ताज़ा खबर
 

BJP से नाराज शत्रुघ्‍न लालू-नीतीश से मिले, कहा- पार्टी एक्‍शन लेती है तो ले

सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा सोमवार दोपहर को नीतीश कुमार से मिलने पहुंचे। बीजेपी शत्रुघ्‍न पर एक्‍शन की तैयारी कर रही है। ऐसे में नीतीश के साथ उनकी मुलाकात को बेहद अहम माना जा रहा है।
Author नई दिल्‍ली | November 10, 2015 02:56 am

बिहार चुनाव में महागठबंधन के हाथों मिली हार के बाद बीजेपी में घमासान मच गया है। रविवार को खुल कर पार्टी नेतृत्‍व को हार के लिए जिम्‍मेदार ठहराने वाले शत्रुघ्‍न सिन्‍हा ने सोमवार को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार और राजद प्रमुख लालू प्रसाद से मुलाकात की। नीतीश के घर से निकलने के बाद मीडिया से उन्‍होंने कहा- मैंने पार्टी के खिलाफ किसी रूप में कोई काम नहीं किया है। अगर वे मेरे खिलाफ कार्रवाई करना चाहते हैं, तो मैं रोक नहीं सकता। सिन्‍हा ने नीतीश की तुलना ज्‍योति बसु से कर दी। उन्‍होंने कहा कि वह ज्‍योति बसु के बाद उनके जैसा नेता नीतीश कुमार को ही देख रहे हैं। सिन्‍हा के ख्‍ािलाफ पार्टी में काफी आवाजें उठ रही हैं। वह खुद भी पार्टी नेतृत्‍व के खिलाफ खुलेआम बयानबाजी करते रहे हैं। एेसे में उन पर कार्रवाई किए जाने की अटकलें हैं।

बिहार चुनाव हारने के बाद भाजपा के कई नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्‍यारोप लगा रहे हैं। कोई शीर्ष नेतृत्‍व को हार का जिम्‍मेदार ठहरा रहा है तो कोई स्‍थानीय नेताओं को कसूरवार बता रहा है। ताजा बयान बीजेपी सांसद हुकुमदेव नारायण यादव और अश्विनी कुमार चौबे का आया है। दोनों नेताओं ने हार के लिए संघ प्रमुख मोहन भागवत को जिम्‍मेदार ठहराया है। इनका आरोप है कि भागवत के बयान से बिहार की जनता के पास संदेश गया कि बीजेपी तो आरएसएस की गुलाम है। हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री शांता कुमार ने पार्टी लीडरशिप के सिर हार का ठीकरा फोड़ा है। उन्‍होंने अमित शाह का नाम लिए बिना कहा कि चुनाव में जाने से पहले पार्टी ईमानदारी से आत्‍मचिंतन नहीं किया था।

बिहार में हार के लिए मोदी, जेटली और अमित शाह जिम्‍मेदार: अरुण शौरी

पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी ने रविवार को यहां कहा कि बिहार चुनावों में हार के लिए नरेंद्र मोदी, अमित शाह और अरुण जेटली को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पार्टी में नेतृत्व के खिलाफ ‘शांत असहयोग आंदोलन’ अब और गहराएगा। शौरी ने कहा कि किए गए वायदों के पूरा न होने की वजह से मोदी केंद्रित अभियान में विश्वसनीयता की कमी थी। उन्होंने कहा कि हार के लिए भाजपा की विभाजक नीतियां जिम्मेदार हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने अमित शाह और अरुण जेटली पर मोदी के खिलाफ एक ऐसा घेरा बनाने का आरोप लगाया जिसकी वजह से विपक्षी दलों, जिनके हाथ में 69 फीसदी से ज्यादा वोट थे, ने एकजुट होकर गठबंधन बनाया। उन्होंने कहा कि भाजपा महज 31 फीसद मतों के साथ मोदी की लोकप्रियता की वजह से सत्ता में आई थी। यह पूछे जाने पर कि हार के लिए किसे जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए, शौरी ने कहा- ‘ये मोदी, मुख्य रणनीतिकार शाह और जेटली हैं। इनके अलावा पार्टी या सरकार में कोई चौथा व्यक्ति नहीं है।’ जब उनसे पूछा गया कि बिहार में पार्टी के प्रचार अभियान में क्या गलत हुआ, शौरी ने कहा-‘सब कुछ।’

शत्रुघ्‍न सिन्‍हा बोले- बिहारी VS बाहरी का झगड़ा अब खत्‍म

बिहार चुनाव में बीजेपी की हार पर विरोधियों के साथ अपने भी चुटकी ले रहे हैं। रविवार को महागठबंधन की जीत के बाद पार्टी से नाराज चल रहे सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि अब ‘बिहारी और बाहरी’ का मुद्दा हमेशा के लिए सुलझ गया है। शत्रुघ्न ने ट्वीट कर लिखा- लालूजी और नीतीशजी को बिहार चुनावों में जीत के लिए बधाई। हम जनता के जनादेश के आगे नतमस्तक हैं। यह लोकतंत्र की और बिहार की जनता की जीत है। मैं उन्हें सेल्यूट करता हूं। ऐसा लगता है कि बिहारी बनाम बाहरी (और बिहारी बाबू की अनुपस्थिति) का मुद्दा अब हमेशा के लिए सुलझ गया है।

तय करनी होगी हार की जिम्‍मेदारी: आरके सिंह

बीजेपी नेता आरके सिंह ने रविवार को कहा- पार्टी लीडरशिप को हार का आकलन करना होगा और जिम्‍मेदारी भी तय करनी होगी। उन्‍होंने आगे कहा कि बिहार में ऐसा लगता है कि पार्टी के पास नेतृत्‍व ही नहीं है। आरके सिंह ने टिकट बंटवारे के वक्‍त आरोप लगाया था कि उम्‍मीदवारों से पैसे लिए जा रहे हैं।

राव का पलटवार, शत्रुघ्‍न ने हरवाया चुनाव

चुनाव में हार के बाद बीजेपी नेता शत्रुघ्‍न पर धोखा देने का आरोप लगा रहे हैं। बीजेपी महासचिव पी. मुरलीधर राव ने कहा कि हम नीतीश कुमार को उनकी जीत पर बधाई देते हैं। हम अपनी हार पर आत्ममंथन करेंगे। हमें आरके सिंह और शत्रुघ्न ने धोखा दिया। इन दोनों के खिलाफ एक्शन लिया जाना चाहिए।

Also Read…

काउंटिंग डे की Inside Story: हार के बाद मां की तस्‍वीर के आगे 2 मिनट खड़े रहे अमित शाह 

इखलाक का बेटा बोला- बिहार चुनाव में BJP की हार मेरे पिता को देश की श्रद्धांजलि 

हार पर पाकिस्‍तानी अखबारों का वार, लिखा- बिहार वाले ले गए मोदी के पटाखे 

बिहार के नतीजों का केरल, असम, यूपी, तमिलनाडु, प. बंगाल चुनावों पर क्‍या होगा असर, जानिए 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. K
    Kamlesh Kumar Mishra
    Nov 9, 2015 at 2:40 pm
    यदि अमित शाह और संघ प्रमुख को हार का जिम्मेदार माना जा रहा है तो लोक सभा चुनाव की जीत भी उन्ही के खाते में होगी . इसलिए जो जीतना जानता है वह हार का सामना भी करना जानता है . जो चलना ही नहीं चाहता उसे ठोकर कहाँ से लगेगी . इस जीत की जिम्मेदार बिहार की जनता है उसे जीत का सुख भोग लेनी दें . जब वह दिल्ली की जनता की तरह समझ जायेगी तो ठीक रहेगा . जिस भारत की जनता को साठ साल कांग्रेस की असलियत समझ नहीं आयी तो बिहार भी भारत में ही है .
    Reply
    1. A
      anil kumar
      Nov 10, 2015 at 2:21 pm
      केश जी कांग्रेस को ६० साल जनता ने उसके काम के लिए दिए हमारे देश की जनता किसी को ५ साल नहीं देती आप जुे और झूठे वादे व् भावनाओ से एक बार चुनाव जीत सकते है बार बार नहीं आज यदि चुनाव हो तो आप सोचे भाजपा कँहा खड़ी होगी मित्र पार्टी नहीं देश से प्रेम करो और ी मायनो में निर्णय करो जो हर धर्म जाति पंथ को साथ लेकर चले वही देश को आगे ले जायेगा धन्यबाद
      Reply
    2. O
      Omprakash
      Nov 9, 2015 at 8:10 pm
      महगाई डायन मर गयी मोदीजी, काला धन कहा है, विदेश यात्राये कुछ काम हो सके तो कर दीजिये, जनता के बीच में जाइये अगर यह कर सकते तो व्ही कांग्रेश जैसा हाल होंने वाला है तैयार हो जाइये.
      Reply
      सबरंग