ताज़ा खबर
 

बाबा रामदेव बोले- कानून का राज है नहीं तो भारत माता की जय न बोलने वालों के सिर काट सकते हैं

भारत माता का नारा लगाने का विवाद ओवैसी के आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को दिए गए जवाब के बाद शुरू हुआ
Author April 3, 2016 22:40 pm
योग गुरू रामदेव

भारत माता की जय बोलने को लेकर चल रहे विवाद में योग गुरु बाबा रामदेव भी कूद पड़े हैं। उन्‍होंनें ऑल इंडिया मजलिस ए इत्‍तेहादुल मुसलमीन के अध्‍यक्ष असदुद्दीन ओवैसी पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि अगर कानून का राज नहीं होता तो भारत माता की जय न बोलने वालों के सिर काट लिए जाते। उन्‍होंने कहा,’ यदि कोर्इ कहता है कि अगर मेरा सिर भी काट लोगे तो भी मैं भारत माता की जय नहीं कहूंगा। मैं कहना चाहता हूं कि कानून का राज है। हम संविधान का सम्‍मान करते हैं अन्‍यथा हम सैंकड़ों-हजारों सिर काट सकते हैं।’

भारत माता का नारा लगाने का विवाद ओवैसी के आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को दिए गए जवाब के बाद शुरू हुआ। ओवैसी ने महाराष्‍ट्र के लातूर जिले में एक रैली के दौरान कहा था,’ मैं यह नारा नहीं लगाऊंगा। आप क्‍या कर लोगे भागवत साहब। अगर आप मेरे गले पर चाकू रख देंगे तो भी मैं यह नारा नहीं लगाऊंगा।’ इसके बाद से इस मामले में काफी कुछ घट चुका है। अलग-अलग पार्टियों के कई नेता इस संबंध में बयान दे चुके हैं।

इस मामले में एआईएमआर्इएम के विधायक वारिस पठान को महाराष्‍ट्र विधानसभा से सस्‍पेंड भी किया जा चुका है। पठान ने भी भारत माता की जय बोलने से इनकार किया था। रामदेव से पहले शनिवार को महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा था कि भारत माता की जय न बोलने वालों को देश में रहने का कोई हक नहीं है। हालांकि उन्‍होंने बाद में इस पर सफाई भी दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. N
    NARESH KUMAR
    Apr 5, 2016 at 4:35 am
    Bharat mata ki jay bolna bhagya ki बात है.सच्चे हिंदुस्तानी को इस बात के लिए जोर नहीं देना पड़ता.जैसे जावेद अख्तर साहब,बिर हामिद, अशफ़ाक़,आदि.
    (0)(0)
    Reply
    1. Rabindra Nath Roy
      Apr 4, 2016 at 5:56 am
      रामदेब, कॉ मालुम हॉवे कि इस देश मे कानुन का राज नही, मोदी का राज है, ये तो शुक्र है उन शहीदॉ की, उन समझदार बुजुर्गॉ की जिन्हॉने ये आज से ७० साल पहले सोचा कि हॉ सकता है कि इस देश मे रामदेब, मॉहन भागवत जैसे लोग आ सकते है तभी तो न्याय ब्यवस्था कॉ इन राजनैतिकॉ के हाथ से बाहर रक्खा. कानुन का राज हॉता तो रामदेब जी का आइसलैन्ड के द्वीप की खरिद्दारी कॉ लेकर उनपर चल रहे मनी लौन्डरिन्ग माे की वापसी मॉदी के प्रधान मन्त्री बनने के साथ ही वापस कैसे हुआ? रामदेब जॉ मोदी का राज है तभी तॉ ऐसा बॉले हॉ .
      (0)(1)
      Reply
      1. S
        suresh k
        Apr 3, 2016 at 5:42 pm
        बाबा ने ी बोला है , गुरु गोविंदजी के दोनों बेटो को दीवार में चिनवा दिया था इन दरिंदो ने
        (1)(0)
        Reply
        1. S
          suresh k
          Apr 4, 2016 at 9:43 am
          बे सर पैर के आरोप न लगाए , बाबा अपना परिवार नहीं चला रहे , देश सेवा कर रहे है
          (0)(0)
          Reply