ताज़ा खबर
 

मोदी के आरोपों पर नीतीश के बोल, बीजेपी माने ‘बड़का झूठा पार्टी’

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जद (एकी) को ‘जनता का दमन और उत्पीड़न’ की संज्ञा दिए जाने पर पलटवार करते हुए बीजेपी (भाजपा) को ‘बड़का झूठा पार्टी’ बताया।
Author August 10, 2015 08:50 am
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (पीटीआई फोटो)

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जद (एकी) को ‘जनता का दमन और उत्पीड़न’ की संज्ञा दिए जाने पर रविवार को उन पर पलटवार करते हुए बीजेपी (भाजपा) को ‘बड़का झूठा पार्टी’ बताया।

उन्होंने कहा ‘भाजपा को हमलोग ‘भारतीय जुमला पार्टी’ कहते थे लेकिन आप जिस स्तर पर चुनावी बातचीत को ले जा रहे हैं अब उससे काम नहीं चलने वाला है, अब उस व्याकरण के अनुसार भाजपा का नाम ‘बड़का झूठा पार्टी’ को छोड़ कर कोई दूसरा नाम नहीं सूझ रहा है’।

उन्होंने कहा, ‘हम एक ही निवेदन करेंगे कि एक स्तर को बनाए रखा जाना चाहिए। आना ठीक है। भाजपा आपकी है और अब सिर्फ आपकी और बची-खुची अमित शाह जी की है जिन्होंने नए-नए गुण (जेल से लौटने बाद) सीख लिए हैं जिसके लिए आपने उन्हें प्रतिष्ठित किया। अब यह न तो आडवाणी जी, न जोशी जी, यशवंत सिन्हा और न ही जसवंत जी की है’।

चारा घोटाले में दोषी ठहराए जाने पर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद पर चुटकी लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यह कहे जाने कि जो व्यक्ति जेल जाते हैं अच्छी चीज नहीं बुरी-बुरी चीजें सीख कर और बुराइयां लेकर आते हंै, नीतीश ने कहा कि उन्होंने अमित शाह के बारे में जो कुछ भी राय कायम की है वह मोदी जी के कथनानुसार कायम की है क्योंकि वे जेल को सुधार गृह मानते हैं।

मोदी के पूछे गए उस सवाल कि हाल ही में पटना में दिन के उजाले में, सरकार की नाक के नीचे भाजपा के एक कार्यकर्ता को गोली मार दी गई, क्या यह एक और जंगलराज की शुरुआत नहीं है, नीतीश ने कहा कि इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए आरोपियों को पकड़ा।

प्रधानमंत्री के उस आरोप कि बोधगया में बम विस्फोट की खबरों से विदेशी पर्यटक यहां आने से रुक गए, विस्फोटों के बाद बोधगया को विकसित करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया और जो लोग वोटबैंक की राजनीति में विश्वास करने वाले हैं उन्हें इसकी कहां परवाह है। इस पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बोधगया में बम धमाके का एनआइए भंडाफोड़ नहीं कर पाई पर पटना में हुए सिलसिलेवार धमाके के बाद जिस प्रकार से पटना पुलिस ने त्वरित कार्रवाई कर न केवल आतंकियों को पकड़ा बल्कि उसके आधार पटना सहित बोधगया में हुए सिलसिलेवार धमाके का भी मामला खोला। इन सब बातों को लेकर बिहार में हुए काम और यहां की सरकार पर आक्षेप लगाते हैं।

नीतीश ने कहा कि दलाई लामा सहित कई अन्य प्रमुख आए और वे यहां के बारे में क्या बोले और कोई व्यक्ति नकारात्मक बात कहे। बोधगया और गया में आने वालों की संख्या बढ़ीं और बहुत सारी सुविधाएं भी बढ़ीं।

मुजफ्फरपुर की रैली में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए ‘डीएनए’ वाली टिप्पणी करने वाले प्रधानमंत्री मोदी के रविवार के भाषण को नीतीश ने निराश करने वाला बताते हुए कहा कि जिस प्रकार की बातें कही गई हैं, वह देश के इतने बड़े नेता के मुंह से शोभा नहीं देती। लोगों को उम्मीद थी कि वे अपनी कही हुई बातों और शब्द को वापस लेकर अपनी भूल का सुधार करेंगे पर उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया उल्टे फिर ‘दुर्भाग्यशाली और बीमारू’ बता कर चले गए।

मोदी के अपनी पिछली बिहार यात्रा 25 जुलाई को मुजफ्फरपुर की रैली में पिछले लोकसभा चुनाव के समय इस प्रदेश को 50 हजार करोड़ का विशेष पैकेज दिए जाने के बारे में कहा कि वे संसद का वर्तमान सत्र खत्म होने के बाद उससे भी बढ़ कर राशि देने के वादे के बारे में कहा ‘पता नहीं किस पैकेजिंग का इंतजार हम लोगों को करना पड़ेगा। विशेष राज्य का दर्जा के बारे में खुद कहा था और अब संसद में उससे तो उनकी सरकार मुकर गई।

क्या पैकेज देंगे, हमें जो विशेष सहायता मिल रही थी उसे रोके हुए हैं और कह रहे हैं कि हम उल्टा लोटा रखे हुए हैं। कहां है उल्टा लोटा, हम तो सीधे जाकर आपके दरबार में और नीति आयोग की बैठक में गए। अनेक मुख्यमंत्रियों ने बहिष्कार किया लेकिन हम गए और सारा शिष्टाचार और मर्यादा का पालन किया। पिछली बार मुजफ्फरपुर में बोलने (नीतीश के डीएनए के बारे में टिप्पणी) के बाद उन्हें हवाई अड्डा तक विदा करने गए।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.