ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर में भाजपा के पास ‘वीटो पावर’: अरूण जेटली

जम्मू कश्मीर में सरकार गठन के लिए अपने पास कई विकल्प होने का जिक्र करते हुए भाजपा ने आज कहा कि वह राज्य में ‘वीटो पावर’ रखती है। जम्मू कश्मीर के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक वित्त मंत्री अरूण जेटली ने यहां संवादताताओं से कहा कि पार्टी निर्दलीय और अन्य विधायकों के साथ सक्रियता से संपर्क में […]
Author December 26, 2014 08:41 am
जम्मू-कश्मीर में सरकार गठन के प्रयास जारी, बीजेपी-एनसी ने बैठकों की बात से किया इनकार (फोटो: भाषा)

जम्मू कश्मीर में सरकार गठन के लिए अपने पास कई विकल्प होने का जिक्र करते हुए भाजपा ने आज कहा कि वह राज्य में ‘वीटो पावर’ रखती है।
जम्मू कश्मीर के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक वित्त मंत्री अरूण जेटली ने यहां संवादताताओं से कहा कि पार्टी निर्दलीय और अन्य विधायकों के साथ सक्रियता से संपर्क में है।

उन्होंने कहा, ‘‘चाहे जो कोई सरकार बनाए, भाजपा की उसमें एक अहम भूमिका होगी।’’

जेटली ने कहा कि राज्य में अब भाजपा के पास ‘वीटो पावर’ है। इससे पहले वीटो पावर कांग्रेस के पास थी अब यह भाजपा के हाथों में है।

भाजपा के नवनिर्वाचित विधायकों से मिलने के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि विधायकों ने सरकार गठन पर भविष्य की रणनीति के लिए पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को अधिकृत किया है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे लिए सारे विकल्प खुले हैं। पार्टी के नव निर्वाचित विधायकों ने फैसला किया है कि वे पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के फैसले के अनुरूप जाएंगे जो पार्टी, राज्य और देश के लिए अच्छा फैसला लेंगे।’’

वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व यह फैसला करेगा कि वह :पार्टी: विधानसभा में कहां बैठना चाहती है या सरकार का गठन कैसे करना चाहती है।’’

नेशनल कांफ्रेंस या पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के साथ भाजपा के जाने के बारे में एक सवाल पूछे जाने पर जेटली ने कहा, ‘‘हम तीन सिद्धांतों का पालन करेंगे, ये सिद्धांत हैं, राष्ट्रीय संप्रभुता मजबूत करना, इस क्षेत्र का विकास और क्षेत्रीय संतुलन को कायम रखना।’’

उन्होंने इस सिलसिले में मीडिया में आई इन खबरों को गलत बताया कि उन्होंने सरकार गठन को लेकर मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के साथ चर्चा की है।
जेटली ने कहा, ‘‘इस बारे में कुछ गलत खबरें आई और मैं सिर्फ आपसे उन खबरों पर नहीं जाने का अनुरोध करता हूं जो सही नहीं हैं।’’

जेटली ने कहा कि भले ही पीडीपी को विधानसभा में सर्वाधिक सीटें मिली हों, पर भाजपा को लोकप्रिय वोट मिले क्योंकि इसका वोट प्रतिशत अन्य पार्टियों की तुलना में अधिक है।

उन्होंने कहा, ‘‘जनादेश खंडित है लेकिन चुनाव सरकार के गठन के लिए हुआ है। पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों ने कई मुद्दों पर चर्चा की…जैसे कि खंडित जनादेश वाली विधानसभा में किस तरह की सरकार गठित हो सकती है, विधानसभा में पार्टी का नेतृत्व कौन करेंगे।’’

उन्होंने कहा कि नव निर्वाचित विधायक इस आम राय पर पहुंचे हैं कि अमित शाह के नेतृत्व में पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व इन मुद्दों पर आखिरी फैसला लेगा।
पार्टी विधायकों की बैठक में भाजपा के केंद्रीय पर्यवेक्षक के रूप में आए जेटली ने कहा कि नव निर्वाचित प्रतिनिधियों में यह आमराय है कि सरकार का गठन अवश्य होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि जम्मू क्षेत्र में पार्टी ने 37 सीटों में 25 पर शानदार जनादेश हासिल किया जबकि कश्मीर घाटी में जनादेश बंटा हुआ रहा।
उन्होंने कहा, ‘‘जम्मू ने भाजपा के पक्ष में वोट डाला जबकि घाटी बंटी हुई रही।’’

बिलावर सीट से भाजपा के नव निर्वाचित विधायक ने भरोसा जताया कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री उनकी पार्टी से होगा। राज्य में पार्टी के लिए सारे विकल्प खुले हुए हैं।

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग