इज्जत तो है नहीं,, . में ही लुटिया डुबोई है ,ऐसे बड़बोलों को चुप कराने में ही कांग्रेस की भलाई है ,बे वजह बक बक करने से असली कांग्रेस जानो को भी आघात लगता है ,तो वो भी चुप रहे कर अपना विरोध दर्ज कराते है , और सोनिया व राहुल को अपने नसीब पर छोड़ देते है
        (0)(0)
        Reply
        1. R
          RAJGUPTA
          Feb 3, 2015 at 6:47 pm
          इनकी बात कोई सुनता भी नहीं है ,केवल होता है ,क्यों की जब भी ये बोलते है गलत और बिना सबूत के बोल कर अपने ही पैरो पर कोल्हाड़ी मार ते है ,इज्जत तो है नहीं,, . में ही लुटिया डुबोई है ,ऐसे बड़बोलों को चुप कराने में ही कांग्रेस की भलाई है ,बे वजह बक बक करने से असली कांग्रेस जानो को भी आघात लगता है ,तो वो भी चुप रहे कर अपना विरोध दर्ज कराते है , और सोनिया व राहुल को अपने नसीब पर छोड़ देते है
          (0)(0)
          Reply
          1. R
            RAJGUPTA
            Feb 3, 2015 at 6:47 pm
            इनकी बात कोई सुनता भी नहीं है ,केवल होता है ,क्यों की जब भी ये बोलते है गलत और बिना सबूत के बोल कर अपने ही पैरो पर कोल्हाड़ी मार ते है ,इज्जत तो है नहीं,, . में ही लुटिया डुबोई है ,ऐसे बड़बोलों को चुप कराने में ही कांग्रेस की भलाई है ,बे वजह बक बक करने से असली कांग्रेस जानो को भी आघात लगता है ,तो वो भी चुप रहे कर अपना विरोध दर्ज कराते है , और सोनिया व राहुल को अपने नसीब पर छोड़ देते है
            (0)(0)
            Reply
            1. S
              suresh k
              Feb 3, 2015 at 8:45 pm
              इनके प्रेम प्रसंग का क्या हुआ ? ये कांग्रेस के कालिदास है ?ये कौन नहीं जानता कि दोनों पार्टिया चंदे में ब्लैक मनी लेती है ? ये सब कांग्रेस का काला इतिहास है , दिग्विजय अपनी चोच बंद ही रखे .
              (0)(0)
              Reply
              1. Load More Comments
              सबरंग