ताज़ा खबर
 

गौमांस का समर्थन करने वाले लालू पापों की सजा भोग रहे हैं: बीजेपी

जहां एक ओर लालू प्रसाद यादव अपने तीखे बयानों से पीएम मोदी पर हमलेबाजी कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर बिहार में बीजेपी लीडर और पूर्व मुख्यमंत्री सुशील मोदी उन्हें टारगेट करते नजर आ रहे हैं।
Author नई दिल्ली/ पटना | October 17, 2015 14:57 pm
(Pic-Twitter)

जहां एक ओर लालू प्रसाद यादव अपने तीखे बयानों से पीएम मोदी पर हमलेबाजी कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर बिहार में बीजेपी लीडर और पूर्व मुख्यमंत्री सुशील मोदी उन्हें टारगेट करते नजर आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन दिनों लालू यादव अपने पापों की सजा भोग रहे हैं। यही वजह है कि कभी उनका मंच टूटता है तो कभी पंखा गिरता है।

उन्होंने अपने ट्विटर एकाउंट पर लिखा कि कभी लालू प्रसाद का मंच टूटता है, तो कभी उनके ऊपर पंखा गिरता है।

फिर भी वे नहीं समझ पा रहे हैं कि उन्हें 15 साल के जंगलराज, गोमांस खाने का समर्थन और ब्राह्मणों को खुलेआम गाली देने के पाप की सजा जल्द ही मिलने जा रही है। देवी मां का लॉकेट किसी पथभ्रष्ट को नहीं बचा सकता।

गौरतलब हो कि बिहार के मोतिहारी जिले के लख़ौरा में शुक्रवार की दोपहर राजद की चुनावी सभा के दौरान मंच पर टंगे पंखा के अचानक गिरने से राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद बाल बाल बच गए।

इस दौरान लालू यादव मंच पर चाय पी रहे थे, कि अचानक पंखा गिरा इससे उन्हें दाहिने हाथ में मामूली चोट लगी। पंखा गिरने से लगी मामूली चोट के बाद लालू ने कहा कि उन्हें मां शेरावाली ने बचा लिया। उन्होंने कहा कि मेरे साथ कोई कितना भी वाण चलाएगा लेकिन मुझे कुछ नहीं होगा।

गौरतलब है कि इसके पहले को बिहार चुनाव की रैली के दौरान मंच गिरने से बाल-बाल बचे थे। सुशील मोदी न सिर्फ लालू को आड़े हाथों लिया बल्कि सीएम नीतीश पर भी हमला बोला।

सुशील मोदी ने ट्विट किया कि नीतीश कुमार ने बीजेपी से गठबंधन तोड़कर खुद को इतिहास के कूड़ेदान में डाल लिया। जनता को छोड़ कर लालू प्रसाद एंड संस की सेवा करने से उनके अच्छे दिन नहीं लौटेंगे।

बताते चलें कि इससे पहले सुशील मोदी ने नीतीश पर निशाना साधते हुए यह भी कहा था कि उनकी सरकार में महिलाएं सुरक्षित नहीं है और शराब का कारोबार फल फूल रहा है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. N
    Naveen Bhargava
    Oct 17, 2015 at 8:14 pm
    Reply
  2. सुनील राज
    Oct 17, 2015 at 3:56 pm
    महज अन्धविश्वास को बढावा और चुनावी जुे वाजी ,,,,,
    Reply
सबरंग